Mark Zuckerberg Jiomart-WhatsApp को Global Model बनाने की कर रहे हैं तैयारी

  • Facebook Founder ने कहा, Whatsapp के 40 करोड़ यूजर्स Jiomart की करेंगे मदद
  • Mukesh Ambani ने 12 करोड़ किसान और 3 करोड़ किराना दुकानों का बनाया टारगेट

By: Saurabh Sharma

Updated: 02 Aug 2020, 05:13 PM IST

नई दिल्ली। फेसबुक फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ( Facebook founder Mark Zuckerberg ) अब जियो मार्ट और व्हाट्सएप ( Jiomart Whatsapp Deal ) के गठजोड़ को अब ग्लोबल मॉडल बनाने की तैयारी कर रहे हैं। ताकि दुनिया के हरेक देश में ऐसी भागेदारी कर सके। मार्क जुकरबर्ग ( Mark Zuckerberg ) ने कहा कि जियो प्लेटफॉर्म्स ( Jio Platforms ) में निवेश और व्हाट्सएप की भागीदारी भारत में लाखों किराना दुकानों और छोटे व्यवसायों को कारोबार करने में मदद करेगी और यदि व्हाट्सएप और जियोमार्ट का मॉडल ( Jiomart Whatsapp Model ) कारगर रहा तो इसे दुनिया भर में आजमाया जाएगा। मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani ) का जियोमार्ट लांचिंग के बाद लोकप्रियता के नए शिखर पर पहुंच रहा है। इसका प्रमाण चंद सप्ताहों के भीतर ही इस पर एक दिन में चार लाख से अधिक ऑर्डर बुक होना है।

यह भी पढ़ेंः- UPI ने जून का तोड़ा रिकॉर्ड, भारत में हुए 150 करोड़ Trasaction

व्हाट्सएप से मिलेगी जियोमार्ट को मदद
फेसबुक ने जियो प्लेटफॉम्र्स में 22 अप्रैल को 9.9 फीसदी इक्विटी के लिए 43574 करोड़ रुपए का निवेश किया है। जियोमार्ट और व्हाट्सऐप का आपस में तालमेल किया जा रहा है। इसके बाद 40 करोड़ व्हाट्सएप कस्टमर्स से जियोमार्ट को और मजबूती मिलने की उम्मीद है। ग्राहक नजदीक की किराना दुकान पर जियोमार्ट और व्हाट्सएप का इस्तेमाल कर भुगतान कर सकेंगे। जियोमार्ट की रणनीति है कि बिचौलियों को कम करके किसानों से ग्राहकों के घर तक सीधे सामान की सप्लाई की जाए।

यह भी पढ़ेंः- आंकड़ों में समझें Petrol और Diesel का खेल, कैसे हो जाता है Base Price से तीन गुना महंगा

जियोमार्ट ने बनाया रिकॉर्ड
जियोमार्ट का दावा है कि ऑर्डर की यह संख्या ऑनलाइन किराना कारोबार वर्ग में एक रिकॉर्ड है। इसी सप्ताह रिलायंस इंडस्ट्रीज की पहली तिमाही के नतीजों की घोषणा में कहा गया कि ऑर्डरों की संख्या में इजाफे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 15 जुलाई को रिलायंस की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने ने जियोमार्ट पर ऑर्डर की संख्या 2.5 लाख बताई थी। सोडेक्सो कूपन के माध्यम से भी ऑर्डर लिए जा रहे हैं, जिसका फायदा भी कंपनी को मिल रहा है।

यह भी पढ़ेंः- RBI MPC और Economic Data से तय होगी Share Market की चाल

यह है जियोमार्ट का टारगेट
वहीं किराना कारोबार के पुराने दिग्गज ग्रोफर्स और बिग बास्केट ऑर्डर की संख्या के मामले में जियोमार्ट से मुकाबले में कहीं पीछे हैं। अंबानी ने देश के 12 करोड़ किसानों और तीन करोड़ किराना दुकान मलिकों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है। किराना स्टोर्स की ऑनबोर्डिंग के साथ ही जियोमार्ट ने इसका श्रीगणेश कर दिया है।

यह भी पढ़ेंः- Microsoft के हाथों 3.75 लाख करोड़ रुपए में बिक सकता है TikTok

किराना दुकानों तक सीमित नहीं रहेगा जियोमार्ट
इसी वर्ष मई के आखिरी सप्ताह में जियोमार्ट ने 200 शहरों से अपनी शुरूआत की थी। नब्बे शहरों में पहली बार ग्राहक किराना की ऑनलाइन खरीदारी के साथ जुड़े थे। प्रतिस्पर्धा में अपनी पैठ को बनाने के लिए जियोमार्ट पर उपलब्ध अधिकतर चीजों के दाम ऐसे ही दूसरे प्लेटफॉम्र्स से पांच प्रतिशत सस्ते रखे गए हैं। ब्रांडेड सामान की कीमतें भी कुछ कम रखी गई हैं। मुकेश अंबानी के अनुसार किराना दुकानों के अलावा जियोमार्ट आने वाले दिनों में इलेक्ट्रॉनिक्स, फैशन, फार्मास्युटिकल और हेल्थकेयर के क्षेत्रों को भी कवर करेगा।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned