भारी बारिश से जनपद में बने बाढ़ जैसे हालात, कई ट्रेनें प्रभावित, इतनों की हुई मौत

भारी बारिश से जनपद में बने बाढ़ जैसे हालात, कई ट्रेनें प्रभावित, इतनों की हुई मौत
Flood

Abhishek Gupta | Updated: 16 Aug 2019, 04:05:51 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

-बारिश से पाली के नीलकंठेश्वर और बंट तालाब ओवरफ्लो होने से गोविंदसागर बांध का जल स्तर अचानक बढ़ा
-जल स्तर बढ़ने से बांध के गेटों तथा तीन साइफनों से पानी की निकासी के चलते शहर के हालत हुए बाढ़ जैसे
-निचले कई मुहल्लों के साथ साथ गांवों में घुसा बांध नदियों और नालों का पानी
-जिलाधिकारी ने निचले इलाकों में हाई एलर्ट घोषित कर किया निरीक्षण
-सुरक्षा की दृष्टि से भारी पुलिस बल के साथ सम्बन्धित अधिकारी तैनात

ललितपुर. जनपद में पिछले कई दिनों से हो रही लगातार बारिश से पूरा जनपद पानी पानी हो गया है। जनपद की कई नदियां व नाले, तालाब उफान पर हैं, जिसके चलते जनपद के कई बड़े बांधों से पानी की निकासी की जा रही है । वहीं दूसरी ओर जनपद के कई गांव के तालाब या तो ओवरफ्लो हो गए हैं या फिर फट गए हैं, जिससे शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी हालात बाढ़ जैसे हैं। तो वहीं भारी बारिश से रेल और सड़क मार्ग भी बाधित हुए हैं।

ये भी पढ़ें- भाजपा से निष्कासित होने के बावजूद कुलदीप सेंगर को मिला बड़ा सम्मान, भाजपा में हड़कंप

कई ट्रेनें हुईं प्रभावित-

गुरुवार को तेज बारिश की वजह से ललितपुर-बीना रेल मार्ग पर धौर्रा व मोहासा रेलवे स्टेशन के बीच ट्रैक पर पानी भर गया जिससे देर तक ट्रेनों का आवागमन प्रभावित रहा। दिल्ली और मुंबई जाने वाली आधा दर्जन से अधिक ट्रेनें लेट हो गईं और कई के मार्ग में परिवर्तन कर दिया गया। हालांकि देर रात ट्रैक पर पानी कम होने से सभी ट्रेनों को रवाना किया गया।

ये भी पढ़ें- अस्वस्थ के बावजूद मुलायम सिंह यादन पहुंचे सपा कार्यालय, कार्यकर्ताओं के बीच किया बड़ा ऐलान, सभी हैरान

Flood

200 से अधिक मकान पानी में डूबे-

थाना पाली के स्थानीय कस्बे का भुजरिया तालाब एवं नीलकंठेश्वर तालाब फटने से पाली और आसपास के निचले क्षेत्रों में पानी भरने से हालात बाढ़ जैसे हो गए हैं। वहीं बंट तालाब ओवर फ्लो होने से गोविंद सागर बांध का जलस्तर अचानक बढ़ गया जिससे बांधों के 16 गेटों के साथ-साथ 3 साइफलों से पानी छोड़ा गया। इसके कारण शहर के नदीपुरा गोविंदनगर तालाबपुरा लक्ष्मीपूरा मवेशी बाजार सहित कई मुहल्लों के 200 से अधिक मकानों में पानी घुसने से हालात बाढ़ जैसे उत्पन्न हो गए हैं। साथ ही सहजाद नदी में अचानक पानी बढ़ने से निचले इलाकों के कई गांवों में पानी घुस गया।

ये भी पढ़ें- भाजपा संगठन के चुनाव होंगे इस तारीख से, हुआ बड़ा ऐलान, नामों की हुई घोषणा

स्कूलों में घुसा पानी-

हालात ऐसे हो गए कि नाले का पानी स्कूलों में भर गया है। राजघाट बांध से पानी की निकासी के बाद उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बॉर्डर को जोड़ने वाला राजघाट पुल पानी में डूब गया और दोनों राज्यों का संपर्क एक दूसरे से कट गया। तो वहीं ललितपुर जखौरा और जखौरा तालबेहट मार्ग पर पढ़ने वाली खेड़र नदी का जलस्तर बढ़ने से भी जखौरा ललितपुर तथा तालबेहट जखौरा मार्ग का भी संपर्क कटा रहा है। इतना ही नहीं, ललितपुर और मध्य प्रदेश के समीपवर्ती क्षेत्रों में भारी बारिश होने से बीना ललितपुर रेल लाइन भी पानी भरने से बाधित रहा। पानी की निकासी लगातार की जा रही है।

Flood

पानी में डूबने से युवक की मौत-
थाना पाली के कुरयाना निवासी विष्णु पुत्र रामचरन (22) की पानी में डूब जाने से मौत हो गयी। पानी में डूबने के बाद परिजन उसे सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र बिरधा लाएं, जहाँ चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया गया है कि घर के पीछे भरे पानी को निकालने की कोशिश में वह डूब गया।

जिला प्रशासन व पुलिस मुस्तैद-

इस धटना क्रम पर जिला अधिकारी मानवेंद्र सिंह के साथ पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन के अधिकारी नजर बनाए हुए हैं । सभी क्षेत्रों में एसडीएम को स्थिति पर नजर रखने के आदेश दिए गए हैं तथा जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह खुद क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं । सुरक्षा की दृष्टि को देखते हुए भारी मात्रा में पुलिस बल को तैनात किया गया है एवं पीएसी की बटालियन भी बुलाई गई है। डूब क्षेत्र के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा कर उनके खाने-पीने की व्यवस्था की गई है, तो वही ग्रामीणों को भी सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned