script बढ़ा हुआ तो दूर मूल वेतन नहीं मिलने से अतिथि शिक्षकों को हो रही परेशानी | Guest teachers facing financial problems | Patrika News

बढ़ा हुआ तो दूर मूल वेतन नहीं मिलने से अतिथि शिक्षकों को हो रही परेशानी

locationखरगोनPublished: Dec 01, 2023 04:50:49 pm

Submitted by:

Amit Bhatore

आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे अतिथि शिक्षक

जनजातीय कार्य विभाग।
बढ़ा हुआ तो दूर मूल वेतन नहीं मिलने से अतिथि शिक्षकों को हो रही परेशानी
बढ़ा हुआ तो दूर मूल वेतन नहीं मिलने से अतिथि शिक्षकों को हो रही परेशानी

-आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे अतिथि शिक्षक


खरगोन. जिले की शासकीय स्कूलों में पदस्थ कई अतिथि शिक्षकों को एक से चार माह तक का वेतन नहीं मिल पाया है। इसके कारण उन्हें परिवार चलाने में आर्थिक परेशानी से जूझना पड़ रहा है। अधिकांश स्कूलों में जुलाई माह में अतिथि शिक्षकों की नियुक्तियां कर दी गई थी। हालांकि जनजातीय कार्य विभाग के अनुसार कई शिक्षकों को कुछ माह का वेतन मिल चुका है। शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल कुकडोल में पदस्थ अथिति शिक्षक अजय सोनी ने बताया कि जुलाई माह से वे पदस्थ है। चार माह हो गए वेतन नहीं मिला है। उनकी बाइक खराब हो गई है इसलिए साइकिल से स्कूल जाना पड़ रहा है। सोनी का कहना है कि पैसे नहीं होने से परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है। दीपावली व अन्य त्योहार भी फीके रहे। उन्होंने कहा कि शासन ने 29 सितंबर को आदेश जारी कर अतिथि शिक्षकों को बढ़ा हुआ मानदेय देने के निर्देश दिए थे। बढ़ा हुआ वेतन मिलना तो दूर शिक्षकों को मूल वेतन भी नहीं मिल पा रहा है।
जुलाई से स्कूलों में सेवाएं दे रहे हैं अतिथि शिक्षक

मप्र शिक्षक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सुरेंद्र सिंह पंवार ने बताया कि मप्र शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने अतिथि शिक्षकों को ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित करने का आदेश जारी कर एसएमडीसी की बैठक कर 17 जुलाई से स्कूलों में उपस्थिति के निर्देश जारी किए थे। जनजातीय कार्य विभाग भोपाल ने स्कूल शिक्षा विभाग के जारी आदेश का हवाला देकर सात जुलाई को अतिथि शिक्षकों को ऑनलाइन आमंत्रित करने की व्यवस्था नहीं होने पर ऑफलाइन एसएमडीसी की बैठक में प्रस्ताव पारित कर व्यवस्था करने के निर्देश दिए। साथ ही एसएमडीसी के प्रस्ताव के बाद जिले के तीन अधिकारियों की समिति बनाकर उनसे भी अनुमोदन करवाने के निर्देश दिए। अनुमोदन होने के बाद अतिथियों को कुछ ब्लाक में अगस्त व सितंबर का मानदेय दिया जाकर जुलाई व अक्टूबर का नहीं दिया। कुछ ब्लाक में जुलाई से अभी तक का वेतन नहीं मिला। उन्होंने अतिथि शिक्षकों को तत्काल वेतन भुगतान करने की मांग की है।

वर्शन

अतिथि शिक्षकों के वेतन लिए कोषायल में बिल लगे हैं। बीईओ के माध्यम से बिल लगाए गए हैं। कुछ अतिथि शिक्षकों को वेतन जारी किया गया है। जल्द ही अन्य शिक्षाकों का वेतन भी जारी हो जाएगा। -एडी गुप्ता, सहायक संचालक, जनजातीय कार्य विभाग, खरगोन

ट्रेंडिंग वीडियो