2 डेवलपर्स कर रहे थे यूजर्स का डाटा स्क्रैप, Facebook ने उठाया बड़ा कदम

  • इन अभियुक्तों द्वारा एक ब्राउजर एक्सटेंशन का निर्माण किया गया और इन्हें क्रोम स्टोर पर उपलब्ध कराया गया।
  • जेसिका रोमेरो ने कहा कि एक गोपनीयता नीति के साथ एक्सटेंशन को इंस्टॉल कर इन्होंने यूजर्स को गुमराह किया है।

By: Mahendra Yadav

Published: 15 Jan 2021, 03:19 PM IST

फेसबुक (Facebook) ने अपनी वेबसाइट से यूजर्स के प्रोफाइल और अन्य डेटा को स्क्रैप करने के चलते पुर्तगाल के दो डेवलपर्स के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। व्यापारिक नाम ओइंक एंड स्टफ का इस्तेमाल करते हुए इन अभियुक्तों द्वारा एक ब्राउजर एक्सटेंशन का निर्माण किया गया और इन्हें क्रोम स्टोर पर उपलब्ध कराया गया।

फेसबुक में प्लेटफॉर्म इंफोर्समेंट एंड लिटिगेशन की निदेशक जेसिका रोमेरो ने कहा कि एक गोपनीयता नीति के साथ एक्सटेंशन को इंस्टॉल कर इन्होंने यूजर्स को गुमराह किया है। इस गोपनीयता नीति या प्राइवेसी पॉलिसी में यह दावा किया गया था कि वे किसी भी व्यक्तिगत जानकारियों का संग्रह नहीं करते हैं।

स्पाईवेयर की तरह करते हैं काम
वेब फॉर इंस्टाग्राम प्लस डीएम, ब्लू मैसेंजर, ईमोजी की-बोर्ड और ग्रीन मैसेंजर जैसे इनके चार एक्सटेंशन दुर्भावनापूर्ण रहे हैं। ये छिपे हुए कंप्यूटर कोड से लैस रहे हैं, जो स्पाईवेयर की तरह से काम करता है। लोग जब अपने ब्राउजर्स पर इन एक्सटेंशंस को इंस्टॉल करेंगे, तो वे छिपे हुए कोड को इंस्टॉल कर रहे होंगे, जिन्हें यूजर्स के फेसबुक वेबसाइट से जानकारियों को स्क्रैप करने के लिए डिजाइन किया गया है।

यह भी पढ़ें-Facebook में हुआ बड़ा बदलाव, हटाया सबसे काम का यह बटन, जानिए यूजर्स पर क्या फर्क पड़ेगा

facebook.png

स्थायी निषेधाज्ञा जारी करने की मांग
साथ ही इनके द्वारा उन ब्राउजर्स से भी आंकड़े ले लिए जाएंगे, जो फेसबुक से संबंधित नहीं है और यह सब कुछ यूजर्स की जानकारी के बगैर होगा। रोमेरो ने कहा कि इन जानकारियों में यूजर्स के नाम, उनकी आईडी, रिलेशनशिप स्टेटस, आयु सहित और भी कई जानकारियां होंगी। रोमेरो आखिर में कहती हैं, हम अभियुक्तों पर स्थायी निषेधाज्ञा जारी करने की मांग कर रहे हैं और चाह रहे हैं कि वे अपने पास से फेसबुक के सभी डेटा को डिलीट कर दें।

यह भी पढ़ें-खुफिया कैमरे वाले स्मार्ट इंटरनेट ग्लासेज ला रहा फेसबुक, जानें इसकी खूबियां

व्हाट्सएप की नई पॉलिसी का विरोध
बता दें कि इन दिनों फेसबुक के स्वामित्व वाली इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सप इन दिनों अपनी नई पॉलिसी को लेकर विरोध का सामना कर रही है। नई पॉलिसी के तहत यूजर्स का डाटा फेसबुक व उसके स्वामित्व वाली अन्य कंपनियों के साथ साझा किया जाएगा। इसी वजह से लाखों यूजर्स व्हाट्सएप छोड़कर दूसरी मैसेजिंग एप्स पर अपना अकाउंट बना रहे हैं। बता दें कि व्हाट्सएप ने साफ कहा है कि जो यूजर उनकी नई पॉलिसी को एक्सेप्ट नहीं करेंगे वे 8 फरवरी के बाद अपना व्हाट्सएप अकाउंट नहीं चला पाएंगे।

Show More
Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned