फिर इत्र की खुशबू से महक उठेगा कन्नौज, यूपी सरकार यहां बनाएगी देश का सबसे बेहतरीन परफ्यूम पार्क और म्यूजियम

Perfume Park and Museum will be made in Kannauj- इत्र नगरी कन्नौज जिले में देश का सबसे खूबसूरत परफ्यूम पार्क और म्यूजियम तैयार किया जाएगा। कन्नौज का इत्र देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर है।

By: Karishma Lalwani

Updated: 03 Jul 2021, 02:22 PM IST

कन्नौज. Perfume Park and Museum will be made in Kannauj. योगी सरकार प्रदेश में रोजगार के नए आयाम सामने लेकर आ रही है। इसी कड़ी में इत्र नगरी कन्नौज जिले में देश का सबसे खूबसूरत परफ्यूम पार्क और म्यूजियम तैयार किया जाएगा। कन्नौज का इत्र देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर है। मगर पर्याप्त संसाधन की कमी के चलते यहां के इत्र की खुशबू कुछ फीकी पड़ने लगी है। आर्थिक तंगी को मजबूत करने के लिए लोग इत्र का काम छोड़ अन्य कामों में रोजगार ढूंढ रहे हैं। ऐसे में योगी सरकार की कोशिश है कि कन्नौज जिले को बेहतर संसाधन उपलब्ध कराए जाएं जिससे कि फिर से यहां की महर पूरी दुनिया में फैले।

मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के साथ बैठक

यूपी राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकारण (यूपीसीडा) ने वेबिनाय आयोजित कर देशभर के दिग्गज मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है। बैठक में संसाधनों को लेकर तमाम चर्चाएं की गई हैं। जल्द ही इस योजना पर काम भी शुरू हो जाएगा। कन्नौज में परफ्यूम पार्क और म्यूजियम तैयार होने से रोजगार के नए आयाम खुलेंगे।

जानें इत्र का इतिहास

कन्नौज में बनने वाले इत्र का इतिहास काफी पुराना है। इस इत्र की मांग खाड़ी देशों में काफी ज्यादा है। कन्नौज को इत्र बनाने का तरीका और नुस्खा फारस के कारीगरों से मिला था। ये कारीगर मलिका ए हुस्न नूरजहां ने एक विशेष प्रकार के इत्र, जो कि गुलाब से बनाया जाता था, के निर्माण के लिए बुलाये थे। उस समय से लेकर आज तक इत्र बनाने के तरीकों में कोई विशेष अंतर नहीं आया है। आज भी अलीगढ़ में उगाये दमश्क गुलाब का, कन्नौज की फैक्ट्री में बना इत्र पूरी दुनिया में मशहूर है। इसके अलावा गेंदा, गुलाब और मेहंदी का इत्र विशेष रूप से प्रसिद्ध है। कन्नौज के इत्र किसी जमाने में उसी तरह से पसंद किए जाते थे, जैसे आज फ्रांस के ग्रास शहर के इत्र पसंद और उपयोग में लाये जाते हैं। योगी सरकार का प्रयास है कि इत्र की नगरी को बेहतरीन संसाधन उपलब्ध कराकर यहां के पुराने दिन वापस लाए जा सकें।

ये भी पढ़ें: इस इत्र की कीमत है 90 लाख, जानना चाहेंगे यूपी में कहां बनता है ये

ये भी पढ़ें: कन्नौज का इत्र नहीं इस वजह से है चीन से गहरा सम्बंध, अब बिजनेसमैन को कोरोना वायरस की वजह से नहीं मिलेगी यह वस्तु

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned