बढ़ते संक्रमण ने बढ़ाई चिंता, अब सेम्पलिंग बढ़ाने पर देंगे जोर

- नमूनों की जांच में 10 से 15 प्रतिशत आने लगे पॉजिटिव
- फिर से करवाया जाएगा सर्वे कार्य

By: Deepak Vyas

Published: 30 Nov 2020, 01:44 PM IST

जैसलमेर. सीमांत जैसलमेर जिले में कोरोना की दूसरी लहर की दस्तक ने प्रशासन और चिकित्सा महकमे को चिंता में डाल दिया है। हजारों वर्ग किलोमीटर में फैले इस जिले में आबादी का घनत्व राजस्थान भर में सबसे कम होने के बावजूद कोरोना के पॉजिटिव मामलों में तेजी का रुख दिखने लगा है। महज एक पखवाड़े पहले तक जहां नमूनों की जांच में तीन से पांच प्रतिशत तक ही संक्रमित पाए जा रहे थे, अब उनकी संख्या 10 से 15 प्रतिशत तक हो गई है। इसे देखते हुए अब एक बार फिर सेम्पलिंग बढ़ाने की रणनीति अपनाई जा रही है। आने वाले दिनों में सेम्पलिंग को शुरुआत की तरह प्रतिदिन 400-500 तक किया जाना है।
कई कारणों से बढ़े रोगी
चालू नवम्बर माह में दिवाली के बाद से संक्रमितों की संख्या में इजाफा होना शुरू हो गया, जो लगातार जारी है। चिकित्सा विभागीय सूत्रों ने बताया कि दिवाली पर बड़ी संख्या में प्रवासी जैसलमेर आए। उनके सम्पर्क वाले लोगों में वायरस का प्रभाव दिखाई दिया। साथ ही अचानक सर्दी का मौसम आ जाने से वायरस के प्रभाव में बढ़ोतरी आ गई। सर्दी की वजह से अस्पतालों में सर्दी-जुकाम के रोगियों की संख्या भी बढ़ गई। उनकी कोविड-19 जांच करवाने पर कई जने कोरोना से संक्रमित भी पाए जाने लगे हैं। हालांकि सरकारी सूत्र पंचायतीराज चुनावों से कोरोना केसेज में बढ़ोतरी को अभी नहीं जोड़ रहे हैं, लेकिन विवाह समारोहों की तरह लोकतंत्र का यह उत्सव भी कोरोना का संवाहक बन रहा है, इसमें दोराय नहीं।
बढ़ाई जाएगी सेम्पलिंग
जानकारी के अनुसार आने वाले दिनों में जैसलमेर जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में एक बार फिर सेम्पलिंग को बढ़ाया जाएगा। जहां ज्यादा केसेज आ रहे हैं, वहां रेंडम तरीके के साथ पॉजिटिव के संपर्कितों की या तो टेस्टिंग करवाई जाएगी, अथवा चिकित्साकर्मी उन्हें आइसोलेट रहने की सलाह देंगे। विभाग की तरफ से प्रत्येक क्षेत्र में सुपर स्पे्रडर की पहचान करने की रणनीति भी बनाई जा रही है। विभाग के कार्मिक व इससे जुड़े अन्य लोगों के जरिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में पुन: घर-घर सर्वे का कार्य भी करवाया जाना है। गौरतलब है कि पिछले एक-डेढ़ महीने के दौरान कोविड-19 की जांचों में कमी की गई थी।
अब भी जारी लापरवाही
एक ओर राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिला प्रशासन व नगर परिषद, पुलिस की तरफ से मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंस अपनाने आदि गाइडलाइन पर जोर दिया जा रहा है। दूसरी तरफ आज भी बहुत से लोग मास्क लगाने और सामाजिक दूरी बरतने में कोताही कर रहे हैं। यह स्थिति जारी रही तो कोरोना जैसी तीव्र संक्रामक बीमारी से बचाव मुश्किल है। वैसे पुलिस तथा अन्य सरकारी महकमों को इस मामले में अब भी ज्यादा सख्ती करने की जरूरत है।
अपनाएंगे सभी उपाय
कोरोना रोगियों में बढ़ोतरी के मद्देनजर आगामी समय में इसकी रोकथाम के लिए जरूरी सभी उपाय अपनाए जाएंगे। सेम्पलिंग बढ़ाने के साथ सर्वे भी करवाया जाएगा। वैसे सबसे जरूरी है कि लोग गाइडलाइन की पूरी तत्परता से पालना करे।
- डॉ.कुणाल साहू, सीएमएचओ, जैसलमेर।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned