हैकर्स ने रची बड़ी साजिश, 100 हाई प्रोफाइल लोगों पर साइबर अटैक, माइक्रोसॉफ्ट ने ऐसे किया नाकाम

यह साइबर हमला 100 से ज्यादा हाईप्रोफाइल लोगों पर किया गया था। इस हमले का मकसद खुफिया जानकारियां हासिल करना था। इसमें हैकर्स ने पूर्व राजदूतों और वरिष्ठ नीति विशेषज्ञों के अकाउंट्स पर निशाना बनाया था।

By: Mahendra Yadav

Published: 31 Oct 2020, 03:52 PM IST

फिरौती मांगने या जानकारियां हासिल करने के लिए हैकर्स अक्सर किसी व्यक्ति पर साइबर अटैक करते हैं और उनके अकाउंट्स को निशाना बनाते हैं। दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट (microsoft) ने हाल ही एक ऐसे ही बड़े साइबर अटैक को नाकाम कर दिया। यह साइबर हमला 100 से ज्यादा हाईप्रोफाइल लोगों पर किया गया था। इस हमले का मकसद खुफिया जानकारियां हासिल करना था। इसमें हैकर्स ने पूर्व राजदूतों और वरिष्ठ नीति विशेषज्ञों के अकाउंट्स पर निशाना बनाया था।

इन लोगों को बनाया हैकर्स ने निशाना
ईरानी हमलावर फॉस्फोरस ने सऊदी अरब में होने वाले आगामी म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन और थिंक 20 (टी 20) शिखर सम्मेलन के संभावित प्रतिभागियों को निशाना बनाया था। सुरक्षा के विषय को लेकर म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन राज्य के प्रमुखों और अन्य विश्व नेताओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण मीटिंग है और यह लगभग 60 साल से लगातार हो रही है। इसी तरह थिंक 20 भी एक अहम कार्यक्रम है जो जी20 देशों के लिए नीतिगत आइडिया तैयार करती है।

यह भी पढ़ें—एक बार चार्ज करने के बाद 28 हजार साल चलेगी यह बैटरी, अनोखे तरीके से बनाई गई

cyber_attack2.png

भेजे गए फर्जी मेल
माइक्रोसॉफ्ट में कस्टर सिक्योरिटी एंड ट्रस्ट के वाइस प्रेसिडेंट ने टॉम बर्ट ने कहा कि वर्तमान विश्लेषण के आधार पर हमें नहीं लगता है कि यह गतिविधि किसी भी तरह से अमेरिकी चुनावों से जुड़ी है। हमलावर ईमेल के जरिए इन कार्यक्रमों में सम्मिलित होने वाले संभावित मेहमानों को फर्जी मेल भेज रहे थे। ये ईमेल अंग्रेजी में थे और इन्हें पूर्व सरकारी अधिकारियों, नीति विशेषज्ञों, शिक्षाविदों और गैर-सरकारी संगठनों के नेताओं को भेजा गया था।

यह भी पढ़ें—डेटा चुराते हैं बच्चों के ये तीन एप्स, अगर आपके मोबाइल में हैं तो तुरंत करें डिलीट

इसलिए बनाया निशाना
बर्ट ने एक बयान में कहा कि उनका मानना है कि खुफिया जानकारियां पाने के मकसद से ये हमले हुए। हमले के पीड़ितों में पूर्व राजदूत और अन्य वरिष्ठ नीति विशेषज्ञ शामिल थे जो अपने-अपने देशों में वैश्विक एजेंडा बनाने और विदेश नीतियों को आकार देने में मदद करते हैं। इस गतिविधि को माइक्रोसॉफ्ट के थ्रेट इंटेलिजेंस सेंटर या एमएसटीआईसी द्वारा उजागर किया गया था। माइक्रोसॉफ्ट ने कहा है कि हमेशा की तरह व्यापार और व्यक्तिगत ईमेल खातों में मल्टी-फैक्टर अथेंटिकेशन लागू करने से ऐसे हमलों को सफलतापूर्वक रोका जाएगा।

Show More
Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned