यूपी के प्राथमिक विद्यालय के 1.85 करोड़ छात्रों को अगस्त तक मिल जाएंगी निशुल्‍क पाठ्य पुस्‍तकें

- प्राथमिक विद्यालय के छात्रों को दी जा रही निशुल्‍क पाठ्य पुस्‍तकें
- बच्‍चों को घर तक किताबें पहुंचाने का काम कर रहे हैं शिक्षक
- वर्तमान सत्र में 1.85 करोड़ छात्रों को दी जाएंगी पुस्‍तकें

By: Mahendra Pratap

Updated: 31 Jul 2021, 11:41 AM IST

लखनऊ. कोरोना काल में भी प्रदेश सरकार ने प्राथमिक स्‍कूलों के बच्‍चों की पढ़ाई बाधित नहीं होने दी । छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कराने के साथ बच्‍चों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसके लिए छात्रों के घर तक पुस्‍तकें पहुंचाने का काम किया जा रहा है। बेसिक शिक्षा विभाग अब तक 65 प्रतिशत किताबों का मुद्रण करा कर जिलों में भेज चुका हैं। जिलों से यह किताबें छात्रों को वितरित की जा रही हैं। पाठ्य पुस्‍तक अधिकारी श्‍याम किशोर तिवारी के मुताबिक दस दिन में शेष पुस्‍तकों को प्रिंट करा लिया जाएगा।

यूपी में कोरोना काल में 15 करोड़ जनता को 10 करोड़ कुंतल मिला फ्री राशन

1.85 करोड़ छात्रों को फ्री पुस्‍तक:- बेसिक शिक्षा विभाग प्राथमिक व उच्‍च प्राथमिक, राजकीय एवं सहायता प्राप्‍त जूनियर हाईस्‍कूल, माध्‍यमिक विद्यालयों एवं सहायता प्राप्‍त मदरसों में पढ़ने वाले कक्षा 1 से 8 तक के छात्र-छात्राओं को निशुल्‍क पाठ्य पुस्‍तकों व कार्य पुस्तिकाओं का वितरण कराता है। पिछले सत्र में परिषदीय विद्यालयों के 1,83,72932 छात्र-छात्राओं को निशुल्‍क पाठ्य पुस्‍तकों के साथ कार्य पुस्तिकाएं वितरित की गई थीं जबकि वर्तमान 2021-22 में 1.85 करोड़ से अधिक छात्रों को पुस्‍तकों का वितरण किया जाना है।

शेष 35 प्रतिशत किताबों का मुद्रण अगस्‍त में :- श्‍याम किशोर तिवारी ने बताया कि पुस्‍तकों के मुद्रण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कक्षा एक से आठ तक के छात्रों की 65 प्रतिशत किताबों को मुद्रण पूरा हो चुका है। शेष 35 प्रतिशत किताबों का मुद्रण अगस्‍त के दूसरे सप्‍ताह तक पूरा हो जाएगा। किताबों को जिलों में भेजने का काम भी तेजी से किया जा रहा है। शिक्षक छात्रों के घर जाकर किताबें पहुंचाएंगे।

1.83 करोड़ छात्रों को दिए निशुल्‍क बैग :- बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय विद्यालयों में पिछले सत्र 2020-21 में 1,59,44042 छात्रों को सरकार की ओर से निशुल्‍क जूता मोजा व स्‍वेटर वितरित किए गए थे। इसके अलावा 1.83 करोड़ छात्र-छात्राओं को निशुल्‍क स्‍कूल बैग बांटे गए थे।

Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned