जैसलमेर में दूसरे दिन भी बेमौसम की आफत, 15 एमएम बारिश

-रामगढ़, मोहनगढ़, पोकरण, नाचना, रामदेवरा, लाठी, चांधन में भी बरसे मेघ
- फसलों का खराबा होने की आशंका से चिंतित नजर आ रहे भूमिपुत्र

By: Deepak Vyas

Published: 27 Mar 2020, 07:35 PM IST

जैसलमेर. सरहदी जैसलमेर जिले में बेमौसम की बारिश आफत बनकर बरस रही है। लगातार दूसरे दिन भी जिला मुख्यालय सहित कई स्थानों पर बूंदाबांदी व बारिश का दौर चला। इसस पूर्व स्वर्णनगरी सहित कई ग्रामीण क्षेत्रों में रुक-रुक कर गुरुवार को रात भर बारिश का दौर चला। कहीं धीमे तो कहीं तेज बौछारों के साथ बादल बरसे। जैसलमेर के अलावा रामगढ़, मोहनगढ़, पोकरण रामदेवरा, लाठी, चांधन सहित ग्रामीण क्षेत्रों में बारिश का दौर चला। स्वर्णनगरी में शुक्रवार तड़के हुई बारिश का क्रम 2 घंटे बाद थमा। दो दिनों में कुल १५ एमएम बारिश दर्ज की गई। बारिश के कारण फसलों का खराबा होने से चिंतित नजर आ रहे हैं।

मोहनगढ़. क्षेत्र में गुरूवार को पूरे दिन बादलों की छाए रहने के चलते सूर्यदेव के दर्शन नहीं हो पाए। गुरुवार की दोपहर को बूंदाबांदी शुरू हुई, जो दिन भर जारी रही। रात्रि में भी रुक रुक कर बरसात होती रही। बरसात की वजह से रात्रि में ही बिजली गुल हो गई। जो अगली सुबह दस बजे के करीब बहाल हो पाई। उसके बाद भी दिन भर बिजली की आवाजाही का दौर जारी रहा। शुक्रवार सुबह पांच बजे से लगातार हल्की बरसात का दौर जारी रहा, जो सुबह साढ़े छ: बजे के बाद थमा। उसके बाद भी हल्की बूंदाबंादी का दौर जारी रहा। बारिश की वजह से गली मोहल्लों में बरसाती पानी जमा हुआ नजर आया। जिसके कारण ग्रामीणों को आने जाने में मशक्कत करनी पड़ी। असामान के साफ होने के बाद दोपहर के बाद पूरे दिन धूप खिली रही। सर्द हवाओं के चलने के कारण ठण्डक का असर भी बना रहा।
नाचना. गांव में शुक्रवार को सुबह 6 बजे से 9 बजे तक रुक-रुक कर रिमझिम बारिश हुई, जिससे जन-जीवन के साथ-साथ पशुधन अस्त व्यस्त हो गया। बारिश से धरती तरबतर हो गई, वहीं गांव में अस्पताल मार्ग पर पानी जमा तो गलियो में कीचड़ हो गया। गुरुवार रात भर आकाश में घने बादल छाए जाने के दौरान रुक-रुक कर हल्की बूंदाबांदी का दौर चलता रहा।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned