नकली बीज मामले में पांच अधिकारी निलंबित, डीडीए पर भी सवाल

नकली बीज माफिया से साठगांठ करने वाले 5 बीज प्रमाणीकरण अधिकारी निलंबित, खंडवा में छापेमारी के दौरान सामने आए थे नकली बीज के मामले

By: Hitendra Sharma

Published: 11 Jun 2021, 08:59 AM IST

खंडवा. मध्य प्रदेश में नकली बीज माफिया पर सरकार ने शिकंजा कसते हुए जिले के बीज प्रमाणीकरण अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है। इससे पहले जिले में चापेमारी के दौरान बड़ी मात्रा में नकली बीज, कम्पनियों के नकली टेग सहित समग्री मिली थी जिससे बड़े पैमाने पर नकली बीज कारोबार का खुलासा हुआ था।

Must See: सज्जन सिंह वर्मा ने कहा- गहलोत और पायलट के बीच नहीं सुधरे रिश्ते

अब इस मामले को लेकर कृषि विभाग ने जिले के सभी पांच बीज प्रमाणीकरण अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है साथ ही जिले के डीडीए पर भी जल्द गाज गिर सकती है। इस मामले को लेकर प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने सख्त कार्यवाही के निर्देश दिए थे।

दरअसल निमाण इलाके में बड़े पैमाने पर नकली बीज का कारोबार होता रहा है, किसानों की शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हो पाती है। इस बार कृषि विभाग ने जांच के लिए इंदौर से टीम भेजी और छापेमारी में पता चला कि खंडवा में नकली बीज तैयार किया जा रहा है। जांच के बाद विभाग ने कार्यवाही करते हुए राज्य बीज प्रमाणीकरण संस्था ने सहायक बीज प्रमाणीकरण अधिकारी सुरेश कुमार, अखिलेश चौहान, जयंत कुल्हारे, राजाराम बड़ोले और पीपी सिंह को निलंबित कर दिया।

Must See: बीआरसी की प्रताड़ना से त्रस्त बीएसी ने दफ्तर में खाया जहर

मध्य प्रदेश में खरीब और रवि की फसलों की बुआई से पहले नकली बीज, खाद और पेस्टीसाइड माफिया सक्रिय हो जाता है। जिससे किसानों को भारी नुक्सान उठाना पड़ता है। प्रदेश के कृषि विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत भी इस मामले में सामने आती रही है। विभाग खानापूर्ति के लिए सेंपलिंग की कार्यवाही करता है। प्रदेश में पहली बार है, जब नकली बीज को लेकर अधिकारियों पर गाज गिरी है।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned