यूपी: कोरोना के फिर बढ़े मामले, चार बच्चों की कार में मौत, विधायक व पूर्व मंत्री का निधन

Good Evening Patrika में जानें दिनभर की पांच बड़ी खबरें.

By: Abhishek Gupta

Published: 07 May 2021, 08:14 PM IST

लखनऊ. Good Evening Patrika में जानें दिनभर की पांच बड़ी खबरें. पत्रिका के सभी पाठकों को वेरी गुड इवनिंग। आज शुक्रवार सात मई को एक बार फिर कोरोना (corona update in up) ने सुर्खियों बटोरी। आज नए मरीजों की संख्या में एक बार फिर इजाफा हुआ। इसी के साथ ही भाजपा के एक और विधायक की कोरोना से मृत्यु हो गई। चर्चा हो ही रही थी कि यूपी के पूर्व मंत्री व समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता के निधन की भी खबर आ गई। कोरोना की स्थिति को देखते हुए भाजपा के सांसद सत्यदेव पचौरी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा व उनसे कोरोना की तीसरी लहर को लेकर पहले ही तैयारी करने करने का आग्रह किया। दिनभर और क्या रहा सुर्खियों में, जानें-

ये भी पढ़ें- मौसम विभाग का 12 मई तक का पूर्वानुमान, गरज व चमक के साथ बारिश की संभावना

कोरोना के मामले बढ़े-
यूपी में कोरोना के मामले एक बार फिर बढ़े हैं। शुक्रवार को प्रदेश में 28,076 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। तो वहीं 33,117 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज भी हुए है। यूपी में वर्तमान में 2,54,118 कुल एक्टिव केस हैं। इनमें से 1,98,857 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। उत्तर प्रदेश प्रमुख सचिव स्वास्थ्य आलोक कुमार ने बताया कि बीते 24 घंटे में 2,41,403 कोविड टेस्ट किए गए हैं। प्रदेश में एक्टिव केस में करीब 56 हजार की कमी आई है। 30 अप्रैल को राज्य में कुल 3,10,783 सक्रिय मामले थे, जो अब 2,54,118 रह गए हैं।

ये भी पढ़ें- लखनऊ: टैंकर्स से ऑक्सीजन को अनलोड करने में साइंस की समझ की थी जरूरत, अधिकारी नहीं सुलझा पाए गुत्थी

सलोन विधायक बहादुर कोरी का निधन-

रायबरेली के सलोन विधानसभा क्षेत्र से तीन बार विधायक और एक बार समाज कल्याण राज्य मंत्री रहे दल बहादुर कोरी की भी आज कोरोना के मृत्यु हो गई। उनका लखनऊ के अपोलो अस्पताल में गुरुवार देर रात निधन हो गया। उनके निधन से न सिर्फ भाजपा के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बल्कि हर वर्ग के लोग स्तब्ध हैं। भाजपा ने कोरोना के कारण चौथी नेता खो दिया है, जिससे अब पार्टी पर भी नया संकट खड़ा हो गया। दल बहादुर अपने विधानसभा क्षेत्र के गांव उदयपुर मजरे पदमपुर बिजौली के मूल निवासी थे।

ये भी पढ़ें- सड़क पर थूका तो देना होगा भारी जुर्माना, चालान से वसूला गया 85.57 करोड़ रुपए

सांसद सत्यदेव पचौरी का सीएम को पत्र-

कोरोना से प्रदेश में स्थिति से आक्रोशित जनता तो सरकार से सवाल कर ही रही है, शुक्रवार को भाजपा के ही एक और सांसद सत्यदेव पचौरी ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख उनसे प्रश्न पूछ डाले। मौजूदा हालातों को अवगत कराते हुए कहा कि वक्त पर इलाज न मिल पाने के कारण लोग अस्पताल के बाहर और सड़क पर दम तोड़ रहे हैं। उनसे पूछा कि आखिर ऐसी चुनौती से निपटने के लिए सरकार की क्या तैयारी है। उन्होंने तीसरी लहर को लेकर भी सीएम को आगाह किया। इससे पहले की भाजपा के सांसद कौशल किशोर, राजेंद्र अग्रवाल, मंत्री बृजेश पाठक समेत कई नेताओं ने सीएम को पत्र लिखकर कोरोना से लोगों को हो रही परेशानियों के बारे में अवगत कराया था। इनमें ऑक्सीजन सिलेंडर व अन्य मेडिकल उपकरणों की कमी के कारण हो रही मौतों की मुद्दा मुख्य था।

सपा पूर्व मंत्री व दिग्गज नेता पंडित सिंह का कोरोना से निधन

समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व मंत्री विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह का भी शुक्रवार को कोरोना से निधन हो गया। वह लखनऊ के मिडलैंड अस्पताल में काफी दिनों से भर्ती थे। शुक्रवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। इस खबर से समाजवादी पार्टी खेमे में शोक की लहर दौड़ गई है। सपा ने उनके निधन पर दुख जताया है। पंडित सिंह गोंडा के नवाबगंज इलाके के रहने वाले थे। समाजवादी पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, "अत्यंत दुखद! समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री विनोद कुमार सिंह "पंडित सिंह" जी का निधन, अपूरणीय क्षति!शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना!ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दे।"

बागपत में कार में खेल रहे चार बच्चों की दम घुटने से मौत-

बागपत में शुक्रवार को दिल दहला देने वाली घटना हो गई। यहां कार में खेल रहे पांच बच्चे दम घुटने से बेहोश हो गए। इनमें से चार की मौत हो गई जबकि पांचवें की हालत गंभीर बनी हुई है। इस घटना के बाद से पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई है। परिवारों में कोहराम मचा हुआ है। घटना चांदीनगर थाना क्षेत्र के गांव सिगौली तगा की है। यहां हैप्पी पुत्र राजकुमार के घेर में टाटा टीयागो कार खड़ी हुई थी। इसी कार के अंदर बच्चे खेल रहे थे। घटना दोपहर की है। लॉकडाउन और दोपहर का समय होने की वजह से सभी बड़े अंदर घरों में थे। बताया जाता है कि इसी दौरान बच्चे कार में घुस गए और कार ऑटो सेंसर की वजह से लॉक हो गई। बच्चों को इस बात का अंदाजा नहीं था। कुछ ही देर बाद उनका दम घुटने लगा तो उन्होंने बाहर निकलने की कोशिश की, लेकिन वह निकल नहीं आए और उनका निधन हो गया।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned