यूपी में कोरोना वायरस का खतरा बढ़ा, पूरे प्रदेश में सिर्फ एक कोरोना मुक्त जिला

- रविवार को यूपी में कोरोना संक्रमित 496 नए मरीज मिले
- कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या करीब 3,036 हुई
- एक कोरोना वायरस संक्रमित मरीज की मौत

By: Mahendra Pratap

Published: 22 Mar 2021, 11:06 AM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस (UP Coronavirus) का खतरा लगातार बढ़ रहा है। रविवार को यूपी में कोरोना संक्रमित 496 नए मरीज मिले। इस वक्त कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या करीब 3,036 हो गई है। रविवार को एक कोरोना वायरस संक्रमित मरीज की मौत भी हो गई है। 225 कोरोना मरीज स्वस्थ होने के बाद अपने घरों को चले गए। राजधानी लखनऊ में रविवार को 141 मरीज मिले, यह यूपी में सभी जिलों के मुकाबले सबसे अधिक हैं।

लखनऊ में मास्क लगाना अनिवार्य, नहीं तो सख्त कार्रवाई

कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ी :- कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ने से लखनऊ में कोरोना वायरस के कुल 659 मामले हो गए हैं। रविवार को वाराणसी में 32, प्रयागराज में 30, गाजियाबाद में 28, झांसी में 17, कानपुर नगर में 16, चंदौली में 15, सहारनपुर में 14 नए मरीज मिले। कोरोना संक्रमण से मुक्त श्रावस्ती, संभल, महोबा और सिद्धार्थनगर जिले में भी कोरोना वायरस के नए रोगी मिल गए हैं। अब सिर्फ कासगंज जिला ही कोरोना मुक्त है।

16 जनवरी को कोरोना के 533 नए मरीज :- अगर मार्च माह में कोरोना संक्रमण की रफ्तार की बात करें तो 14 मार्च को 178 मरीज, 15 मार्च को 151, 16 मार्च को 228, 17 मार्च को 261, 18 मार्च को 321, 19 मार्च को 393, 20 मार्च को 442 और 21 मार्च को 496 हो गई। बीती 16 जनवरी के बाद यह किसी एक दिन में पाए गए कोरोना मरीजों की सबसे बड़ी संख्या है। 16 जनवरी को प्रदेश में कोरोना के 533 नए मरीज मिले थे।

लखनऊ में लेवल-2 के दो अस्पताल बनाए गए :- कोरोना बढ़ते मामलों को देखकर यूपी सरकार के साथ लखनऊ जिला प्रशासन अलर्ट हो गया है। स्वास्थ्य विभाग ने लोक बंधु व राम सागर मिश्र अस्पताल को दोबारा लेवल-2 का कोविड-19 अस्पताल बनाने का निर्णय लिया है। इसके अलावा तीन निजी अस्पतालों को अलर्ट पर रखा गया है। राजधानी में अभी लेवल-3 के केजीएमयू, एसजीपीजीआई और लोहिया संस्थान अस्पताल हैं। सीएमओ डॉ संजय भटनागर ने बताया कि, लोक बंधु व राम सागर मिश्र को दोबारा लेवल-2 का अस्पताल बनाने का फैसला किया गया है। अगले 2 दिन में सौ- सौ बेड तैयार रखने के निर्देश दिए गए हैं।

लखनऊ में तो मास्क अनिवार्य :- यूपी के कई जिलों में प्रशासन अपने स्तर पर सख्ती बरत रहा है। लखनऊ में तो मास्क, सैनेटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है नहीं तो दंड के भागी होंगे। कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश दिए गए हैं। अत्यधिक कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वालों की जांच भी मार्च माह से अनिवार्य हैं।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned