scriptDeer: 30 deer took Guru Ghasidas national park from Barnavapara | बारनवापारा अभयारण्य से गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में इस काम के लिए लाए गए 30 चीतल | Patrika News

बारनवापारा अभयारण्य से गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में इस काम के लिए लाए गए 30 चीतल

Deer: गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान (Guru Ghasidas National Park) में आने वाले पयर्टकों (Tourists) को लुभाएंगे वन्यजीव, बलौदाबाजार बारनवापारा अभ्यारण्य से लाए गए 30 चीतलों को 20 दिन ऑब्जर्वेशन (Observation) में रखकर जंगल में छोड़ा जाएगा

कोरीया

Updated: January 20, 2022 02:51:36 pm

बैकुंठपुर. Deer: गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में पयर्टकों को वन्यजीव प्राणी लुभाएंगे। बारनवापारा अभ्यारण्य से 30 नग चीतल लाए गए हैं। जिनको पार्क एरिया में 20 दिन तक विशेष ऑब्जर्वेशन में रखा गया है। फिर राष्ट्रीय उद्यान एरिया के जंगल में छोड़ा जाएगा। पहले चरण में 30 नग चीतल लाए गए हैं। राष्ट्रीय उद्यान (National Park) में चीतल लाने की बहुत से तैयारी थी, लेकिन कोरोना संक्रमण काल के कारण लेटलतीफी हुई। फिलहाल गुुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में फरवरी महीने में चीतल (Cheetal) विचरण करते नजर आएंगे। वहीं दूसरी चरण में जल्द 150 नग चीतल लाने की कवायद शुरू कर दी गई है।
Cheetal
Deer

गौरतलब है कि गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान का एरिया 1440.57 वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है। उद्यान क्षेत्र में बाध, मोर, तेंदुआ, नीलगाय, भालू, चीतल, हिरण, बारह सिंघा, चिरकभाल, जंगली बिल्ली सहित ३२ प्रकार के जंगली जानवर हैं।

जंगल में गौर भी जल्द नजर आएंगे
राष्ट्रीय उद्यान प्रबंधन के अनुसार वन्य प्राणी गौर लाने की कवायद शुरू कर दी गई है। बलौदाबाजार बारनवापारा से ४६ नग गौर लाने अप्रुअल मिल चुका है। उद्यान प्रबंधन जर्जर बाड़े को संवारने में जुट गया है। करीब 3 साल पहले वन्यप्राणी गौर लाकर वंशवृद्धि करने प्रोजेक्ट बनाया गया था।
राज्य सरकार से स्वीकृति मिलने के बाद करोड़ों खर्च कर गौर बाड़ा बनाया गया है। लेकिन पार्क परिक्षेत्र के वन अफसरों की लापरवाही के कारण गौर बाड़ा जर्जर हो चुके हैं। फेंसिंग तार व लकड़ी के खंभे टूट गए हैं। वहीं कोरोना काल के कारण गौर प्रोजेक्ट को करीब दो साल से ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया था। अब राष्ट्रीय उद्यान में मार्च 2022 में गौर विचरण करते नजर आएंगे।
यह भी पढ़ें: पत्रिका एक्सक्लूसिव: वंश बढ़ाने गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में नजर आएंगे साउथ अफ्रीका के चीते


टाइगर रिजर्व बनने के बाद पर्यटन सुविधाएं बढ़ेंगी
नेशनल टाइगर कंजर्वेशन ऑथारिटी (एनटीसीए) गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान को टाइगर रिजर्व बनाने अप्रुअल मिल चुका है। जिसका एरिया 1440.57 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। वर्ष 2005 के सर्वेक्षण के हिसाब से 32 प्रकार के वन्यजीव प्राणी विचरण करते हैं। गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और सरगुजा के तमोर पिंगला अभयारण्य को मिलाकर टाइगर रिजर्व बनाया जाएगा। पहली बार टाइगर रिजर्व का पूरा क्षेत्रफल आया।
टाइगर रिजर्व के कोर जोन में 2 हजार 49 वर्ग किलोमीटर तथा बफर जोन में 780 वर्ग किलोमीटर जंगल है। वहीं 2 हजार 829 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल टाइगर रिजर्व का हिस्सा होगा। छत्तीसगढ़ फॉरेस्ट ने वर्ष 2019 में गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और तमोर पिंगला अभयारण्य को टाइगर रिजर्व बनाने का प्रस्ताव पारित किया था।
जिसमें प्रस्तावित टाइगर रिजर्व का क्षेत्रफल नहीं था। एनटीसीए से गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान को टाइगर रिजर्व बनाने अनुमति मिल चुकी है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान, भारत का ५३वां टाइगर रिजर्व अस्तित्व में आएगा।
यह भी पढ़ें: गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान बनेगा देश का 53वां टाइगर रिजर्व, एनटीसीए से मिली अनुमति


20 दिन की विशेष निगरानी के बाद जंगल में छोड़ेंगे
गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान (National Park) में करीब 30 की संख्या में चीतल लाए गए हैं। जिनको 20 दिन तक विशेष निगरानी में रखा गया है। उसके बाद जंगल में छोड़ा जाएगा। वहीं 150 की संख्या में और चीतल लाने की तैयारी है।
आर. रामाकृष्णा वाई, डायरेक्टर गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान कोरिया

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायानवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमतिSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.