महिलाओं की पहल रंग लाई, मिलने लगा पानी

टैंकरों से वृंदावन कॉलोनी में पानी वितरण शुरू
-महिलाओं के आंदोलन क बाद अधिकारियों ने कॉलोनी में देखी व्यवस्थाएं
-मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराने पर कॉलोनाइजर्स को देंगे नोटिस

खंडवा.
जल संकट से जूझ रहे वृंदावन कॉलोनी में निगम ने टैंकर के माध्यम से जल वितरण का कार्य आरंभ किया है। गुरुवार को वृंदावन कॉलानी की महिलाओं ने पानी के लिए निगम के गेट पर धरना प्रदर्शन किया था। जिसके बाद निगमायुक्त ने आश्वासन देकर धरना खत्म कराया था। शुक्रवार से यहां पानी वितरण का कार्य आरंभ किया गया। साथ ही प्रभारी कार्यपालन यंत्री, जल व्यवस्था प्रभारी ने कॉलोनी में पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
शुक्रवार को प्रभारी कार्यलपालन यंत्री वर्षा घिडोडे व निगम का अमला वृंदावन कॉलोनी पहुंचा। यहां पर महिलाओं ने बताया कि कॉलोनी के हैंड ओवर होने की प्रक्रिया, नर्मदा जल सप्लाय, प्रकाश व्यवस्था और साफ-सफाई नहीं होना प्रमुख समस्या है। अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि उनकी सभी समस्याओं का हल किया जाएगा। साथ ही कहा कि जांच उपरांत कॉलोनाइजर्स को कॉलोनी मेंटेन्स नहीं करने का नोटिस दिया जाएगा। इस दौरान नगर निगम के इंदर मंडलोई ने नर्मदा जल संबंधी कनेक्शन लेने की प्रक्रिया बताई। उपयंत्री राधेश्याम उपाध्याय ने बताया कि जब तक समस्या हल नहीं हो जाती तब तक कॉलोनी को नगर निगम के टैंकरों से पानी सप्लाई किया जाएगा एवं निगम के कर्मचारी की देख रेख में नियमित पानी खोलने की प्रक्रिया की जाएगी। कॉलोनी की भारती पटेल ने कहा कि एक सप्ताह में समस्या का हल नहीं किया जाता तो महिलाओं द्वारा पुन: आंदोलन किया जाएगा। निरीक्षण के दौरान कॉलोनी की संजीता गंगराड़े, शकुंतला ठाकुर, कल्पना चौहान, रीना वर्मा, गीता पटेल एवं कॉलोनी की महिलाएं उपस्थित रहीं।

प्रभारी कार्यपालन यंत्री को कारण बताओ नोटिस
नगर निगम की समीक्षा बैठक में अनुपस्थित रहने, सीएम हेल्प लाइन के प्रकरणों का समय पर निराकरण नहीं करने व अन्य अनियमितताओं को लेकर प्रभारी कार्यपालन यंत्री को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। निगमायुक्त हिमांशु भट्ट ने शुक्रवार को जल कार्य व सीवरेज विभाग प्रभारी कार्य पालन यंत्री वर्षा घिघोड़े को नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब मांगा है।
प्रभारी कार्यपालन यंत्री वर्षा घिडोडे शुक्रवार को जल वितरण की विभागीय समीक्षा बैठक में सूचना के बाद भी उपस्थित नहीं हुईं थीं। साथ ही पूर्व में सीएम हेल्प लाइन व पीएमएवाय की शिकायतों का निराकरण समय सीमा में नहीं करने से 21 दिसंबर 2020 को भी उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब मांगा गया था। प्रभारी कार्यपालन यंत्री ने उक्त नोटिस का भी जवाब नहीं दिया। जिसके चलते दूसरी बार कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। नोटिस में कहा है कि क्यो न आपके विरुद्ध कर्तव्य के प्रति घोर लापरवाही व अनुशासनहीनता बरतने के कारण परिवीक्षावधि की समयावधि एक वर्ष तक बढ़ाने की कार्रवाई की जाए।

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned