script40 crores will comes on the last day of the year 2023 in jaisalmer | वर्ष के आखिरी दिन बरसेंगे 40 करोड़, सम से शहर तक चार गुना मिल रहा किराया | Patrika News

वर्ष के आखिरी दिन बरसेंगे 40 करोड़, सम से शहर तक चार गुना मिल रहा किराया

locationजैसलमेरPublished: Dec 30, 2023 08:02:33 pm

Submitted by:

Deepak Vyas

 

- सम से शहर तक चार गुना मिल रहा किराया

वर्ष के आखिरी दिन बरसेंगे 40 करोड़, सम से शहर तक चार गुना मिल रहा किराया
वर्ष के आखिरी दिन बरसेंगे 40 करोड़, सम से शहर तक चार गुना मिल रहा किराया

गुजरते साल 2023 को विदाई देने के साथ नववर्ष 2024 का बाहें फैला कर स्वागत करने के लिए जैसलमेर में होटलों में ठहरना हो या सम के रिसोर्ट्स में रात बितानी हो, उनकी कीमतें आसमान पर पहुंची हुई है। चार गुना तक के किराये पर मेहमान होटलों व रिसोर्ट्स में ठहर पा रहे हैं। यही कारण है कि कई पर्यटक तो बिना रात बिताए ही शहर व सम में घूम कर रातोरात जैसलमेर से निकल रहे हैं। वैसे आगामी 31 दिसम्बर को 30 हजार से ज्यादा देशी-विदेशी सैलानी जैसलमेर की धरा पर होंगे। इनमें विदेशी इस बार बहुत कम दिखाई दे रहे हैं। घरेलू पर्यटकों के जश्न को खास बनाने के लिए तमाम पर्यटन व्यवसायी जोर-शोर से तैयारियों में जुटे हैं। जैसलमेर की होटलों के अलावा सम और खुहड़ी के रिसोर्ट्स ही नहीं बल्कि अन्य ग्रामीण क्षेत्रों तक में ठहराव के ठिकानों पर सैलानियों को रुकवाया जाएगा। उनकी जैसलमेर यात्रा को यादगार बनाने के लिए सेवा में करीब 10 हजार लोग हाजिर रहेंगे। इस बार पिछले वर्ष की तुलना में 25 प्रतिशत से ज्यादा सैलानी न्यू इयर सेलिब्रेशन के लिए पीत पत्थरों से गढ़े गए जैसलमेर शहर में पहुंच रहे हैं। इस एक दिन में यहां 40 करोड़ रुपए का व्यवसाय होने की उम्मीद है। सैलानियों के उफान से पर्यटन व्यवसायियों के अलावा अन्य कई काम-धंधे भी चमक रहे हैं।

हजारों कमरे फिर भी कम

- जैसलमेर शहर और आसपास के क्षेत्रों में करीब 450 छोटी-बड़ी होटलें, गेस्ट हाउस, धर्मशालाएं हैं, जिनमें 8 हजार कमरें उपलब्ध हैं।

- सम और खुहड़ी के रिसोट्र्स को मिलाकर 6 हजार टेंट्स और हट्स सैलानियों के ठहराव के लिए तैयार हैं।

- इतनी ठहराव व्यवस्था भी कम पडऩे की पूरी संभावना है। तभी सैलानियों को कई बार शहर के सामुदायिक भवनों ही नहीं अपने वाहनों तक में सर्द रात काटनी पड़ती है।

- पर्यटन व्यवसायी अनुमान लगा रहे हैं कि वर्ष के अंतिम दिन जैसलमेर और सम-खुहड़ी में 30 हजार से ज्यादा सैलानी होंगे।

- 10 हजार कामगारों के अलावा करीब 1500 वाहन सैलानियों की सेवा में होंगे तो उनका मनोरंजन 800 से ज्यादा स्थानीय व बाहरी कलाकार करेंगे। चहुंओर रोशनी का उजास सैलानियों के लिए सभी होटलों और रिसोट्र्स में रंग-बिरंगी रोशनियों के नजारे झिलमिला रहे हैं। जहां बड़ी होटलें क्रिसमस पर्व से ही सज-धज कर तैयार हो चुकी हैं, वहीं सम-खुहड़ी के रिसोट्र्स भी चमका दिए गए हैं। पर्यटन व्यवसायी विविध व्यवस्थाएं करने में जुटे हैं। उनका कहना है कि, जब सैलानी खुले हाथ से खर्च करते हैं तो उन्हें भी बदले में दिल खोलकर पैसा लगाकर व्यवस्था करना आवश्यक है। जिससे उनका न्यू इयर सेलिब्रेशन खास बन जाए और वे इस अनुभव को हमेशा संजोकर रखें।

रिकॉर्ड तादाद में उमड़ रहे सैलानी

हर बार की भांति नए साल के मौके पर जैसलमेर में रिकॉर्ड सैलानी उमड़ रहे हैं। वैसे कोरोना काल में यह सिलसिला मद्धम पड़ा था लेकिन इसके बाद अब सब सामान्य है। स्कूलों में शीतकालीन अवकाश शुरू होने के बाद से देश के विभिन्न प्रांतों और राजस्थान के अन्य शहरों से पर्यटक अपने परिवारजनों तथा दोस्तों के साथ स्वर्णनगरी के नाम से मशहूर जैसलमेर पहुंचने लगे हैं। एक अनुमान के अनुसार दिसम्बर माह में पिछले साल की तुलना में 20 प्रतिशत ज्यादा पर्यटन जैसलमेर आएंगे। आमतौर पर क्रिसमस के बाद के तीन दिन सैलानी कम रहते हैं, लेकिन इस बार इन दिनों में भी अच्छी आवक रही।

ट्रेंडिंग वीडियो