मानूसन की दस्तक के बाद भी करौली बारिश से तरबतर नहीं हो सका, नहीं हुई बारिश तो सूखेंगी फसल; आंसूओं से भीगेंगी आखें

Vijay ram

Publish: Jul, 14 2018 06:25:20 AM (IST)

Karauli, Rajasthan, India
मानूसन की दस्तक के बाद भी करौली बारिश से तरबतर नहीं हो सका, नहीं हुई बारिश तो सूखेंगी फसल; आंसूओं से भीगेंगी आखें

पिछली बारिश के दौरान किसानों ने फसलों की बुवाई कर दी थी, लेकिन अब...?


करौली .
प्रदेश में मानूसन की दस्तक के बाद भी जिला अभी भी बारिश से तरबतर नहीं हो सका है। पिछली बारिश के दौरान किसानों ने फसलों की बुवाई कर दी थी, लेकिन अब पिछले कईदिन से बादल उमड़-घुमड़कर लौट रहे हैं। यदि दो-तीन दिन बादल नहीं बरसे तो अन्नदाता की आंखें बरस पड़ेंगी। दो-तीन दिन में अच्छी बारिश नहीं होने से बोई गई फसलें खराब हो सकती हैं।

 

जिले में पिछली बार भी बारिश की स्थिति ठीक नहीं रही और किसानों को खासा नुकसान झेलना पड़ा। यदि इस बार भी बारिश की कमी रही तो खरीफ की फसल के साथ रबी की बुवाई पर भी असर पड़ेगा। जिले के ज्यादातर हिस्सों में खरीफ की फसल की बुवाई हो चुकी है, जो अब अंकुरित भी हो चुकी है, लेकिन बारिश के अभाव में यह सूखने के कगार पर है। यदि दो-तीन दिन में अच्छी बारिश होती है तो फसलों को जीवनदान मिल जाएगा। अन्यथा फसल सूख जाएंगी।

३० हजार हैक्टेयर वंचित
जिले में इस बार कृषि विभाग ने खरीफ की फसल बुवाई का लक्ष्य १ लाख ६७ हजार हैक्टेयर तय किया है। अब तक जिले में १ लाख ४० हजार २५० हैक्टेयर में बुवाईहो चुकी है। सपोटरा क्षेत्र का ज्यादातर हिस्सा अभी भी बारिश के अभाव में बुवाई से वंचित है। जिले में सबसे अधिक बाजरे की फसल की बुवाई हुईहै। जिले में १ लाख ३० हजार हैक्टेयर में बाजरा बोया गया है। इस समय सभी फसलों को पानी की बेहद दरकार है। इस समय अच्छी बारिश होने से फसलें खिलखिला उठेंगी।

 

इनका कहना है
लक्ष्य के मुकाबले ज्यादातर बुवाई हो चुकी है। यदि तीन-चार दिन में अब बारिश नहीं हुई तो किसानों को काफी नुकसान झेलना पड़ेगा। इसका असर रबी की बुवाई पर भी होगा। फसलों को इस समय पानी की खासी जरूरत है।
- वी.डी. शर्मा, उपनिदेशक कृषि विभाग करौली

हे भगवान बरसा दो मेघ
- मनौनी में मांग रहे बारिश
-अमावस्या पर दर्शनों को उमड़ेे श्रद्धालु
करौली . अमावस्या पर शुक्रवार को मदनमोहनजी मंदिर में दर्शनों के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। दर्शनों के लिए सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं की कतार लगी रही।भगवान की एक झलक पाने के लिए श्रद्धालु बेकरार दिखे। दर्शनों की अभिलाषा लेकर पहुंंचे अन्नदाताओं ने अच्छी बारिश की मनौती मांगी।

 

मदनमोहनजी के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं का आना अलसुबह से ही शुरू हो गया। भोर होने तक मंदिर श्रद्धालुओं से अट गया। ऐसे में चहुंओर 'राधे-राधेÓ और 'बंशी वारे की जयÓ के जयकारों की गूंज रही। बड़ी संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं के लिए मंदिर सहित मंदिर के बाहर रास्ते तक पुलिस के जवान तैनात रहे। हालांकि बाजार में यातायात पुलिसकर्मियों की कमी अखरी। ऐसे में बाजार कई बार जाम से जूझा। फूटा कोट से मदनमोहनजी मंदिर और हिण्डौन गेट तक श्रद्धालुओं का रेला नजर आया। बड़ी संख्या में महिला श्रद्धालु भजन गाते हुए मंदिर तक पहुंची।
......

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned