Kanpur Accident: 19 यात्रियों की दर्दनाक मौत और डराने वाली आपबीती, सुनकर उड़ जाएंगे होश

Kanpur Accident: जनपद कानपुर के सचेंडी के किसान नगर में मंगलवार रात को भीषण सड़क हादसा हुआ। हादसे में अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर. Kanpur Accident: जनपद कानपुर के सचेंडी के किसान नगर में मंगलवार रात को भीषण सड़क हादसा हुआ। हादसे में अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। मौत से लालेपुर और ईश्वरीगंज गांव में मातम पसर गया। बुधवार सुबह लालेपुर गांव में शवों के पहुंचते ही चारों तरफ चीत्कार मच गई। वहीं दूसरी तरफ अधिकारी से यात्रियों ने हादसे को लेकर डराने वाली आपबीती सुनाई। यात्रियों के मुताबिक कानपुर के फजलगंज से चलने के बाद बस करीब 2 घंटे तक एक ही जगह पर खड़ी रही। वहां पर ड्राइवर और कंडक्टर ने जबरदस्ती बस को घंटों रोके रखा। इसी के साथ, बस की क्षमता से ज्यादा सवारियां भी भरी गईं। ज्यादा संख्या में लोगों को देख आरटीओ के सिपाही ने भी चेकिंग की, लेकिन पैसे के खेल में मामला दबा दिया गया। इसके बाद बस अहमदाबाद के लिए रवाना तो हुई, लेकिन सचेंडी पहुंचने के बाद हादसे का शिकार हो गई।

वसूली एक सीट की दोगुनी कीमत

यात्रियों के मुताबिक बस चलने के बाद कंडक्टर ने किराया भी ज्यादा वसूला था। वह एक सीट की कीमत दोगुनी ले रहा था। उसके बाद भी ज्यादा पैसेंजर लेकर जा रहा था। यात्रियों के बयान के बाद इस मामले में विभागीय अधिकारियों ने जांच के लिए टीम तो बना दी है, लेकिन कानपुर शहर से लगातार कई ऐसे बस संचालक मनमानी और पैसों के लालच के चलते लोगों की जिंदगी दांव पर लगाकर मुनाफा कमाने में लगे हुए हैं। वहीं इस पूरे मामले में आरटीओ की मिलीभगत भी सामने आ रही है, जिसको लेकर जांच टीम गठित की गई है।

शराब के नशे में थे धुत्त

वहीं यात्रियों का कहना है कि बस चालक और कंडक्टर शराब के नशे में धुत थे। ऐसे में यात्रियों ने उन को समझाने की कोशिश की, लेकिन वह उल्टा लोगों को ही धमकाने लगे। यात्रियों ने बताया कि सब के पास अलग-अलग कंपनी की टिकट थी। बस पर मां पितांबरा ट्रेवल्स लिखा था, लेकिन अलग-अलग सवारियों के पास अलग-अलग ट्रेवल एजेंसियों के टिकट पाए गए हैं। ऐसे में एक बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि एक बस में कई कंपनी के टिकट धारक कैसे सवारी कर रहे थे। वहीं बस में दोगुनी क्षमता से अधिक सवारियां कैसे जा रही थीं और इस पर लगाम कसने वालों ने क्यों इसकी अनदेखी की जिसके चलते कई लोगों की जान चली गई।

अधिकारी कर रहे जांच की बात

वहीं यात्रियों द्वारा लगाए गए कई गंभीर आरोपों पर जवाब देते हुए अधिकारी बस जांच की बात ही कह रहे हैं। एडीजी जोन भानु भास्कर के मुताबिक यात्रियों का पक्ष सुना गया है। सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है। इसके साथ ही घायलों को उपचार के लिए हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं लोगों को गंतव्य तक भी पहुंचाया गया है।

शव पहुंचने पर हंगमा

हादसे के बाद मृतकों के शव लालेपुर गांव में पहुंचते ही परिजनों ने मुआवजे की मांग करते हुए जमकर हंगामा किया। पुलिस के समझाने के बाद भी शवों को नहीं उठने दिया। आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और परिजनों को बताया कि मुख्यमंत्री, प्रधनमंत्री राहत कोष से 2 -2 लाख रूपये, किसान बीमा योजना के तहत 5 लाख रूपये दिये जाएंगे। प्रति मृतक के परिजनों को 9 लाख रूपये का मुआवजा मिलेगा। इसके बाद परिजन अंतिम संस्कार के लिए तैयार हुए।

जताया दुख

इस दुर्घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गहरा दुख व्यक्त किया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कानपुर में दुखद दुर्घटना के कारण अपनी जान गंवाने वालों के परिवारों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से प्रत्येक को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए मृतकों के परिवारीजन को दो-दो लाख की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: Landlord and Tenant dispute: यूपी में किरायेदार और मकान मालिक के बीच अब खत्म होगा सारा विवाद, दोनों के लिए जरूरी खबर

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned