scriptThe bail of the accused who gave shelter to Vikas Dubey rejected | Bikru Kand: गैंगस्टर विकास दुबे को घर में शरण देने वाले आरोपी की जमानत खारिज, पुलिस ने किया एक और बड़ा खुलासा | Patrika News

Bikru Kand: गैंगस्टर विकास दुबे को घर में शरण देने वाले आरोपी की जमानत खारिज, पुलिस ने किया एक और बड़ा खुलासा

-विकास दुबे को घर में शरण देने के आरोपी की जमानत अर्जी खारिज
-दोनो पक्षों के अधिवक्ताओं की सुनवाई के बाद कोर्ट ने आरोपी रामजी की जमानत की खारिज

कानपुर

Updated: August 14, 2021 02:15:19 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. बिकरू कांड (Bikru Kand) में सम्मिलित होने एवं अपराधी विकास (Vikas Dubey) दुबे को घर में छिपाने के आरोपी का मामला एंटी डकैती कोर्ट (Anti Dacaiti Court) में चल रहा है। शुक्रवार को सुनवाई के बाद जमानत अर्जी खारिज कर दी गई। सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष ने दलीलें रखी। वहीं सहायक शासकीय अधिवक्ता ने बचाव पक्ष की दलीलों का विरोध करते हुए आरोपी के जघन्य अपराध में शामिल होने का पक्ष रखा। सहायक शासकीय अधिवक्ता आशीष तिवारी ने बताया कि दो जुलाई 2020 को चौबेपुर के बिकरू गांव (Bikru Scandal) में विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला किया गया था। इसमें आठ पुलिस कर्मी शहीद हुए थे। मामले की सुनवाई एंटी डकैती कोर्ट सुधाकर राय की अदालत में चल रही है।
Bikru Kand: गैंगस्टर विकास दुबे को घर में शरण देने वाले आरोपी की जमानत खारिज, पुलिस ने किया एक और बड़ा खुलासा
Bikru Kand: गैंगस्टर विकास दुबे को घर में शरण देने वाले आरोपी की जमानत खारिज, पुलिस ने किया एक और बड़ा खुलासा
बताया कि पुलिस की छानबीन में सामने आया था कि घटना को अंजाम देने के बाद विकास दुबे ने रसूलाबाद कानपुर देहात के तुलसीनगर में रामजी उर्फ राधे कश्यप के यहां पनाह ली थी। मामले में पुलिस ने रामजी को भी घटना में शामिल होने का आरोपी बनाया है। बताया गया कि एसटीएफ ने उसके पास से 12 बोर की एक बंदूक, 25 कारतूस, 7.62 एमएम के 20 कारतूस व एके 47 के दो कारतूस बरामद किए थे। इस मामले में बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने आरोपी की जमानत के लिए प्रार्थना पत्र दाखिल किया था। कोर्ट में शुक्रवार को हुई बहस में बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने दलील दी कि आरोपी को भीड़भाड़ वाले स्थान से गिरफ्तार किया गया है साथ ही पुलिस ने कोई पब्लिक का गवाह भी नहीं बनाया है।
उन्होंने आरोपी का कोई पुराना आपराधिक इतिहास न होने की भी दलील दी। इन दलीलों का विरोध करते हुए सहायक शासकीय अधिवक्ता आशीष तिवारी ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद आरोपी ने स्वयं स्वीकार किया था कि विकास दुबे उसके घर आकर रुका था। साथ ही पुलिस के लूटे हुए असलहे व कारतूस घर में रखने की बात भी स्वीकार की थी। कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद आरोपी का जमानती प्रार्थना पत्र निरस्त कर दिया। एडीजीसी ने बताया कि बिकरू कांड के आरोपी रामजी उर्फ राधे की जमानत खारिज कर दी गई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.