कुछ साल बाद यहां हाइटेक तकनीक से होगा कोयला लोड, अधिक लाभ कमाने कंपनी कर रही इस तरह से तैयारी, पढि़ए खबर...

कुसमुंडा में चार साइलो का निर्माण किया जाएगा। इस पर लगभग 235 करोड़ 06 हजार 53 हजार रुपए खर्च होंगे। इसके लिए कंपनी ने टेंडर जारी कर दिया है।

By: Vasudev Yadav

Published: 11 Dec 2017, 11:00 AM IST

कोरबा . एसईसीएल की कुसमुंडा खदान में हाइटेक तकनीक से कोयला लोड किए जाएगा। इसके लिए कंपनी चार कोल साइलो का निर्माण करने जा रही है। इस पर लगभग 253 करोड़ रुपए खर्च होंगे। निर्माण में चार साल का समय लगने की संभावना है। एसईसीएल प्रबंधन कुसमुंडा खदान के विस्तार पर जोर दे रहा है। इसकी वार्षिक उत्पादन क्षमता 50 मिलियन टन करने की कवायद चल रही है।

इतनी अधिक मात्रा में खदान से निकलने वाले कोयले की ट्रांसपोर्टिंग के लिए कंपनी तैयारी में लगी है। कुसमुंडा में चार साइलो का निर्माण किया जाएगा। इस पर लगभग 235 करोड़ 06 हजार 53 हजार रुपए खर्च होंगे। इसके लिए कंपनी ने टेंडर जारी कर दिया है। ठेका कंपनी को साइलो का निर्माण सन् 2022 तक पूरा करना होगा। निविदा जमा करने की तिथि 12 जनवरी 2018 रखी गई है। प्रत्येक साइलो की क्षमता चार हजार टन होगी। साइलो निर्माण के बाद कुसमुंडा में हाइटेक तकनीक से कोयला लदान शुरू होगा। इसके पहले गेवरा में एसईसीएल ने एक साइलो का निर्माण किया है।

Read More :धान की रखवाली कर रहे ग्रामीण पर रात को भालू ने किया हमला, अस्पताल दाखिल

26 मिलियन उत्पादन
कुसमुंडा खदान की वार्षिक उत्पादन क्षमता अभी २६ मिलियन टन वार्षिक है। एसईसीएल की योजना यहां से कोयला उत्पादन बढ़ा कर ५० मिलियन टन वार्षिक करने की है।
1982 में खुली खदान
1982 में कुसमुंडा ओपेन कॉस्ट माइंस खुली थी। तब खदान की वार्षिक उत्पादन क्षमता 6.5 मिलियन टन सालाना था। कोयले की मांग को देखते हुए कंपनी ने कुसमुंडा खदान के विस्तार पर जोर दिया है।

अभी यह व्यवस्था
अभी कुसमुंडा में ब्लास्टिंग करके कोयले को तोड़ा जाता है। जेसीबी से ट्रक, हाइवा या अन्य मालवाहक गाडिय़ों से कोयला स्टॉक पहुंचाया जाता है। यहां से कन्वेयर बेल्ट पर कोयला कोल हैंडलिंग प्लांट तक पहुंचता है। रेल की वैगन में लोड होकर गंतव्य स्थल तक जाता है। खदान के स्टॉक से कोयला रोड सेल की गाडिय़ों को दिया जाता है। इस व्यवस्था में कोयले का कई बार जेसीबी मशीन से उठा होता है। इससे काफी अधिक वायु प्रदूषण होता है और समय भी अधिक लगता है।

कोलवाशरी का निर्माण
कोल मंत्रालय ने कुसमुंडा में एक कोलवाशरी लगाने की भी मंजूरी दी है। इस पर कार्य चल रहा है। वाशरी निर्माण के बाद कोयला खरीदने वाली कंपनी को पानी से धुलाई किया हुआ साफ कोयला मिल सकेगा। कुसमुंडा, गेवरा या दीपका में एसईसीएल की एक भी कोलवाशरी नहीं है। क्षेत्र में निजी कंपनियों ने जरूर कोलवाशरी लगाई है।

यह होगा लाभ
कंपनी की योजना खदान में कोयले की फेस को काट कर सीधा माल उठाने की है। फेस से कन्वेयर बेल्ट पर उठाकर कोयला साइलो तक आएगा। यहां से सीधे रेल के वैगन या रोड सेल को लोड दिया जाएगा। रेल की बोगी या माल वाहक गाडिय़ों में ओवर लोड भी नहीं होगा। इसमें ट्रक, हाइवा या जेसीबी मशीन की मदद नहीं ली जाएगी। डस्ट कम उड़ेगा। उत्पादन क्षमता बढऩे के साथ कोल डस्ट पर भी प्रभावी नियंत्रण होगा। इसी मकसद से साइलो निर्माण पर जोर दिया जा रहा है।

इन चार साइलो से जुड़े खास तथ्य
-लगात लगभग 253 करोड़
-चार साल में बन कर होंगे तैयार
-साइलो की क्षमता चार हजार टन होगी
-रेल की वैगन या रोड सेल को साइलो से मिलेगा कोयला
-प्रदूषण पर प्रभारी नियंत्रण की कोशिश
-समय की होगी बचत

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned