script Pollution Control : 4 वर्ष में इतने करोड़ खर्च करने के बाद भी राजधानी जयपुर की हवा साफ नहीं, शोपीस बनी छह एंटी स्मॉग मशीन | Pollution Control : Rs 319 crores spent in 4 years, still th air of Jaipur is not clean | Patrika News

Pollution Control : 4 वर्ष में इतने करोड़ खर्च करने के बाद भी राजधानी जयपुर की हवा साफ नहीं, शोपीस बनी छह एंटी स्मॉग मशीन

locationजयपुरPublished: Nov 30, 2023 06:18:12 pm

जयपुर. राजधानी जयपुर की हवा सुधारने के लिए केंद्र सरकार ने नेशनल एयर कंट्रोल प्रोग्राम (एनकैप) के तहत तीन वित्तीय वर्ष में 300 करोड़ रुपए से अधिक दिए। लेकिन, दोनों शहरी सरकारों ने अब तक एक भी काम ऐसा नहीं किया, जिससे प्रदूषण कम होता।

 

 

Pollution Control
Pollution Control

जयपुर. राजधानी जयपुर की हवा सुधारने के लिए केंद्र सरकार ने नेशनल एयर कंट्रोल प्रोग्राम (National Air Control Programme) (एनकैप) (NCAP) के तहत तीन वित्तीय वर्ष में 300 करोड़ रुपए से अधिक दिए। लेकिन, दोनों शहरी सरकारों ने अब तक एक भी काम ऐसा नहीं किया, जिससे प्रदूषण कम होता। इतना ही नहीं, इस प्रोग्राम के तहत खरीदी गई छह एंटी स्मॉग गन में से चार का अभी तक उपयोग ही नहीं कि या गया। जबकि दिवाली के बाद प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है।

तालमेल की कमी
राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल (Rajasthan State Pollution Control Board) और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) नियमित रूप से प्रदूषण स्तर की निगरानी करते हुए रिपोर्ट तैयार करते हैं। शहरी सरकार यदि इन अधिकारियों के साथ सामंजस्य कर आगे बढ़े तो शहरवासियों को राहत मिल सकती है।

बजट का इन कामों में हुआ उपयोग
-एनकैप के तहत जो पैसा केंद्र सरकार से मिला, उसका ज्यादातर उपयोग खुले क्षेत्र को पक्का करने, डिवाइडर के सौंदर्यीकरण, पार्किंग क्षेत्र को विकसित करने में खर्च किया गया।

-सड़कों से मिट्टी हटाने जैसे छोटे काम भी शहरी सरकारें सही से नहीं करवा पा रहीं।

-गलियों को रि-डिजायन कराने के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। यहां न तो पैदल चलने के लिए जगह है और न ही साइकिल चलाने वालों के लिए कोई रास्ता है।

ऐसे मिला एनकैप के तहत बजट
वित्तीय वर्ष राशि
2020-21 165 करोड़ रुपए

2021-22 90.35 करोड़ रुपए

2022-23 64.50 करोड़ रुपए

-06 मशीनों की एनकैप के तहत हुई थी वर्ष 2019 में खरीद

-20 मीटर ऊपर पानी फेंकने की क्षमता है इन मशीनों की

-02 हजार लीटर पानी संग्रहण की क्षमता है प्रत्येक मशीन की

-मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी की मांग पर एंटी स्मॉग गन भेजते हैं। दिवाली के बाद इनको चलाया था। अभी चुनाव की वजह से नहीं चल रही हैं। - बलराम मीणा, एक्सईएन, गैराज शाखा (हैरिटेज निगम)

-अभी मशीनें नहीं चलाई जा रही हैं। दिसम्बर से फरवरी तक का रूट चार्ट बनाएंगे और उसी के आधार पर इनका संचालन होगा। जहां ट्रैफिक का दबाव अधिक होता है। वहां इन मशीनों का उपयोग करते हैं। - अतुल शर्मा, उपायुक्त, गैराज शाखा (ग्रेटर निगम)

ट्रेंडिंग वीडियो