script चिकित्सा शिक्षा आयुक्त अचानक पहुंचे एसएमएस अस्पताल, किया निरीक्षण | Medical Education Commissioner suddenly reached SMS Hospital | Patrika News

चिकित्सा शिक्षा आयुक्त अचानक पहुंचे एसएमएस अस्पताल, किया निरीक्षण

locationजयपुरPublished: Dec 29, 2023 11:08:08 am

Submitted by:

Manish Chaturvedi

चिकित्सा शिक्षा आयुक्त शिव प्रसाद नकाते ने गुरुवार को अचानक एसएमएस अस्पताल पहुंचे।

चिकित्सा शिक्षा आयुक्त अचानक पहुंचे एसएमएस अस्पताल, किया निरीक्षण
चिकित्सा शिक्षा आयुक्त अचानक पहुंचे एसएमएस अस्पताल, किया निरीक्षण

जयपुर। चिकित्सा शिक्षा आयुक्त शिव प्रसाद नकाते ने अचानक एसएमएस अस्पताल पहुंचे। उन्होंने विभिन्न विभागों में जाकर करीब 5 घन्टे तक बारीकी से निरीक्षण किया। आउटडोर एवं इनडोर सुविधाओं सहित धन्वतरी भवन, बांगड़ अस्पताल आदि का गहन निरीक्षण किया। उन्होंने डॉक्टरों की उपस्थिति, प्रत्येक दवा काउंटर और जांच केंद्र पर जाकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने आउटडोर और इनडोर में मरीजों एवं उनके परिजनों से बात कर चिकित्सा सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। इससे पहले सीएमएचओ प्रथम विजय सिंह फौजदार ने कालवाड़ स्थित सीएचसी में अचानक जाकर निरीक्षण किया था।

बता दें कि सरकारी अस्पतालों में बिगड़ते हालातो को सुधारने के लिए अब अफसर हर दिन अस्पतालों का दौरा कर रहे हैं। चिकित्सा विभाग के छोटे से लेकर बड़े अफसर तक अस्पतालों में अचानक निरीक्षण करने के लिए जा रहे हैं। ऐसा तब हो रहा है जब सीएम भजनलाल शर्मा ने पिछले दिनों एसएमएस अस्पताल का अचानक निरीक्षण किया था। इस दौरान एसएमएस अस्पताल में सीएम के सामने कई व्यवस्थाएं सामने आई। जिसे देखकर सीएम ने नाराजगी जताई। यहां तक की स्टाफ भी पूरी तरीके से ड्यूटी पर नजर नहीं आया। इसके बाद लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर विभागीय कार्रवाई की गई।

सीएम भजनलाल शर्मा के इस दौरे ने चिकित्सा विभाग की नींद उड़ा दी। इसके बाद अब हर दिन सीएमएचओ व अन्य चिकित्सा अधिकारी किसी ने किसी अस्पताल में निरीक्षण के लिए अचानक जाते हैं और अस्पतालों में दवा आदि की जांच करते हैं। मौके पर ड्यूटी में कौन-कौन से कर्मचारी नदारद है, इसकी जांच की जाती है।

नई सरकार का मानना है कि अस्पतालों में मरीजों को किसी तरीके से परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इसलिए अधिकारियों को समय-समय पर अस्पतालों का निरीक्षण करते रहना चाहिए। ताकि अस्पतालों में व्यवस्थाएं बनी रहे और मरीजों को इसका फायदा मिले। वही अफसरों में डर भी है की अब किसी भी समय सीएम किसी भी अस्पताल का अचानक निरीक्षण कर सकते हैं। ऐसे में अगर उन्होंने लापरवाही बरती तो उन पर भी गाज गिर सकती है।

ट्रेंडिंग वीडियो