संचार का त्रिकोण रोकेगा टिड्डी दल की राह !

-बीएसएफ, प्रशासन और टिड्डी व कृषि महकमे ने बनाया 'चक्रव्यूहÓ
-साधन-संसाधन तैयार, जिम्मेदारों का दावा - अबकी बार ठोस प्रयास

By: Deepak Vyas

Published: 24 May 2020, 10:03 AM IST

जैसलमेर. सरहद पर आसमान से आने वाली आफत को रोकने के लिए इस बार संचार का त्रिकोण बनाया गया है। गत वर्ष करोड़ों का नुकसान कर अपार वन संपदा व फसलों को चट कर नष्ट कर चुके टिड्डी दल को रोकने के लिए अब जिला प्रशासन, सीमा सुरक्षा बल व टिड्डी मंडल व कृषि महकमे की ओर से चक्रव्यूह बनाया गया है। जिम्मेदारों का दावा है कि इस बार पहले से ही तैयार और साधन-संसाधनों के साथ एहतियात प्रबंध कर चुके हैं। जिला प्रशासन की मानें तो सीमा सुरक्षा बल से लगातार समन्वय और संचार बना हुआ है। इस तरह सीमा पार से टिड्डी आगमन की सूचना तुंरत मिल सकेगी। उसके अनुसार नियंत्रण गतिविधियों को मूर्त रूप दिया जा सकेगा। जानकारी के मुताबिक बीएसएफ के साथ जिला प्रशासन, टिड्डी विभाग एवं कृषि विभाग के अधिकारियों की बैठक भी हुई थी, जिसमें बेहतर समन्वय व टिड्डी दल को लेकर तत्काल सूचना प्राप्त करने को लेकर रूपरेखा भी बनी। अब इसी अनुरूप कार्य किया जा रहा है।
बुवाई नगण्य होने से भी राहत
वैसे तो जिला स्तर पर टिड्डी नियत्रंण प्रबंधन आदि व्यवस्थाओं के लिए जिला स्तरीय कमेटी का गठन किया जा चुका है। गत वर्ष हुए टिड्डी हमले की तुलना में इस वर्ष राहत की वजह भी है और वह यह कि वर्तमान में जिले में फसलों की बुवाई नगण्य मानी जा रही है। ऐसे में यह उम्मीद लगाई जा रही है कि टिड्डी प्रकोप से फसलें प्रभावित होने का खतरा कम से कम ही रहेगा। इसके अलावा पहले के वर्षों की तुलना में इस बार टिड्डी नियंत्रण के लिए अधिक संसाधन विभाग को मुहैया कराए गए हैं। राज्य स्तर से 100 टेक्टर माउंटेड स्प्रेयर की मंजूरी मिली है, जिसका ग्राम पंचायत स्तर पर चिह्निकरण किया गया हैै, ताकि जरूरत के मुताबिक टिड्डी नियंत्रण कार्य में उपयोग लिया जा सके। उपखण्ड स्तर पर उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में टिड्डी नियत्रंण प्रबंधन आदि व्यवस्थाओं के लिए कमेटी का गठन किया जा चुका है तो जिला स्तर पर टिड्डी मण्डल कार्यालय, जिला प्रशासन और कृषि महकमे में नियंत्रण कक्ष भी स्थापित कर दिए गए है। जि मेदारों का दावा यह भी है कि जिले में टिड्डी नियंत्रण के लिए ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर रसायनों की उपलब्धता भी उम्मीद के मुताबिक है।

ये रोकेंगे टिड््डी दल की रफ्तार
-9 नियंत्रण वाहन उपलब्ध कराए गए हैं टिड्डी विभाग को
-8 वाहन टिड्डी मण्डल कार्यालय के पास पहले से हैंं मौजूद
-17 सर्वे दलों के गठन में शामिल है कृषि व राजस्व विभाग के अधिकारी
-10 वाहनों का सर्वे एवं टिड्डी नियंत्रण कार्य में लिया जा रहा सहयोग

विशेष निगरानी
सरहदी जिले में टिड्डी नियंत्रण के लिए व्यापक स्तर पर ऐहतियाती उपाय किए गए हैं। विशेषकर सरहद पार से टिड्डी आगमन पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। इस बार बेहतर प्रबंध कर चुके हैं, हमारी तैयारी पूर्ण है।
-राधेश्याम नारवाल, उपनिदेशक, कृषि विस्तार, जैसलमेर

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned