Shakambhari Purnima 2021 सृष्टि की रक्षा करने जब मां दुर्गा ने देह पर उगाई शाक-सब्जियां

Paush Purnima 2021 Shakambhari Purnima 2021 Shakambhari Jayanti
Shakambhari Jayanti 2021 Paush Purnima Shakambhari Navratri 2021 Paush Purnima 2021 Auspicious Time Paush Purnima 2021 Donations Paush Purnima 2021 Auspicious Yoga

By: deepak deewan

Published: 28 Jan 2021, 08:25 AM IST

जयपुर. पौष माह की पूर्णिमा तिथि शाकंभरी पूर्णिमा के रूप में भी जानी जाती है। इस दिन माता शाकंभरी की जयंति मनाई जाती है। मां शाकंभरी को शाक सब्जियों और वनस्पतियों की देवी कहा गया है। शाकंभरी जयंति पर उनकी पूजा का विधान है। पौष पूर्णिमा के दिन ही शाकंभरी नवरात्रि का समापन भी होता है। मां शाकंभरी माता पार्वती का ही रूप है। उनके अनेक नाम हैं, माता शाकंभरी को देवी वनशंकरी और शताक्षी भी कहा जाता है।

मां शाकंभरी के प्राकट्य को लेकर अलग-अलग ग्रंथों में अलग-अलग बातें कहीं गई हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि देवी भागवत महापुराण में शाकंभरी माता को देवी दुर्गा का ही स्वरूप बताया गया है। इसके अनुसार पार्वतीजी ने शिवजी को पाने के लिए कठोर तपस्या की। उन्होंने अन्न-जल त्याग दिया था तथा जीवित रहने के लिए केवल शाक.सब्जियां ही खाईं। इसलिए उनका नाम शाकंभरी रखा गया।

एक अन्य कथा के अनुसार मां शाकंभरी ने दुर्गमासुर नामक राक्षस का संहार किया था। इस संबंध में पद्म पुराण में विस्तार से उल्लेख किया गया है। कथा के अनुसार एक बार धरती पर जब अकाल पड़ा तो पूरा अन्न खत्म हो गया। तब देवी शाकंभरी प्रकट हुई और अपनी देह पर शाकसब्जियां उगाकर लोगों की क्षुधा शांत की. इस तरह से सृष्टि को नष्ट होने से बचाया। ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर के अनुसार वनस्पतियों के सिंचाई के लिए देवी ने सौ नैत्रों से बारिश की इसलिए उन्हें शताक्षी भी कहा गया।

पूर्णिमा तिथि 28 जनवरी को देर रात लगभग 1.30 से शुरू हो चुकी है। इस तरह 28 जनवरी को सूर्याेदय से लेकर दिनभर पूर्णिमा तिथि बनी रहेगी. पूर्णिमा तिथि 29 जनवरी की रात 12.45 बजे तक रहेगी। इस बार शाकंभरी पूर्णिमा पर अनेक शुभ संयोग बन रहे हैं। 28 जनवरी को सूर्याेदय के समय गुरु पुष्य योग सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृतसिद्धि योग भी बन रहा है। मां शाकंभरी ने अपनी देह पर वनस्पति उगाकर विश्व का भरण पोषण किया था। इसलिए शाकंभरी जयंति के दिन फल फूल और हरी सब्जियों को दान करने का सबसे ज्यादा महत्व है।

Show More
deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned