अधिक मुनाफा के चक्कर में ठेकेदार ने घटिया कॉलम से बना दी कलेक्टोरेट की बाउंड्रीवाल

Shiv Singh

Publish: May, 17 2018 08:33:13 PM (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India
अधिक मुनाफा के चक्कर में ठेकेदार ने घटिया कॉलम से बना दी कलेक्टोरेट की बाउंड्रीवाल

-लगभग 50 लाख रुपए की लागत से पीडब्ल्यूडी काम - ठेकेदार नहीं दे रहा मानकों का ध्यान, अमानक मटेरियल का कर रहा उपयोग

जांजगीर-चाम्पा. कलेक्टोरेट परिसर को सुरक्षित बनाने के लिए पीडब्ल्यूडी ने लगभग 50 लाख की लागत से टेंडर जारी कर यहां बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य शुरू कराया था। हालत यह है कि बेरोजगार इंजीनियर के तहत दो ठेकेदारों ने इसका काम तो ले लिया, लेकिन अब अधिक मुनाफा कमाने के चक्कर में वह अमानक निर्माण करने से बाज नहीं आ रहे हैं। एसडीओ पीडब्ल्यूडी के द्वारा कई बार निर्देश के बाद भी इनके द्वारा घटिया निर्माण किया गया है। वर्तमान में जो बाउंड्रीवाल बनाई गई है उसके सभी कॉलम इतने घटिया बने हैं कि उनको रिपेयरिंग कर सुधारा गया है। बाउंड्री वाल में लगाई गई फ्लाई ऐश ब्रिक्स भी मानक से कोसों दूर दिखती है।

Read More : बिजली का तार टूटा, बाड़ी में रखे पैरा व छेना में लगी आग, आनन-फानन में बुलाया गया दमकल

जानकारी के मुताबिक डीएमएफ फंड से जारी राशि के द्वारा कलेक्टोरेट परिसर को सुरक्षित करने के उद्देश्य से यह बाउंड्रीवाल बनाई जा रही है। इससे पहले यहां बाउंड्रीवाल की जगह तार फेंसिंग थी। बाउंड्रीवाल के निमार्ण की एजेंसी पीडब्ल्यूडी को बनाया गया है। इसके निर्माण का टेंडर पीडब्ल्यूडी ने बेरोजगार इंजीनियर के तहत लगाया था।

टेंडर पाने की होड़ में इस काम को दो बेरोजगार इंजीनियर ने इतने बिलो रेट में ले लिया कि मानक के मुताबिक कार्य करना मुमकिन ही नहीं था। अब दोनों ठेकेदार अधिक मुनाफा कमाने की लालच में काम को इतना घटिया स्तर का कर रहे हैं कि दूर से ही देखकर लग रहा है कि बाउंड्रीवाल एक बरसात भी नहीं झेल पाएगी।

कलेक्टर की नाक के नीचे ऐसा काम
कलेक्टोरेट परिसर में हो रहे इस घटिया काम को देख कर अब लोग यह कहने लगे हैं कि जब कलेक्टर की नाक के नीचे हो रहा लाखों का काम इतना अमानक स्तर का है तो फिर अन्य कामों का क्या हाल होगा। लोगों का कहना है कि जिले में अरबों रुपए की लागत से अलग-अलग विभाग निर्माण कार्य करा रहे हैं। इन कार्यों के मानक की जिम्मेदारी विभाग प्रमुख सहित कलेक्टर की भी होती है। यदि कलेक्टर परिसर में ही अमानक निर्माण हो रहा है और उस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा तो फिर अन्य काम तो भगवान भरोसे ही होंगे।

-बाउंड्री वॉल में बनाए गए कॉलमों में रिपेयरिंग का कार्य हुआ है। मैं इसकी जांच करूंगा और यदि कमी पाई गई तो उन्हें तोड़कर दोबारा से बनवाया जाएगा। काम खराब नहीं होने दिया जाएगा- अमित कश्यप, एसडीओ पीडब्ल्यूडी जांजगीर

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned