scriptPetrol-diesel sales fell by 18 percent in 7 days in Jaipur | जयपुर में 7 दिन में 18 प्रतिशत तक गिरी पेट्रोल-डीजल की बिक्री, पड़ोसी राज्यों से तस्करी शुरू | Patrika News

जयपुर में 7 दिन में 18 प्रतिशत तक गिरी पेट्रोल-डीजल की बिक्री, पड़ोसी राज्यों से तस्करी शुरू

तेल कंपनियां पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ा रही हैं औस ऐसे में अब वाहन चालकों के लिए महंगा पेट्रोल और डीजल को खरीदना बूते से बाहर होता जा रहा है।

जयपुर

Published: March 30, 2022 04:15:13 pm

तेल कंपनियां पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ा रही हैं औस ऐसे में अब वाहन चालकों के लिए महंगा पेट्रोल और डीजल को खरीदना बूते से बाहर होता जा रहा है। अगर बीते सात दिन की बात करें तो कीमतों में बढ़ोतरी के कारण जयपुर शहर में पेट्रोल और डीजल की बिक्री 18 प्रतिशत तक गिर गई है।
Petrol-diesel sales fell by 18 percent in 7 days in Jaipur
इसकी पहली वजह तो पेट्रोल और डीजल की कीमतें आम आदमी के बूते से बाहर जाना है और दूसरी अब लोग वाहनों का इस्तेमाल किफायत से करने लगे हैं जिससे कम से कम पेट्रोल और डीजल में काम चला सकें। इन स्थितियों में जयपुर शहर के 450 पंपों पर तो जयपुर शहर में ही ताला लगाने की नौबत आने वाली है। जयपुर शहर में पेट्रोल पंपों संचालकों का कहना था कि ऐसा नहीं है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने से आम आदमी ही परेशान है इसका असर पेट्रोल और डीजल की बिक्री पर भी आया है। 22 मार्च से पहले जहां जयपुर शहर में प्रतिदिन पेट्रोल और डीजल की प्रतिदिन की बिक्री 4500 केएल थी वहीं अब वह 3690 केएल तक रह गई है।
पड़ोसी राज्यों से तस्करी शुरू
18 नवंबर 2021 को तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाई। इसके बाद राजस्थान में पड़ोसी राज्यों से तस्करी के जरिए आ रहे पेट्रोल और डीजल पर लगाम लगी। लेकिन जैसे ही कीमतें बढ़ना शुरू हुआ वैसे ही फिर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से अलवर, भरतपुर, धौलपुर, जयपुर, हनुमानगढ़ व श्री गंगानगर समेत दस जिलों में तस्करी का पेट्रोल और डीजल आना शुरू हो गया।
अब वाहन के इस्तेमाल में बरतने लगे किफायत
-लोगों ने दोपहिया और कार आदि का उपयोग जरूरत के हिसाब से करना शुरू किया।

- इलेक्टि्क वाहनों का इस्तेमाल बढ़ा

- लोग फोर-व्हीलर की जगह करने लगे टू-व्हीलर का ज्यादा प्रयोग
- छोटे-छोटे- कामों के लिए साइकिल का उपयोग भी बढ़ाया

यह है स्थिति
22 मार्च से पहले राज्य में पूरे राज्य में 22500 किलोलीटर पेट्रोल और डीजल की प्रतिदिन खपत होती थी जो अब सात दिन में घट कर 1800 किलोलीटर तक पहुंच गई है। कीमतों में वृद्धि के बाद सीमावर्ती जिलों से पेट्रोल पंप बंद होने के कगार पर पहुंच गए हैं। तेल कंपनियों ने प्राइवेट पंपों को पेट्रोल-डीजल देना बंद कर दिया है। इससे प्रतिदिन चार हजार लीटर की सेल घट गई है।
पंप संचालन हो रहा मुश्किल
जयपुर शहर में पेट्रोल पंप संचालन सुभाष पूनिया ने बताया कि जहां सप्ताह भर पहले प्रतिदिन पंप पर 16 हजार लीटर पेट्रोल डीजल की बिक्री होती थी वहीं अब वह घट कर 12 हजार लीटर रह गई है। कीमते अभी और भी बढ़ेंगी और ऐसे में पंप का संचालन मुश्किल होता जा रहा है।
सीमावर्ती जिलों में पेट्रोल पंप पहले ही बंद होने की स्थिति में आ गए हैं। लेकिन अब यही हाल जयपुर में होने लगा है। लोगों ने किफायत शुरू कर दी और कीमतें बढ़ने से बिक्री लगातार कम हो रही है।
कार्तिकेय गौड़, महासचिव फैडरेशन ऑफ एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे के बाद भी संजय राउत के हौसले बुलंद, बोले-हम अपने दम पर फिर सत्ता में करेंगे वापसीMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार, देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को ले सकते है सीएम पद की शपथजम्मू-कश्मीर: बालटाल से अमरनाथ यात्रा के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना, पवित्र गुफा में बाबा बर्फानी का करेंगे दर्शनपटना के हथुआ मार्केट में लगी भीषण आग, कई दुकानें जलकर खाक, करोड़ों का नुकसानWeather Update: दिल्ली-एनसीआर में मानसून की दस्तक, IMD ने जारी किया आंधी-तूफान का अलर्टउदयपुर मर्डर : आरोपियों के घर से जब्त की सामग्री, चार और संदिग्ध हिरासत मेंसीएम गहलोत का बयान, 'अपराधी किसी भी धर्म या संप्रदाय का हो, बख्शेंगे नहीं'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.