Rajasthan BJP: मिशन 'डैमेज कंट्रोल’, बागियों को मनाने के साथ नाराज़ नेताओं को मनाने की दोहरी चुनौती

- नगर निगम चुनाव 2020, बागियों को मनाने में जुटी भाजपा, मंडल-बूथ स्तर पर दी नेताओं को ज़िम्मेदारी, पार्टी प्रत्याशी के समर्थन में बागियों को ‘बैठाने’ पर जोर, विधायकों-पूर्व विधायकों को भी मनाने में जुटे शीर्ष नेता, टिकिट वितरण में तवज्जो नहीं मिलने से नाराज़ हैं कई नेता, फिलहाल नाराजगी अंदरखाने ही उबाल पर

 

By: nakul

Published: 20 Oct 2020, 11:36 AM IST

जयपुर

नगर निगम चुनाव के लिए प्रत्याशी सूची जारी करने के बाद अब प्रदेश भाजपा ‘डैमेज कंट्रोल’ पर उतर आई है। प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया और प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर ने खुद इस कवायद का जिम्मा संभाल लिया है। पार्टी के सामने बागियों को मनाने के साथ ही टिकिट वितरण से नाराज़ हुए विधायकों और पूर्व विधायकों को मनाने की दोहरी चुनौती रहेगी।

नगर निगम चुनाव कार्यक्रम के अनुसार 22 अक्टूबर की दोपहर तीन बजे तक प्रत्याशी अपने नाम वापस ले सकेंगे। ऐसे में पार्टी का पूरा फोकस अब बागियों को जैसे-तैसे मनाने का है। पार्टी ने जिन नेताओं को इसकी ज़िम्मेदारी दी है वे आज से ही फील्ड में जाकर बागियों को मनाने और पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के समर्थन में नामांकन वापस लेने की कोशिश करेंगे। पार्टी इस कवायद में कितना सफल हो पाती है ये गुरुवार को नामांकन वापसी के वक्त बीतने के साथ ही साफ़ हो पाएगी।

मंडल-बूथ स्तर पर दी गई ज़िम्मेदारी
‘डैमेज कंट्रोल’ को लेकर डॉ पूनिया का कहना है कि बागियों को मनाने की कवायद शुरू कर दी गई है। इसके लिए मंडल और बूथ स्तर पर जिम्मेदारियां दी गई हैं। पूनिया ने कहा वे खुद इस ‘डैमेज कंट्रोल’ को मोनिटर कर रहे हैं। उन्होंने आश्वस्त करते हुए दावा किया कि पार्टी से बागी हुए कार्यकर्ताओं को मना लिया जाएगा।

विधायक-पूर्व विधायक नाराज़!
टिकिट वितरण के बाद पार्टी के कई वरिष्ठ नेता ऐसे हैं जो पार्टी नेतृत्व से नाराज़ चल रहे हैं। सूत्रों के अनुसार लगभग एक दर्जन से ज़्यादा विधायकों और पूर्व विधायकों ने प्रदेश नेतृत्व से टिकिट वितरण को लेकर नाराजगी ज़ाहिर की है।

पूनिया का दो टूक मैसेज
प्रदेश भाजपा में इस बार टिकिट बांटने में विधायकों और पूर्व विधायकों पर संगठन भारी पड़ा है। हालांकि इन नेताओं फिलहाल अनुशासित रहते हुए अंदरखाने ही अपना एतराज प्रदेश नेतृत्व तक पहुंचाया है। इधर, विधायकों-पूर्व विधायकों के नाराज़ होने के सवाल पर प्रदेश अध्यक्ष डॉ पूनिया ने भी साफ़ कह दिया है कि पार्टी का अस्तित्व होता है विधायक का नहीं। मीडिया को दी प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा कि पार्टी की वजह से ही कोई विधायक बनता है विधायकों की वजह से पार्टी नहीं बनती।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned