इस शुभ मुहुर्त में में बहनें बांधे भाइयों को राखी, इन राशियों के लोग रखें विशेष ध्यान

इस शुभ मुहुर्त में में बहनें बांधे भाइयों को राखी, इन राशियों के लोग रखें विशेष ध्यान

Akansha Singh | Updated: 08 Aug 2019, 12:55:12 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का त्योहार इस बार 15 अगस्त को पड़ रहा है। इसके लिये बाजार सज गये है।

लखनऊ. रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का त्योहार इस बार 15 अगस्त को पड़ रहा है। इसके लिये बाजार सज गये है। बाजारों में विभिन्न तरह की राखिया बिक रही हैं। ऑनलाइन राखियों का भी ट्रेंड भाई बहनों पर सर चढ़ कर बोल रहा है। कई सारी ऑनलाइन वेबसाइट पर भैया मेरे, प्यारे भाइया, डैशिंग ब्रो, हैंडसम हंक नाम से राखियां मिल रही है। ये राखियां तरह तरह की डिजाइनों में मिल रही हैं। आइये जानते है रक्षा बंधन के पीछे की कहानी...

यह भी पढ़ें - Eid-ul-Azha पर 211 किलो के बकरे की लगी बोली, कीमत 8 लाख, राजधानी में बिके 22 लाख के बकरे

पहली बार मां लक्ष्मी ने राजा बलि को राखी बांधी थी। राजा बलि के यज्ञ में विष्णुजी वामन अवतार लेकर पहुंचे थे और उनसे 3 डग जमीन मांगी। राजा बलि ने देने का संकल्प लिया तो वामन भगवान ने एक डग में पूरी पृथ्वी व दूसरे में आकाश नाप लिया। अब तीसरा पग कहां रखें? ऐसा भगवान के पूछने पर राजा बलि ने अपना सिर आगे कर दिया। तभी भगवान ने प्रसन्न होकर उनको कहा कि आप पाताल लोक में निवास करो, मैं सुदर्शन रूप में आपके द्वार पर रहूंगा। तब माता ने उनको वापस लाने के लिए राजा बलि को राखी बांधी। जब उन्होंने राखी का बंधन बांधा था, तब उस दिन श्रावण माह की पूर्णिमा थी व श्रवण नक्षत्र था। तब से ही बहनें अपने भाइयों को रक्षाबंधन बांध रही हैं। यह रक्षा का बंधन शुभ मुहूर्त में बांधें ताकि आपका भाई खुश व प्रसन्न रहे और आपकी रक्षा कर सके।

यह भी पढ़ें - शिवपाल ने अखिलेश को दिया अबतक का सबसे बड़ा झटका, सपा को लेकर को लेकर किया यह फैसला, मुलायम को भी नहीं थी उलटफेर की उम्मीद

चौघड़िया अनुसार (Chaughdiya wise)

लाभ चौघड़िया : दोपहर 12.31 से 2.08 तक।
अमृत चौघड़िया : दोपहर 2.08 से 3.15 तक।
शुभ चौघड़िया : शाम 5.22 से 6.59 तक।
अमृत चौघड़िया : रात 6.59 से 8.23 तक।

लग्न अनुसार (Ascendant)

सिंह लग्न : सुबह 6.18 से 8.30 तक।
कन्या लग्न : सुबह 8.30 से 10.40 तक।
धनु लग्न : दोपहर 3.10 से 5.16 तक।
कुंभ लग्न : रात्रि 7.03 से 8.38 तक।
अभिजीत योग दोपहर 11.45 से 12.15 तक।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned