जिनको दिया भगवान का दर्जा उन्ही की लापरवाही ले रही मासूमों की जान, फिर 1 की मौत

बारां. चिकित्सकों की हड़ताल जानलेवा साबित हो रही है। पहले कोटा में 2 दिन में 5 मासूमों ने दम तोड़ा था अब बारां में एक की मौत हो गई।

By: abhishek jain

Published: 10 Nov 2017, 07:40 PM IST

 

बारां.

चिकित्सकों की हड़ताल जानलेवा साबित हो रही है। बारां जिला अस्पताल में रातभर से भर्ती आठ वर्षीया बालिका की हालत में सुधार नहीं होने पर उसे शुक्रवार सुबह कोटा के लिए रेफर किया गया, लेकिन रास्ते में उसकी मौत हो गई।

 

Read More: सरकार व चिकित्सकों के विवाद की भेंट चढे़ मासूम बच्चे, 48 घंटों में 5 की मौत



बालिका के चाचा अल्ताफ हुसैन ने बताया कि बालिका शिरीन स्वस्थ थी तथा गुरुवार रात करीब नौ बजे तक घर पर खेल रही थी। रात 11 बजे अचानक तबीयत बिगड़ी तो बारां अस्पताल में उसे आपातकालीन वार्ड में भर्ती किया। तड़के करीब चार बजे आईसीयू में भर्ती किया गया, लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। एम्बुलेंस से कोटा के लिए रवाना हुए, लेकिन रास्ते में दम टूट गया।

 

Read More: मरीजों के मसीहा बन डॉक्टर्स के खिलाफ खड़े हुए दूधवाले, बोले इलाज नहीं तो दूध नहीं

 

इस मामले में पीएमओ डॉ. संपतराज नागर ने बताया कि बालिका गंभीर थी। उसे कंजर्वन दौरे आ रहे थे और सांस लेने में तकलीफ थी। वेंटीलेटर पर भी रखा, लेकिन सुधार नहीं हुआ तो कोटा रैफर किया गया था। उस समय भी ऑक्सीजन लगाकर नर्सिंगकर्मी के साथ भेजा गया था। इधर, कोटा जिले में मेडिकल कॉलेज से जुड़े तीन अस्पतालों में चिकित्सकों की हड़ताल के चलते 25 ऑपरेशन टालने पड़े।

 

Read More: डॉक्टर्स सीरियस मरीज की भी नहीं ले रहे सुध, भटक रहे रेफर मरीज, पर्ची लिख भेज रहे घर

 

संभाग में तीन चिकित्सक गिरफ्तार

कोटा. भवानीमंडी. हड़ताली चिकित्सकों पर रेस्मा के तहत सख्ती दिखाते हुए पुलिस ने संभाग से तीन चिकित्सकों को गिरफ्तार किया है। भवानीमंडी में दो चिकित्सकों को गिरफ्तार किया। सीआई सुनील कुमार ने बताया कि तहसीलदार मनमोहन गुप्ता अपने कार्मिक को सामुदायिक चिकित्सालय दिखाने गए थे, जहां सेवारत चिकित्सक संघ के जिला अध्यक्ष डॉ. नरेश अग्रवाल और संरक्षक डॉ. हेमंत शर्मा अन्य चिकित्सकों को काम नहीं करने के लिए उकसा रहे थे।

उन्होंने एसडीएम डॉ. राकेश मीणा को अवगत कराया। इसके बाद तहसीलदार गुप्ता की रिपोर्ट पर डॉ. अग्रवाल और डॉ. शर्मा को गुरुवार रात घर से गिरफ्तार किया। शुक्रवार को दोनों को न्यायालय में पेश किया, जहां दोनों ने काम पर तुरंत लौटने का शपथ पत्र दिया। उधर, रेस्मा के तहत कोटा जिले के कनवास में भी चिकित्साधिकारी लाल सिंह मीणा को गिरफ्तार किया गया।

 

Read More: Video: पद्मावती फिल्म का मामला गर्माया, भंसाली पर हुई देश द्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

 

दिखाई सख्ती तो चिकित्सक ने देखे मरीज

इन्द्रगढ़. बूंदी जिले के इंद्रगढ़ कस्बे में पुलिस ने स्थानीय चिकित्सकों के घरों पर दबिश दी। इस दौरान डॉ.सतीश सक्सेना घर पर मिले तो पुलिस उन्हें थाने ले गई। कानूनी कार्रवाई की चेतावनी देने के बाद चिकित्सक ने लिखित में पत्र सौंपा और शाम की पारी में अस्पताल पहुंचकर मरीजों का उपचार किया।

Patrika
abhishek jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned