पूरी फसल हो गई बर्बाद फिर भी नहीं मिलेगा बीमा का लाभ, सामने आई ये खास वजह

पूरी फसल हो गई बर्बाद फिर भी नहीं मिलेगा बीमा का लाभ, सामने आई ये खास वजह
fasal bima - kisano ko muawaja kaise milega

deepak deewan | Updated: 06 Oct 2019, 12:09:21 PM (IST) Khandwa, Khandwa, Madhya Pradesh, India

नहीं मिलेगा बीमा का लाभ

खंडवा. बड़वानी में प्राकृतिक आपदा की मार से इस साल भी खरीफ की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। अतिवृष्टि के चलते जिले की प्रमुख फसलें कपास, मक्का, सोयाबीन, बाजरा, ज्वार खराब हो चुकी है। अब तक किसानों के खेतों में सर्वे का काम भी आरंभ नहीं हुआ है। ऐसे में किसानों को न तो मुआवजे का लाभ मिलता नजर आ रहा है, न ही बीमा राशि का। अब किसानों के सामने एक नई समस्या और खड़ी हो गई है। किसान को रबी की फसल की तैयारी करना है। जब तक किसानों की फसलों का सर्वे नहीं हो जाता तब तक किसान खराब फसल को खेत से हटा भी नहीं सकता।

बिना सर्वे के खराब फसल हटाई तो नहीं मिलेगा बीमा का लाभ
खरीफ में मौसम की मार से बरबाद हुई फसलों के बाद किसानों को रबी की फसल चना, गेहूं, सब्जियों की फसल से उबरने की उम्मीदें हैं। जिले में खरीफ की फसल 60 से 80 प्रतिशत तक या तो आंशिक या पूरी तरह से खराब हो चुकी है। किसानों के सामने रबी के लिए खेतों को तैयार करने की परेशानी आ चुकी है। पटवारियों की हड़ताल के चलते सर्वे का काम पूरी तरह से ठप पड़ा हुआ है। जब तक सर्वे नहीं हो जाता तब तक किसान की मजबूरी है कि वो खराब फसल को खेत से हटा भी नहीं सकता। अगर खेत से फसल को हटाता है तो उसे बिना सर्वे के बीमा का लाभ नहीं मिल पाएगा।
इधर जिला प्रशासन का कहना है कि पटवारियों की हड़ताल से सर्वे का काम तो रुका हुआ है, लेकिन अधिकारी और कर्मचारी खराब फसलों की जानकारी ले रहे हैं। किसान को क्रॉप कटिंग के आधार पर भी बीमा राशि दिलाई जा सकती है।

भाकिसं ने अफसरों से की सर्वे की मांग
भारतीय किसान संघ ने जिले में अतिवृष्टि के चलते खराब हुई फसलों का सर्वे जल्द से जल्द पूरा कराने की मांग की है। भाकिसं जिलाध्यक्ष मंशाराम पंचोले ने बताया कि किसानों को अतिवृष्टि के कारण भारी नुकसान उठाना पड़ा है। रबी की फसल की तैयारी भी किसान को करना है। सर्वे का काम पूरा नहीं होने से किसान रबी के लिए खेत भी तैयार नहीं कर पा रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned