scriptPolice station became astable police engaged in care of buffaloes you will surprise to know reason | थाना बना तबेला : भैंसों की देखभाल और साफ सफाई में लगी पुलिस, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान | Patrika News

थाना बना तबेला : भैंसों की देखभाल और साफ सफाई में लगी पुलिस, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

locationखंडवाPublished: Feb 03, 2024 09:57:57 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

पुलिस लोगों की रक्षा के लिए होती है, लेकिन खंडवा की जावर थाना पुलिस इन दिनों अपने थाने में भैंसों की देखभाल करने में मसरूफ है।

news
थाना बना तबेला : भैंसों की देखभाल और साफ सफाई में लगी पुलिस, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

खंडवा. आमजन की रक्षा करने और जरूरतमंदों की सहायता करने वाली पुलिस अब अपने थाने में भैंसों की रक्षा और देखभाल कर रही है। इसकी बानगी देखने को मिली मध्य प्रदेश के खंडवा में, जहां एक पुलिस थाने में कुछ ऐसी ही नजारा देखने को मिला। अकसर पुलिस का नाम सुनते ही लोगों में दहशत फैल जाती है। पुलिस लोगों की रक्षा के लिए होती है, लेकिन खंडवा की जावर थाना पुलिस इन दिनों अपने थाने में भैंसों की देखभाल करने में मसरूफ है। पुलिसकर्मी न सिरफ इनके लिए चारे का प्रबंध कर रही है, बल्कि इन्हें समय समय पर खानी-पानी देने और इनका गोबर साफ करने में लगी है। वहीं देखने पर ये थाना नहीं बल्कि कोई भैंसों का तबेला दिखाई पड़ता है।


इन दिनों खंडवा का जावर थाना परिसर भैंसों का तबेला बना हुआ है। दरअसल, 31 जनवरी की रात पुलिस को सूचना मिली थी कि एक वाहन में अवैध रूप से मवेशियों का परिवहन किया जा रहा है। इसपर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए संदिग्ध वाहन से 17 भैसें बरामद की। वाहन में भैंसों के साथ साथ अवैध रूप से तस्करी कर 70 लीटर शराब भी ले जाई जा रही थी। पुलिस ने वाहन के साथ सभी भैंसें और शराब जब्त कर लिया था। इसी के साथ 4 आरोपी भी गिरफ्तार किए थे।

यह भी पढ़ें- अपना काला सच छिपाने इस पिता ने ले डाली 10 महीने के मासूम की जान


पुलिस उठा रही खर्च

इस कार्रवाई के बाद से बीते चार दिनों से पुलिस थाने में उन सभी 17 भैंसों की सेवा में लगी हुई है। बता दें कि गोवंश को पकड़ने के बाद उसे गौशाला में पहुंचा दिया जाता है। लेकिन, भैंसों को गौशाला पहुंचाने की कोई व्यवस्था नहीं है। अब जब तक उनके संबंध में कोर्ट से कोई आदेश नहीं आता, तब तक ये भैंसे पुलिस की निगरानी में ही रहेंगी। फिलहाल 4 से 5 हजार रुपए रोजाना का खर्च थाना प्रभारी वहन करना पड़ रहा है।

ट्रेंडिंग वीडियो