scriptDisclosure of Transactions of Fake Companies in IT Raid | आयकर छापा: फर्जी कंपनियों से लेनदेन का खुलासा, 244 करोड़ की टैक्स चोरी भी खुली | Patrika News

आयकर छापा: फर्जी कंपनियों से लेनदेन का खुलासा, 244 करोड़ की टैक्स चोरी भी खुली

समाजवादी पार्टी के नेताओं के ठिकानों पर आयकर विभाग की पिछले दिनों की छापेमारी में कई बड़े खुलासे हुए हैं। यूपी के लखनऊ के अलावा मऊ और मैनपुरी समेत कोलकाता, बेंगलुरु, कर्नाटक और एनसीआर के साथ 30 ठिकानों पर आईटी की रेड पड़ी है, जिसमें सैकड़ों करोड़ रुपयों की गड़बड़ियां उजागर हुई हैं।

लखनऊ

Updated: December 22, 2021 04:33:15 pm

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के नेताओं के ठिकानों पर आयकर विभाग की पिछले दिनों की छापेमारी में कई बड़े खुलासे हुए हैं। यूपी के लखनऊ के अलावा मऊ और मैनपुरी समेत कोलकाता, बेंगलुरु, कर्नाटक और एनसीआर के साथ 30 ठिकानों पर आईटी की रेड पड़ी है, जिसमें सैकड़ों करोड़ रुपयों की गड़बड़ियां उजागर हुई हैं। छापेमारी में यह बात सामने आई है कि कई फर्जी कंपनियों के जरिये सपा नेताओं ने सैकड़ों करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति जुटाई और 244 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की है। फर्जी कंपनियों में हवाला से लेनदेन का भी खुलासा हुआ है।
Disclosure of Transactions of Fake Companies in IT Raid
Disclosure of Transactions of Fake Companies in IT Raid
यह भी पढ़ें

चुनाव तक जेल में रहेंगे मंत्री टेनी के बेटे, धाराएं बदलने के बाद टल सकती है सुनवाई

86 करोड़ से ज्यादा की अघोषित कमाई का खुलासा

आयकर विभाग द्वारा सभी सपा नेताओं के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान अघोषित कमाई के रूप में 1.12 करोड़ रुपये सीज किए गए हैं। आयकर विभाग टीम ने फर्जी सप्लायर को भुगतान के लिए साइन की हुई चेक बुक समेत खाली बिल बुक्स जब्त की हैं। सपा से जुड़े एक कंपनी के निदेशकों की 86 करोड़ से ज्यादा की अघोषित कमाई का पता चला है। पूछताछ में यह बात भी सामने आई कि 68 करोड़ की काली कमाई पर कर चुकाने का भी प्रस्ताव था।
यह भी पढ़ें

वरुण गांधी ने कहा 'अकेले उठाया गन्ना मूल्य का मुद्दा, नेताओं को डर लगता है कि उनका टिकट कट जाएगा'

408 करोड़ के फर्जी शेयर दिखाए

आयकर विभाग ने यूपी के साथ ही कोलकाता में भी छापा मारा है। कोलकाता से जिसे पकड़ा गया है उसके खातों में हेराफेरी करने की बात सामने आई है। उसने कई मुखौटा कंपनियां बनाई और 408 करोड़ के फर्जी शेयर दिखाए। साथ ही इनके जरिये 154 करोड़ रुपये का फर्जी ऋण भी दिखाया। इस दौरान हवाला लेनदेन के डिजिटल सबूत भी सील किए गए हैं। पकड़े गए इस व्यक्ति ने बताया कि इसके लिए उसे पांच करोड़ का कमीशन मिला था।
दरअसल, मुखौटा कंपनियों का इस्तेमाल काली कमाई को ठिकाने लगाने और निवेश के लिए किया जा रहा था। ऐसे ही 12 करोड़ के फर्जी निवेश का पता अधिकारियों को चला है। एक अन्य मुखौटा कंपनी में 11 करोड़ के अपरिभाषित निवेश और 3.5 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति का पता चला है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमी100-100 बोरी धान लेकर पहुंचे थे 2 किसान, देखते ही कलक्टर ने तहसीलदार से कहा- जब्त करोराजस्थान में यहां JCB से मिलाया 242 क्विंटल चूरमा, 6 क्विंटल काजू बादाम किशमिश डालेShani Parvat: हाथ में मौजूद शनि पर्वत बताता है कि पैसों को लेकर कितने भाग्यशाली हैं आपफरवरी में मकर राशि में ग्रहों का महासंयोग, मेष से लेकर मीन तक इन राशियों को मिलेगा लाभNew Maruti Wagon R : अनोखे अंदाज में आ रही है आपकी फेवरेट कार, फीचर्स होंगे ख़ास और मिलेगा 32Km का माइलेज़2 बच्चों के पिता और 47 साल के मर्द पर फ़िदा है ‘पुष्पा’ की 25 साल की एक्ट्रेस, जाने कौन है वो

बड़ी खबरें

7 मार्च तक चुनावी एक्ज़िट पोल पर रोक, 2 साल की जेलJammu Kashmir: अनंतनाग के हसनपोरा में आतंकी हमला, पुलिस हेड कांस्टेबल अली मोहम्मद शहीदभरोसा बनाए रखें, प्रिंट मीडिया को कोई खतरा नहींः प्रो. संजय द्विवेदीUP Assembly Elections 2022: राजा भैया के खिलाफ कुंडा से समाजवादी के बाद बीजेपी ने घोषित की प्रत्याशी, जाने कौन है सिंधुजा मिश्रा जो राजा को देगी टक्करमहिला आयोग के नोटिस के बाद झुका SBI, विवादित सर्कुलर लिया वापसBeating the Retreat: गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर विजय चौक पर भव्य शो, 300 साल पुरानी है 'बीटिंग द रिट्रीट' परंपराभाजपा MLA की ‘जाति’ पर सवाल,हाईकोर्ट ने कहा- 90 दिन में सरकार करे समाधानराजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.