script फिर भंग क्यों नहीं की आरपीएससी | congress workers dialogue program | Patrika News

फिर भंग क्यों नहीं की आरपीएससी

locationझुंझुनूPublished: Feb 07, 2024 12:52:49 pm

Submitted by:

Jitendra Yogi

भाजपा दो महीने पहले चुनाव प्रचार में पेपर लीक, आरपीएससी भंग करने, लाल डायरी, महिलाओं पर अत्याचार के मुद्दे उठाकर लोगों को भ्रमित कर सत्ता में आ गई। फिर आरपीएससी भंग क्यों नहीं की गई। डोटासरा ने कहा कि पेपर माफिया के खिलाफ कांग्रेस ही कानून लेकर आई थी। आज वही बिल भाजपा केंद्र में लेकर आ रही है। यह पहल तो कांग्रेस ने की थी और कहा था कि पेपर लीक देश की समस्या है, केंद्र सरकार कानून लेकर आए ताकि युवाओं के हितों पर कुठाराघात नहीं हो सके।

फिर भंग क्यों नहीं की आरपीएससी
फिर भंग क्यों नहीं की आरपीएससी
congress workers dialogue program : कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार धार्मिक उन्माद फैलाकर वोटों की फसल काटने का काम करती है। वह मंगलवार को रीको में लोकसभा झुंझुनूं के कांग्रेस कार्यकर्ता संवाद कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले पांच साल में कांग्रेस ने अनेक फ्लेगशिप योजनाएं शुरू की। लेकिन ये लोग बंद करने का काम कर रहे हैं। भाजपा दो महीने पहले चुनाव प्रचार में पेपर लीक, आरपीएससी भंग करने, लाल डायरी, महिलाओं पर अत्याचार के मुद्दे उठाकर लोगों को भ्रमित कर सत्ता में आ गई। फिर आरपीएससी भंग क्यों नहीं की गई। डोटासरा ने कहा कि पेपर माफिया के खिलाफ कांग्रेस ही कानून लेकर आई थी। आज वही बिल भाजपा केंद्र में लेकर आ रही है। यह पहल तो कांग्रेस ने की थी और कहा था कि पेपर लीक देश की समस्या है, केंद्र सरकार कानून लेकर आए ताकि युवाओं के हितों पर कुठाराघात नहीं हो सके। लेकिन यह कह कर लोगों को बहकाना और बरगलाना था कि राजस्थान में पेपर लीक हो रहे हैं और माफिया पनप रहे हैं। पहले कह रहे थे कि आरपीएससी के मौजूद स्वरूप को भंग कर देंगे और अब कह रहे हैं कि आरपीएससी भंग नहीं हो सकती।
पर्ची का इंतजार रहता है-जूली

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने कहा कि सभी लोकसभा क्षेत्रों में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के तहत कार्यक्रम कराए जा रहे हैं। टिकट देने का हर बार पैमाना अलग-अलग रहता है। कार्यकर्ता किसको चाहते हैं। अच्छे उम्मीदवार उतारें जाएंगे। युवा मित्रों का मामला विधानसभा में उठाया है कि पांच हजार बच्चों को लगाना चाहिए। भाजपा दो महीने से कांग्रेस सरकार के कार्मिकों को हटाने और योजनाओं को बंद करने का काम कर रही है। इनकी जुबान और बयान की कोई अहमियत नहीं है। इन्हें, बस पर्ची का इंतजार रहता है।
दो हजार का नोट नहीं चला सके, हमनें देश चलाया-रंधावा

लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर रंधावा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि केवल तीन-चार लोगों को आगे लाने का काम किया है। दो हजार के नोट नहीं चलाए जा सके। हमारी पार्टी ने कितने साल देश को चलाया है। रंधावा ने कहा कि कांग्रेस मजबूत है तो ईडी भी कुछ नहीं बिगाड़ सकती।

ट्रेंडिंग वीडियो