मरीजों के मसीहा बन डॉक्टर्स के खिलाफ खड़े हुए दूधवाले, बोले इलाज नहीं तो दूध नहीं

कोटा. विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर उतरे चिकित्साकर्मियों के खिलाफ अब कोटा शहर के प्राइवेट डेयरी फेडरेशन ने भी मोर्चा खोल दिया है।

By: abhishek jain

Published: 09 Nov 2017, 08:15 PM IST

कोटा .

विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर उतरे डॉक्टर, नर्सिंग कर्मचारी, कम्पाउंडर व अन्य स्टॉफ के खिलाफ अब कोटा शहर के प्राइवेट डेयरी फेडरेशन ने भी मोर्चा खोल दिया है। डेयरी संघ ने बुधवार को घोषणा की है कि मानवीय दृष्टिकोण को अपनाते हुए हड़ताल पर उतरे चिकित्सकों व अन्य स्टॉफ को अस्पतालों की व्यवस्थाएं संभाल लेनी चाहिए। नहीं तो शुक्रवार से हड़ताल में शामिल डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टॉफ, कम्पाउंडर व सहयोगियों के घर दूध की आपूर्ति नहीं की जाएगी।

 

Read More: सरकार व चिकित्सकों के विवाद की भेंट चढे़ मासूम बच्चे, 48 घंटों में 5 की मौत

 

फैडरेशन अध्यक्ष उमरदीन रिजवी ने बताया कि दो दिन से मरीज अस्पतालों में उपचार के लिए भटक रहे हैँ। जहां उन्हें उपचार नहीं मिल रहा। और तो और उपचार के अभाव में लोगों की जाने जा रही है। कोटा के जेकेलोन अस्पताल में एक ही दिन में 5 नवजात शिशुओं की मौत के सीधे जिम्मेदारी हड़ताली डॉक्टर है। डॉक्टर्स को तो भगवान का दर्जा दिया हुआ है। जो अपनी आंखों के सामने रोगियों को मरता छोड़ जा रहा है।

 

Read More: न मिले डॉक्टर और न मिला इलाज, भटकते मरीजों को मिली तो सिर्फ तारीख

 

सचिव उमाशंकर नामा ने बताया कि कोटा शहर में 400 प्राइवेट डेयरियां है। वहीं संभाग में करीब 800-1000 प्राइवेट डेयरियां है। जिनके संचालकों को डेयरी फेडरेशन के फैसले से अवगत कराया जा रहा है। साथ ही गली मोहल्लों में दूध बेचने वाले दूधियों से भी मांग की जा रही है कि वे भी फैडरेशन के इस कार्य में पूरा सहयोग करें।

 

Read More: गर्भवती महिलाएं प्रसव पूर्व जांच कराने जा रही हैं तो पहले पढ़े ये खबर

इसलिए कर रहें हैं चिकित्सक हड़ताल

कोटा. सेवारत चिकित्सकों ने 33 सूत्री मांगों को लेकर चिकित्सक असहयोग आन्दोलन चला रखा है। जिसके चलते मरीजों को इलाज में परेशानी हो रही है।

 

Read More: डॉक्टर्स सीरियस मरीज की भी नहीं ले रहे सुध, भटक रहे रेफर मरीज, पर्ची लिख भेज रहे घर

abhishek jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned