कटनी के गांवों में पेयजल का गंभीर संकट

-अप्रैल से ही बना है पेयजल का संकट, अभी तक राहत नहीं

By: Ajay Chaturvedi

Published: 03 Jul 2021, 04:55 PM IST

कटनी. इस बारिश के मौसम में भी जिले के लोग प्यासे हैं। हालांकि ये पेयजल की समस्या अप्रैल में ही शुरू हुई थी लेकिन स्थानीय प्रशासन की ओर से उस पर सम्यक ध्यान न देने के कारण समस्या सुलझने के बजाय और बढ़ती ही गई। हाल ये है कि न तो टंकी का पानी मिल रहा न नलकूप का। हैंडपंप से हवा निकल रही है। ऐसे में ये नागरिक जाएं तो कहां जाएं? ऐसे में अब ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर प्रियंक मिश्रा से गांव में पानी की समस्या का निराकरण करने की मांग की है।

जिले की जनपद ढीमरखेडा की ग्राम पंचायत पौनिया की हालत तो सबसे खराब है। कहने को यहां दो जगह नलकूप लगे हैं। पानी की टंकी भी बनी है लेकिन किसी से भी जलापूर्ति नहीं हो रही। ग्रामीण बताते हैं कि इलाके में लगे हैंडपंप का हाल ये है कि एक पर बहुत जोर लगाने पर केवल एक धार निकलती है बाकी दो से तो केवल हवा ही निकलती है। ऐसे में प्यास बुझाने के लिए गांव के कुछ बड़े लोगों के यहां की निजी बोरिग से ही थोड़ा बहुत पानी ले पा रहे हैं।

ये भी पढें- पेयजल संकट गंभीर, आला अधिकारी चिंतित

ग्रामीण बताते हैं कि पंचायत में जिम्मेदार प्रतिनिधि पानी की समस्या को लेकर गंभीर नहीं है। पिछले कई सप्ताह से यह समस्या है। पानी का इंतजाम करने के लिए काम-धंधा छोडकर जुटना पड़ता है। शुक्रवार की सुबह तो हालत इतने खराब थे कि लोग सुबह से डिब्बा बाल्टी लेकर पानी के लिए कतारों में खडे रहे। पूछने पर बताया कि पंचायत प्रतिनिधि से कई बार कहा गया पर कोई सुनवाई ही नहीं हो रही।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned