लॉकडाउन में मप्र जाकर बारात लौट आई, दो बाल विवाह हुए, सोता रहा प्रशासन!

मध्यप्रदेश में तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बर्खास्त, मामले को दबा रहा राजस्थान का प्रशासन

By: mukesh gour

Published: 21 May 2020, 12:11 AM IST

छबड़ा. लॉकडाउन के बीच मध्यप्रदेश-राजस्थान की सीमा पर प्रशासन भले ही चौकसी के दावे कर रहा हो, लेकिन इसी दौरान दो बाल विवाह होने का पता चला है। कमिश्नर के दौरे वाले दिन 16 मई को छबड़ा क्षेत्र तेलनी पंचायत के पीपलखेड़ी गांव से बंजारा समाज की दो बारातें मध्यप्रदेश में गुना के ग्राम पनहेटी एवं भाऊपूरा से दो नाबालिग लड़कियों को ब्याह कर लौट आई। इनमें से एक की उम्र 13 साल बताई जा रही है, वहीं एक लड़का भी नाबालिग है।

read also : टिड्डी दल का रावतभाटा के जंगलों में जमावड़ा

छबड़ा प्रशासन मामले को लेकर अनभिज्ञता जताते हुए इसे दबाने में जुटा है। जानकारी के अनुसार बापचा पुलिस मामले को नकार रही है। जानकारी के अनुसार दोनों नाबालिग लड़कियां मंगलवार शाम तक पीपलखेड़ी में ही थीं। वर पक्ष के परिजन चतराराम एवं मांगीलाल बंजारा है। इन्हीं के पुत्रों का विवाह मध्यप्रदेश में 17 मई को संपन्न हुआ। 16 मई को यह लोग यहां से बारात लेकर गए थे। 16 मई से बापचा थाने के अंतर्गत आने वाली सभी चैक पोस्टों पर कमिश्नर के दौरे को देखते हुए चौकसी बढ़ा दी गई थी। कमिश्नर के दौरे के एक दिन पहले बापचा थाना क्षेत्र के तहत तेलनी पंचायत के पीपलखेड़ी से दो बारातें बगैर स्थानीय प्रशासन की अनुमति मध्यप्रदेश कैसे जा पहुंची। कमिश्नर के दौरे वाले दिन 17 मई को मध्यप्रदेश के बमोरी ब्लॉक के भाऊपुरा, पनहेटी में विवाह संपन्न कराकर दोनों बारातें नाबालिग लड़कियों को लेकर वापस कैसे पीपलखेड़ी जा पहुंची।

read also : जब कोटा-बीना रेलवे लाइन के तारों से होने लगे एक के बाद एक फॉल्ट

बगैर अनुमति गए!
नियम के अनुसार अन्य प्रदेश में शादी-विवाह समारोह के लिए उपखंड अधिकारी स्तर पर अनुमति ली जाना जरूरी है। जैसा कि जाहिर है, इन विवाह के लिए न तो अनुमति ली गई और न ही इसका ध्यान रखा गया कि कोरोना लॉकडाउन में ऐसे आयोजनों पर पहले से ही पाबंदी लगी हुई है।

read also : चम्बल गार्डन में एन्ट्री से निगम कमाएगा 35 लाख

मप्र में हुई कार्रवाई
गुना में जब मामला सामने आया तो प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी पवनजीत सिंह अरोरा ने तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं रति कुनेश्वरी, कांता शर्मा एवं ममता को बर्खास्त कर दिया। इसके साथ ही फतेहगढ़ थाना प्रभारी को पत्र जारी कर वर-वधु पक्ष के लोगों के खिलाफ बाल विवाह अधिनियम में एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं। थानाधिकारी ने मामला दर्ज कर जांच भी शुरू कर दी है।

परियोजना अधिकारी का पत्र मिला है। लड़कियों के नाबालिग होने की पुख्ता जांच करवाई जा रही है। मामले में दोषी वर-वधु पक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।
गजेंद्र सिंह बुंदेला, थानाधिकारी, फतेहगढ़ (गुना)

read also : ईद की नमाज के लिए समाज ने जारी की गाइडलाइन

हम पूरी तरह से मुस्तैद हैं। क्षेत्र में इस तरह का कोई विवाह संपन्न नहीं हुआ है।
हरलाल मीणा, बापचा थानाधिकारी

बापचा थाना अधिकारी से जानकारी मांगी थी, कोई जानकारी नहीं मिली। हमारे क्षेत्र में कोई बाल विवाह नहीं हुआ।
दुर्गाशंकर मीणा, उपखंड अधिकारी, छबड़ा

Show More
mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned