scriptFour people Arrested Sikh Riots in Kanpur of 1984 | इमारत के नीचे ही बना था अग्निकुंड,  जिंदा फेंक दिए थे लोग, खौफनाक दास्तान से कांप जाएगी रूह | Patrika News

इमारत के नीचे ही बना था अग्निकुंड,  जिंदा फेंक दिए थे लोग, खौफनाक दास्तान से कांप जाएगी रूह

Riots: उत्तर प्रदेश में दंगों का ग्रहण पुराने समय से ही रहा है। दंगा के दृश्य ऐसी की जानकर रूह कांप जाए। दशकों बाद अब गुनहगारों को...

लखनऊ

Updated: June 16, 2022 10:07:08 am

निराला नगर में दो बस भरकर दंगाई पहुंचे थे। मकसद था जहां सिख समुदाय के लोग दिखे उन्हें सबक सिखा दो। जिस इमारत पर दंगाइयों ने धावा बोला उसके नीचे बाकायदा एक अग्निकुंड तैयार किया गया। दो लोगों को उस अग्निकुंड में फेंककर जिंदा जला दिया गया। यही घटना नहीं इसके आसपास की दुकानों में भी दंगाइयों ने हमला बोला और लूटपाट को अंजाम दिया। हर तरफ दहशत का माहौल था। कुछ नहीं था तो वह है सुरक्षा का अहसास। क्योंकि पुलिस भी वहां पर किसी मदद को पहुंच नहीं पाई थी। घटना में बयान दर्ज कराने वाले लोगों ने एसआईटी को इस पूरी घटना के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है।
Four people Arrested Sikh Riots in Kanpur of 1984
Four people Arrested Sikh Riots in Kanpur of 1984
भरी दोपहर 3 बजे निराला नगर में दंगाई पहुंचे थे। उन्हें देखते ही इलाके में भगदड़ की स्थिति बन गई। दंगाइयों में शायद ही कोई ऐसा हो जिसके पास डंडा, कुल्हाड़ी, ईंट पत्थर, कुदाली आदि न हो। गुरुदयाल सिंह भाटिया के मकान के बारे में दंगाई पहले से जान रहे थे कि यहां पर मार की तो एक साथ दर्जन भर से ज्यादा सिख समुदाय के लोगों को सबक सिखाया जा सकेगा तो पहले वहीं पर हमला बोला गया।
यह भी पढ़ें

मुस्लिमों के लिए सुन्नी उलमा काउंसिल का बड़ा ऐलान, अब नए तरीके से करेंगे प्रदर्शन

इमारत के बाहर बना दिया अग्निकुंड

आधे दंगाई इमारत के अंदर घुसे और बाकी घर के बाहर मौजूद थे। जो दंगाई इमारत में घुसे थे उन्होंने वहां से सिख समुदाय के लोगों का घरेलू सामान जैसे टीवी, बिस्तर, ट्रांजिस्टर, सोफा, कुर्सी, मेज, चादर, बक्से आदि बाहर निकाल कर फेंकने लगे। खूब सारा सामान इकट्ठा होने के बाद स्टोव लाया गया और उसमें से मिट्टी का तेल निकालकर सड़क पर फेंके गए सामान पर डाला गया। बाहर खड़े दंगाइयों ने उसमें आग लगा दी। इमारत में घुसे दंगाइयों में से ज्यादातर बाहर आ गए। उसमें फंसे सिख परिवार खुद को बचाने के लिए छत पर भागे। जो दंगाई इमारत के अंदर रह गए थे। वह भी उनके पीछे भागे। छत से दूसरी छतों और नीचे कूदकर सिख परिवारों ने अपनी जान बचाई। मगर रक्षपाल सिंह और भूपेन्द्र सिंह दंगाइयों के बीच फंस गए। उन्हें बुरी तरह से पीटा गया और फिर उन्हें छत से उसी अग्निकुंड में फेंक दिया गया। दोनों को जिंदा जलाकर मार दिया गया। जाते जाते दंगाइयों ने सरदार गुरुदयाल सिंह भाटिया और उनके बेटे सतवीर भाटिया को गोली मार दी। सतवीर सिंह भाटिया की भी मौके पर मौत हो गई।
यह भी पढ़ें

चौरासी दंगों के गुनहगारों की गिरफ्तारियां बहुत जल्द, 72 आरोपितों की सूची में बड़े नाम

जान बचाने को अलग- अलग घरों में घुसे लोग

दृश्य इतना भयावह था कि कुछ ही देर में सड़क खाली हो गई थी और जो थोड़े बहुत बचे लोग थे वह जान बचाने के लिए दूसरे के घरों में शरण पा रहे थे।
चार इन लोगों की हुई गिरफ्तारी
कानपुर में 1984 में भड़के सिख दंगे में किदवई नगर थाने में दर्ज हत्या और डकैती के मामले में एसआईटी ने चार आरोपितों को घाटमपुर से गिरफ्तार कर लिया है। इन चारों को न्यायालय में पेश कर जेल भेजा गया है। गिरफ्तार करने वाली टीम को 50 हजार के इनाम की घोषणा की गई है। निराला नगर में एक नवंबर 1984 को दंगाइयों ने एक इमारत में आग लगा दी थी जिसमे एक दर्जन से अधिक सिख परिवार रहते थे। शिवपुरी घाटमपुर निवासी सफीउल्ला (64), जलाला घाटमपुर निवासी योगेंद्र सिंह उर्फ बब्बन बाबा (65), वेंदा घाटमपुर निवासी विजय नारायण सिंह उर्फ बच्चन सिंह (62) और अब्दुल रहमान उर्फ लंबू (65)। डीआईजी के मुताबिक अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातMaharashtra Political Crisis: शिवसेना को लगने वाला है जोर का झटका! शिंदे खेमे के संपर्क में है संजय राउत के भाई सुनील?Bypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.