scriptknow what is the shringar gauri controversy | Gyanvapi Mosque Case: जानें क्या है श्रृंगार गौरी विवाद, क्यों यहां पूजा करने पर लगी थी रोक? | Patrika News

Gyanvapi Mosque Case: जानें क्या है श्रृंगार गौरी विवाद, क्यों यहां पूजा करने पर लगी थी रोक?

Shringar Gauri: श्रृंगार गौरी मंदिर में पीढ़ियों से पूजा करने का अधिकार बनारस के ही रहने वाले व्यास परिवार के पास है। व्यास परिवार ने बताया कि यहां पूर्वजों के समय से ये पूजा चली आ रही है। 10-12 पीढ़ियों से ये पूजा चली आ रही है।

लखनऊ

Published: May 22, 2022 02:18:27 pm

Shringar gauri: ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर विवाद पूरे देश में फैला अभी शांत नहीं हुआ कि अब श्रृंगार गौरी की पूजा को लेकर नए विवाद की शुरुआत हो गई है। दरअसल हाल ही में एक वीडियो वायरल हुई थी जिसमें ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर माता श्रृंगार गौरी की पूजा करतें पुजारी दिखाई दे रहे हैं। यह वही मंदिर है जहां हर रोज, हर वक्त पूजा की मांग की जा रही है। पांच महिलाओं ने ज्ञानवापी के अंदर इसी जगह पर पूजा के लिए अर्जी लगाई है जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद परिसर के सर्वे का आदेश दिया। तो आइए जानते हैं कि श्रृंगार गौरी क्या और कहां पर स्थित है?
sringar_goury-_7492666-m.jpg
ये भी पढें: ज्ञानवापी मामले पर VHP प्रवक्ता का बड़ा हमला, सड़क या हवाई जहाज में नमाज अदा करेंगे तो क्या उसे मस्जिद कहेंगे?

इसलिए लगी थी रोक

दरअसल श्रृंगार गौरी मंदिर में पीढ़ियों से पूजा करने का अधिकार बनारस के ही रहने वाले व्यास परिवार के पास है। व्यास परिवार ने बताया कि यहां पूर्वजों के समय से ये पूजा चली आ रही है। 10-12 पीढ़ियों से ये पूजा चली आ रही है। बता दें कि 1996-97 में हिंदू और मुस्लिम, दोनों धर्मों के त्योहार एक ही दिन पड़ गए थे। जिसके चलते पुलिस प्रशासन ने एहतियातन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की एक टुकड़ी की तैनाती कर दी जिससे कानून-व्यवस्था बनाए रखी जा सके। अधिकारियों के तबादले हुए और रिजर्व पुलिस के तौर पर की गई सीआरपीएफ की तैनाती वहां स्थायी हो गई। बताते हैं कि गुजरते समय के साथ श्रृंगार गौरी जाने वाले रास्ते को भी पुलिस-प्रशासन ने बंद कर दिया था।
साल में एक दिन पूजा का अधिकार

व्यास ने बताया कि श्रृंगार गौरी की पूजा करने के लिए पहले कोई विवाद नहीं था। श्रृंगार गौरी मंडप की पूजा मंदिर विध्वंस के बाद से सदियों से हमारा परिवार करता आया था, लेकिन 1991 में मुयालम सरकार ने मंदिर में रोज पूजा करने पर रोक लगा दी थी और साल में एक बार ही पूजा करने की इजाजत दी गई थी। वहीं एक हिंदूवादी संगठन की अर्जी पर कोर्ट ने वासंतिक नवरात्रि के चौथे दिन दर्शन-पूजन करने का आदेश दिया। कोर्ट के आदेश के बाद श्रृंगार गौरी की साल में एक दिन वासंतिक नवरात्रि की चतुर्थी को दर्शन-पूजन की अनुमति प्रशासन ने दी।
ये भी पढें: डस्टबिन में 5 महीने का भ्रूण मिलने से हड़कंप, STF को देखकर छुप गया डॉक्टर, जानें पूरा मामला

कैसे होती है पूजा

व्यास ने बताया कि श्रृंगार गौरी की पूजा के लिए पूरे मंडप को साफ किया जाता है और सिंदूर लगाया जाता है। इसके बाद पश्चिमी दीवार पर मौजूद आकृतियों पर मुखौटा चढ़ाकर पूजा की जाती है। उसे हमारे पूर्वजों की ओर से श्रृंगार गौरी मंडप का अवशेष बताया जाता रहा है। आज यह विश्वनाथ धाम कॉरिडोर के गेट नंबर 4 से मंदिर की तरफ जाने पर ज्ञानवापी मस्जिद की बैरीकेडिंग दिखाई देती है। इसी के पीछे मस्जिद की पश्चिमी दीवार पर श्रृंगार गौरी मंडप मौजूद है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

सीढ़ियां से उतरने के दौरान गिरे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, कंधे की हड्डी टूटीदिल्ली और पंजाब में दी जा रही मुफ्त बिजली, गुजरात में क्यों नहीं?: केजरीवालहैदराबाद में बोले PM मोदी- 'तेलंगाना में भी जनता चाहती है डबल इंजन की सरकार, जनता खुद ही बीजेपी के लिए रास्ता बना रही'पीएम मोदी ने लंबे समय तक शासन करने वाली पार्टियों का मजाक उड़ाने के खिलाफ चेताया, कहा - 'मजाक मत उड़ाएं, उनकी गलतियों से सीखें'Rajasthan: वाहन स्क्रैपिंग सेंटर के लिए एक एकड़ जमीन जरूरीAchievement : ऐसा क्या किया पुलिस ने की मिला तीन लाख का ईनाम और शाबाशी ?Mumbai News Live Updates: अमरावती की सांसद नवनीत राणा ने उमेश कोल्हे के परिजनों से मुलाकात कीहनुमानजी के नाम पर वोट मांग रहे कमल नाथ! भाजपा ने की शिकायत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.