पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में सियासत तेज, परिवार से मुलाकात करने पहुंचेंग अखिलेश, डीएम ने दिये मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में सियासत तेज, परिवार से मुलाकात करने पहुंचेंग अखिलेश, डीएम ने दिये मजिस्ट्रियल जांच के आदेश
पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में सियासत तेज, परिवार से मुलाकात करने पहुंचेंग अखिलेश, डीएम ने दिये मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

Akansha Singh | Updated: 09 Oct 2019, 11:15:10 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में सियासत तेज हो गई है।

झांसी. पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में सियासत तेज हो गई है। आज दोपहर दो बजे समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव झांसी पहुंचेंगे। वह यहां पुष्पेंद्र के परिजनों से मुलाकात करेंगे। अखिलेश यादव ग्राम करगुआ खुर्द थाना एरच स्थित पुष्पेन्द्र यादव के परिवार से मिलेंगे और उन्हें सांत्वना देंगे। पुष्पेन्द्र यादव की 5 अक्टूबर 2019 को पुलिस एनकाउंटर में मौत हुई थी। जानकारी के अनुसार अखिलेश यादव रात्रि विश्राम झांसी सर्किट हाउस में ही करेंगे। इसके बाद वे 10 अक्टूबर को झांसी से लखनऊ के लिए प्रस्थान करेंगे।

डीएम ने दिये केस की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

झांसी डीएम ने केस की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए हैं। झांसी पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए साफ किया है कि अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) जनपद झांसी द्वारा मजिस्ट्रियल जांच की जा रही है। साथ ही झांसी पुलिस ने अपने ट्वीट में लिखा है कि पुष्पेंद्र मामले में भ्रामक खबर/अफवाह न फैलाएं। अन्यथा अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्यवाही की जाएगी। इससे पहले झांसी पुलिस ने एक ट्वीट कर दावा किया है कि पुष्पेंद्र यादव का आपराधिक इतिहास रहा है।

झांसी में फोर्स तैनात

झांसी में कानून व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए प्रशासन भी सतर्क हो गया है। झांसी में बाहर से फ़ोर्स बुला ली गई है। इसमें कानपुर से 1 एएसपी को झांसी भेजा गया है, वहीं 2 सीओ, 5 थानों का फ़ोर्स, 3 प्लाटून पीएसी को करगवां खुर्द गांव में तैनात किया गया है। 2 एएसपी, कई थानेदार समेत भारी पुलिस बल की मोठ सर्किल में तैनाती हुई है। पुलिस ने एनकाउंटर पर सवाल उठा रहे मोठ तहसील में धरने पर बैठे 39 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। देशराज यादव समेत 39 लोगों को पुलिस ने रात में हिरासत में लिया था। ये सभी पुष्पेंद्र यादव के समर्थन में तहसील में धरना दे रहे थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned