scriptChallenge to raise fodder and water for 50 thousand cows in 150 cowshe | 150 गोशालाओं में 50 हजार गोवंश के लिए चारा-पानी जुटाना चुनौती | Patrika News

150 गोशालाओं में 50 हजार गोवंश के लिए चारा-पानी जुटाना चुनौती

- 12 करोड़ का भुगतान अटका, 60 गोशालाओं ने किया अनुदान के लिए आवेदन
- जिम्मेदारों का तर्क - अभी तक नहीं मिली प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति

जैसलमेर

Updated: May 20, 2022 08:19:49 pm

पोकरण. जिलेभर में संचालित पंजीकृत गोशालाओं का तीन माह का करीब 12 करोड़ का अनुदान भुगतान बकाया होने के कारण संचालकों के लिए चारे पानी की व्यवस्था करना मुश्किल हो रहा है। चारे के भाव इन दिनों आसमान छू रहे है। जबकि जिम्मेदार इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहे है। गौरतलब है कि सरकार की ओर से गोवंश के संरक्षण व संवर्धन को लेकर प्रदेश में संचालित पंजीकृत गोशालाओं को अनुदान दिया जाता है। तीन-तीन माह के अंतराल में नौ माह का अनुदान राशि दी जाती है। सरहदी जिले में करीब 150 गोशालाएं पंजीकृत है। यहां 45 से 50 हजार गोवंश का संरक्षण व संवर्धन किया जाकर उनके लिए छाया, पानी, चारे, आहार आदि की व्यवस्था की जा रही है। इन गोशालाओं के संचालकों को समय पर अनुदान राशि का भुगतान नहीं होने के कारण चारे पानी की व्यवस्था करना मुश्किल हो रहा है। ऐसी स्थिति में गोवंश के लिए चारे पानी का संकट उत्पन्न हो गया है। भीषण गर्मी व अकाल के हालातों में चारे भाव आसमान छू रहे है। जैसलमेर जिले में अनुदान राशि नहीं मिलने के कारण गोशाला संचालकों को परेशानी हो रही है। जबकि पशुपालन विभाग के निदेशक लालसिंह ने बताया कि प्रदेश में आधे से ज्यादा जिलों में अनुदान राशि का भुगतान किया जा चुका है। ऐसे में सरहदी जिले में भुगतान के अभाव में गोवंश का संरक्षण मुश्किल होता जा रहा है।
तीन माह का अटका भुगतान
जिला गोपालन समिति की अनुशंसा पर राज्य सरकार की ओर से बड़े पशु के 40 व छोटे पशु के 20 रुपए अनुदान राशि दी जाती है। जिलेभर में 150 गोशालाओं में से 60 गोशाला संचालकों की ओर से जनवरी, फरवरी व मार्च माह के भुगतान के लिए आवेदन किया गया था। पशुपालन विभाग की ओर से इन 60 गोशालाओं में 35 गोशालाओं को भुगतान के लिए पात्र माना गया है, लेकिन अप्रेल माह पूरा व मई माह आधा गुजर चुका है। अभी तक उन्हें अनुदान राशि का भुगतान नहीं किया गया है। ऐसे में संचालक पशुपालन विभाग व कलेक्ट्रेट के चक्कर लगाने को मजबूर हो रहे है। साथ ही गोशालाओं का संचालन कर गोवंश का संरक्षण व संवर्धन करना मुश्किल हो गया है।
चारे के भाव छू रहे आसमान
सरहदी जिले में गत वर्ष बारिश की कमी के कारण भीषण अकाल के हालात उत्पन्न हो गए है। जिले में पर्याप्त चारा नहीं मिलने के कारण भाव बढ़ते जा रहे है। बाहरी जिलों से चारा महंगे दामों में यहां पहुंच रहा है। गोवंश को दी जाने वाली तूड़ी के भावों पर नजर डालें तो 1200 रुपए क्विंटल है। अनुदान राशि के अभाव में महंगे दामों में चारा खरीदना बूते से बाहर होता जा रहा है।
बैठक हुई है, स्वीकृति अब मिलेगी
अनुदान राशि के लिए जिला स्तरीय गोपालन समिति की बैठक हो चुकी है। अभी तक प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति नहीं मिल पाई है। स्वीकृति मिलते ही राशि का भुगतान कर दिया जाएगा।
- डॉ.असलम, संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग, जैसलमेर।
150 गोशालाओं में 50 हजार गोवंश के लिए चारा-पानी जुटाना चुनौती
150 गोशालाओं में 50 हजार गोवंश के लिए चारा-पानी जुटाना चुनौती

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Floor Test: महाराष्ट्र विधानसभा में शिंदे सरकार का शक्ति परीक्षण आज, स्पीकर ने उद्धव खेमे को दिया झटकापीएम मोदी आज जाएंगे आंध्र प्रदेश, अल्लुरी सीताराम राजू की प्रतिमा का करेंगे अनावरणजम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा के बीच अनंतनाग में आतंकी हमला, आतंकियों ने पुलिसकर्मी को मारी गोलीकोपनहेगन के शॉपिंग मॉल में ताबड़तोड़ फायरिंग, 7 लोगों की मौत, कई घायलसीढ़ियां से उतरने के दौरान गिरे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, कंधे की हड्डी टूटीदिल्ली और पंजाब में दी जा रही मुफ्त बिजली, गुजरात में क्यों नहीं?: केजरीवालहैदराबाद में बोले PM मोदी- 'तेलंगाना में भी जनता चाहती है डबल इंजन की सरकार, जनता खुद ही बीजेपी के लिए रास्ता बना रही'पीएम मोदी ने लंबे समय तक शासन करने वाली पार्टियों का मजाक उड़ाने के खिलाफ चेताया, कहा - 'मजाक मत उड़ाएं, उनकी गलतियों से सीखें'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.