डीजीपी का नया निर्देश, हर थाने में तैनात होंगे चार इंस्पेक्टर

डीजीपी का नया निर्देश, हर थाने में तैनात होंगे चार इंस्पेक्टर

Laxmi Narayan Sharma | Publish: Jun, 14 2018 08:21:21 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

प्रभारी के अलावा तीन अन्य इंस्पेक्टर होंगे जो अपनी-अपनी निर्धारित जिम्मेदारी निभाएंगे

लखनऊ. कानून-व्यवस्था के मोर्चे पर लगातार आलोचना का सामना कर रही प्रदेश सरकार ने थाना स्तर पर पुलिस व्यवस्था में बदलाव का निर्णय लिया है। नई पहल करते हुए अब उत्तर प्रदेश के डीजीपी ने निर्देश जारी किया है कि थानों में चार इंस्पेक्टर तैनात किये जाएँ और सबको अलग-अलग जिम्मेदारी सौपी जाये। डीजीपी का मानना है कि इससे कानून-व्यवस्था की स्थिति बेहतर होगी।

यह भी पढें - सड़क निर्माण में काट दिए जाते हैं उपयोगी पेड़, बदले में लगाए जाते हैं अनुपयोगी पौधे

सीनियर होगा इंचार्ज

डीजीपी ओपी सिंह ने नई व्यवस्था को लागू करने का निर्देश जारी करते हुए लिखा है कि पुलिस थाने में प्रभारी इंस्पेक्टर के साथ इंस्पेक्टर क्राइम, इंस्पेक्टर लॉ एंड आर्डर और इंस्पेक्टर एडमिनिस्ट्रेशन की तैनाती की जायेगी। इस तरह सभी निरीक्षकों की जिम्मेदारी अलग-अलग होगी। डीजीपी ने निर्देश में कहा है कि चारों इंस्पेक्टर में जो सबसे वरिष्ठ होगा, उसे प्रभारी बनाया जायेगा।

यह भी पढें - अलग हो गई थी धमनी की लेयर, मुख्य नस को छोड़ दूसरे जगह से हो रहा था ब्लड सर्कुलेशन, डॉक्टरों ने इस तरह की सर्जरी

निर्देश लागू करना है चुनौती

प्रभारी के अलावा तीन अन्य इंस्पेक्टर होंगे जो अपनी-अपनी निर्धारित जिम्मेदारी निभाएंगे। डीजीपी के नये आदेश को इस मायने में महत्वपूर्ण माना जा रहा है कि थाना स्तर पर प्रभारी को एक साथ कई तरह की जिम्मेदारियां निभानी पड़ती है। इस नए निर्देश के बाद माना जा रहा है कि निरीक्षकों पर काम का दवाब कम होने से कार्यप्रणाली में सुधार आएगा। हालांकि पुलिस के सामने बड़ी चुनौती इस व्यवस्था को लागू करने में आएगी क्योंकि विभाग में विभिन्न स्तरों पर अभी पद खाली पड़े हैं और कई जगहों पर इंस्पेक्टर के दायित्व सब इंस्पेक्टर निभाते रहे हैं। ऐसे में इस व्यवस्था को लागू करना किसी चुनौती से कम नहीं है।

यह भी पढें - केजीएमयू में शुरू होगा देश का पहला पीडियाट्रिक आर्थोपेडिक विभाग

Ad Block is Banned