scriptBusinessmen are excited about the wedding season | शादी-विवाह के सीजन को लेकर कारोबारी हैं उत्साहित | Patrika News

शादी-विवाह के सीजन को लेकर कारोबारी हैं उत्साहित

locationकोलकाताPublished: Nov 26, 2023 03:51:28 pm

Submitted by:

Rabindra Rai

चार महीने के लंबे अंतराल के बाद शादियों की रौनक से महानगर के बाजार गुलजार नजर आ रहे हैं। त्यौहारी मौसम के बाद शादी विवाह का सीजन शुरू होने से कारोबारी उत्साहित हैं। शादियों के लिए खरीदारी अच्छी हो रही है। महानगर के प्रमुख बाजारों में रौनक देखी जा रही है। इस बार 15 दिसंबर तक लगभग 11 दिन शादी के जबरदस्त साये हैं। इस दौरान महानगर और आसपास लगभग 50 हजार शादियां होंगी। महानगर के कई होटल, बैंक्वेट हाल, कम्युनिटी सेंटर बुक किए जा चुके हैं

शादी-विवाह के सीजन को लेकर कारोबारी हैं उत्साहित
शादी-विवाह के सीजन को लेकर कारोबारी हैं उत्साहित
व्यवसाय: इस बार 35 फीसदी ज्यादा कारोबार की उम्मीद
पण्डित से लेकर परिधान विक्रेता, कैटरर तक की बुकिंग
चार महीने के लंबे अंतराल के बाद शादियों की रौनक से महानगर के बाजार गुलजार नजर आ रहे हैं। त्यौहारी मौसम के बाद शादी विवाह का सीजन शुरू होने से कारोबारी उत्साहित हैं। शादियों के लिए खरीदारी अच्छी हो रही है। महानगर के प्रमुख बाजारों में रौनक देखी जा रही है। इस बार 15 दिसंबर तक लगभग 11 दिन शादी के जबरदस्त साये हैं। इस दौरान महानगर और आसपास लगभग 50 हजार शादियां होंगी। महानगर के कई होटल, बैंक्वेट हाल, कम्युनिटी सेंटर बुक किए जा चुके हैं। शादी के लिए जरूरी बैंड बाजे, बारात के लिए घोड़ा गाड़ी एवं अन्य सजावटी वाहन, लाइट एंड साउंड आदि बुक हैं। कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय वाइस चेयरमैन सुभाष अग्रवाला ने कहा कि पिछले सीजन के मुकाबले इस बार 35 फीसदी ज्यादा कारोबार की उम्मीद है। इस दौरान 50 से 60 हजार करोड़ रुपए का व्यवसाय हो सकता है।
--
प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से कई लोगों को रोजगार
कैटरर मोहन महाराज ने बताया कि विवाह केवल दो परिवारों का जुड़ाव नहीं है बल्कि प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से कई लोगों की आजीविका का साधन है। पण्डित, भवन, बैंड बाजा, मेहंदी सहित विवाह सम्बन्धी चीजों के व्यवसाय से जुड़े सैकड़ों लोगों को रोजगार मिलता है। इसी रोजगार से इनके परिवार की आजीविका चलती है। उन्होंने बताया कि एक विवाह में सामान्य तौर पर एक पक्ष के लिए कैटरिंग कार्य में लगभग 30 लोगों को रोजगार मिलता है जबकि अपरोक्ष रूप से और भी 20-30 लोगों का जुड़ाव रहता है। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया, राष्ट्रीय वाइस चेयरमैन सुभाष अग्रवाला एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि दुर्गा पूजा के समय सिर्फ पश्चिम बंगाल में 3 लाख से ज्यादा कारीगरों, मजदूरों को काम मिला। अब शादियों के सीजन में भी बेहतर कारोबार की आस है।
--
ऑक्सीजन का काम करेगा सीजन
साड़ी व्यवसायी रमेश चंद्र ने बताया कि लगभग चार महीने बाद सीजन शुरू हो रहा है। उम्मीद है कि यह सीजन ऑक्सीजन का काम करेगा। आजकल त्योहारों पर ज्यादातर लोग हल्के परिधान पहनना पसंद करते हैं लेकिन शादी विवाह का ऐसा अवसर होता है जब भारी कपड़ों की मांग होती है। रमेश के अनुसार खुदरा बाजार शुरू होते ही बाजार में तेजी आ जाएगी।
--
एक-एक ऑर्डर 50 हजार तक
डेकोरेशन का काम करने वाले गौतम मालाकर ने कहा कि एक-एक ऑर्डर 50 हजार रुपए तक का होता है। इसमें भवन की सजावट से लेकर दूल्हे की गाड़ी सजाने का काम भी मिलता है। इसके अलावा इस समय बुके की मांग भी ज्यादा रहती है। बुके आर्डर 200 रुपये से शुरू होता है जबकि दूल्हे की गाड़ी को सजाने के लिए कोई तय रेट नहीं है। ग्राहकों की पसन्द के अनुसार जो लागत आती है उसी आधार पर डेकोरेशन चार्ज तय होता है।

ट्रेंडिंग वीडियो