कानपुर ओएफसी की यह तोप दुश्मनों को छकाएगी, पहली बार सेना को मिलेगी ऐसी गन

दुश्मन नहीं पकड़ सकेगा इसकी लोकेशन, आसानी से अलग-अलग दिशाओं में करेगी हमला

कानपुर। आर्डिनेंस फैक्ट्री कानपुर ने एक और कमाल कर दिखाया है। ओएफसी ने एक ऐसी सेल्फ प्रोपेल्ड गन तैयार की है जो दुश्मनों के छक्के छुड़ा देगी। यह तोप बेहद हल्की होने के कारण सेना के लिए इसका इस्तेमाल भी काफी आसान होगा और दुर्गम इलाकों में इससे दुश्मनों को छकाया जा सकता है। इसका परीक्षण होने के बाद इसे भारतीय सेना में शामिल किय जाएगा।

विदेशों तक है ओएफसी का नाम
कानपुर की यह आर्डिनेंस फैक्ट्री विदेशों में भी नाम कमा चुकी है। इसी फैक्ट्री ने स्वीडन की बोफोर्स कंपनी के लिए तोप बनाकर पूरी दुनिया में अपनी क्षमता का लोहा मनवाया है। यहां पर तैयार हुई धनुष और शारंग तोप दुनिया की किसी भी तोप का जवाब देने में सक्षम है।

२७ किलोमीटर तक करेगी मार
बेहद हल्की सेल्फ प्रोपेल्ड गन सेना के लिए काफी उपयोगी साबित होगी। खासतौर पर कश्मीर के पहाड़ी इलाकों में छिपे दुश्मनों को मार गिराने में अब काफी मदद मिलेगी। पहाड़ों पर इस तोप को ले जाने में आसानी होगी और इससे २७ किलोमीटर तक टारगेट को खत्म किया जा सकता है। तोप की बैरल ६ मीटर है और १५५ गुणा ३९ कैलीबर वाली ऐसी गन पहली बार भारतीय सेना को मिलेगी।

दुश्मन नहीं बना सकेंगे निशाना
यह तोप दुश्मनों को आसानी से चकमा दे सकेगी। बेहद हल्के टैंक पर यह बैरल लगी होने के कारण आसानी से अलग-अलग दिशाओं में इससे हमला किया जा सकता है। दुश्मन इसकी लोकेशन आसानी से नहीं समझ सकता और इसे निशाना भी नहीं बना पाएगा। इस तोप का अलग-अलग तापमान में भी परीक्षण किया जाएगा।

महाराष्ट्र और जबलपुर की तकनीक शामिल
इस तोप की बैरल ओएफसी कानपुर में विकसित की गई है, जबकि रिक्वाइल मैकेनिज्म यानि तोप के फायर होने की तकनीक का विकास जबलपुर स्थित निर्माणी में किया गया है। इसके अलावा महाराष्ट्र के मेंडक में इसके हल्के टैंक को तैयार किया गया है। यह तोप विकसित करने के लिए ओडीसी और निर्माणियों को दो साल पहले प्रोजेक्ट मिला था।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned