scriptTulsi Pujan Diwas 2021 Date Mahatva and benefits of Basil | Tulsi Pujan Diwas तुलसी के पौधे के पास पूजा करने से मिलता है कई गुना अधिक फल | Patrika News

Tulsi Pujan Diwas तुलसी के पौधे के पास पूजा करने से मिलता है कई गुना अधिक फल

हिंदू धर्म में तुलसी को विशेष महत्व दिया गया है। हिंदू धर्म के लोग तुलसी को माता का रूप मानकर उसकी पूरे विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। तुलसी पूजन के लिए कुछ खास दिन चिन्हित किए गए हैं। इस साल शनिवार 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस मनाया जाएगा। तुलसी के बारे में मान्यता है कि यह जहां फलती हैं, उस घर में रहने वालों को कोई संकट नहीं आते।

लखनऊ

Published: December 25, 2021 01:19:34 pm

लखनऊ. Tulsi Diwas - पूरे देशभर में 25 दिसंबर को जहां एक ओर क्रिसमस की धूम है, वहीं दूसरी ओर हिंदू धर्म में आज के ही दिन तुलसी पूजन दिवस के रूप में मनाया जाता है। तुलसी पूजन दिवस की शुरुआत वर्ष 2014 से हुई और इस दिन से हर साल 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस मनाया जाने लगा। हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे और पूजा का विशेष महत्व होता है। हिंदू धर्म में कोई भी अनुष्ठान, पूजा या शुभ कार्य बिना तुलसी के अधूरी मानी जाती है। तुलसी भगवान विष्णु की अति प्रिय होती है। इसी कारण से भगवान के भोग में तुलसी के पत्तों को अवश्य शामिल किया जाता है। इसमें भारत सरकार के कई केंद्रीय मंत्रियों, साधु-संतों और आमजन ने तुलसी के पौधे का औषधीय और धार्मिक महत्व को समझते हुए सोशल मीडिया के जरिए प्रचार और प्रसार किया। इसके बाद से हर साल 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।
tulsi.jpg
2014 से हुई थी तुलसी पूजन दिवस की शुरूआत

25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस के मौके पर आइए तुलसी के पौधे के महत्व और लाभ के विषय में जानने की कोशिश करते हैं। हिंदू धर्म में तुलसी पूजन (Tulsi Pujan) की परंपरा पौराणिक काल से चली आ रही है। लेकिन पिछले कुछ वर्षों से भारत में आज यानी 25 दिसंबर को तुलसी पूजन दिवस मनाई जाती है। इस प्रथा की शुरुआत साल 2014 से हुई थी।
भूत-पिशाच आदि भी तुलसी के पौधे से भागते है दूर

ऐसी मान्यता है कि तुलसी के पौधे के पास किसी भी मंत्र-स्तोत्र आदि का पाठ करने से उसका अनंत गुना अधिक फल मिलता है। भूत, प्रेत, पिशाच, ब्रह्मराक्षस, दैत्य आदि सब तुलसी के पौधे से दूर भागते हैं। पौराणिक कथा के अनुसार तुलसी पूजन से बुरे विचारों का नाश होता है।
ये भी पढ़े: यूपी में 17 हजार प्राइमरी शिक्षकों की होगी भर्ती, जनवरी में मिल जायेगा नियुक्त पत्र

Tulsi Pujan Diwas स्वर्ग और मोक्ष के द्वार खोलता है

पद्मपुराण के अनुसार तुलसी पत्ते से टपकता हुआ जल यदि मनुष्य अपने सिर पर लगता है तो इतना करने भर से उस मनुष्य को गंगास्नान और 10 गोदान का फल मिल जाता है। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार तुलसी पूजन से रोग नष्ट हो जाते हैं और अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त होता है। इसके अलावा तुलसी पूजन, तुलसी रोपण और तुलसी धारण से पाप नष्ट होते हैं और तुलसी पूजन स्वर्ग और मोक्ष के द्वार खोलता है। पुराणों के अनुसार श्राद्ध और यज्ञ आदि कार्यों में तुलसी का एक पत्ता भी महान पुण्य देनेवाला होता है। तुलसी के नाम उच्चारण मात्र से ही पुण्य की प्राप्ति होती है।
तुलसी के पौधे के मुरझाने के पीछे भी कई मान्यताएं

वहीं तुलसी के पौधे के मुरझाने को लेकर कई मान्यताएं हैं। कई बार तुलसी के पौधे को चाहे कितना भी पानी दे दें और देखभाल कर लें, लेकिन पौधा अचानक मुरझाने लगता है। धार्मिक मान्यता कि बात करें तो यह परिवार पर किसी तरह का संकट आने की संभावना की ओर इशारा करता है। शास्त्रों में ऐसा भी कहा गया है कि यदि घर-परिवार पर कोई संकट आने वाला होता है तो सबसे पहले उस घर से लक्ष्मी यानि तुलसी चली जाती है और वहां दरिद्रता आने लगती है।
जिस घर में दरिद्रता, अशांति और कलह का वातावरण होता है वहां कभी भी लक्ष्मी का वास नहीं होता। ज्योतिष के अनुसार ऐसा बुध ग्रह की वजह से होता है क्योंकि बुध का रंग हरा होता है और वह पेड़-पौधों का भी कारक माना जाता है। अच्छे प्रभाव में जहां पेड़-पौधे अच्छी तरह से बढ़ने लगते हैं वहीं बुरे प्रभाव में मुरझा जाते हैं। तुलसी के पौधे की अच्छी वृद्धि या पौधे का मुरझाना को भी ऐसा ही माना जाता है।
तुलसी के पौधे का औषधीय महत्व

वैज्ञानिकों द्वारा की गई रिसर्च में तुलसी के पौधे का औषधीय महत्व भी सामने आया है। रिसर्च से पता चला है कि तुलसी के पौधे में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल व एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जो संक्रमण से लड़ने में शरीर को सक्षम बनाते हैं। इतना ही नहीं संक्रामक रोगों से निपटने के लिए तुलसी बहुत कारगर उपाय है। इसके अलावा जिन घरों पर या स्थानों में तुलसी का पौधा लगा हुआ होता है, वहां के आस-पास की हवा शुद्ध रहती है।
वास्तु शास्त्र में भी तुलसी के पौधे का है महत्व

वास्तु शास्त्र में भी तुलसी के पौधे का अपना अलग ही महत्व है। जानकारों के अनुसार जिन घरों में तुलसी का पौधा होता है वहां पर हमेश सकारात्मक ऊर्जा रहती है। वास्तु के नियम के अनुसार उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में तुलसी का पौधा लगाना शुभ और अच्छा माना गया है। वास्तु में तुलसी के पौधे और पत्तों के संबंध में कुछ उपाय बताए गए हैं। नौकरी और कारोबार में तरक्की के लिए गुरुवार को तुलसी का पौधा पीले कपड़े में बांधकर, ऑफिस या दुकान में रखें। ऐसा करने से कारोबार बढ़ेगा और नौकरी में प्रमोशन का लाभ मिलता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारकर्नाटक: शनिवार व रविवार को भी खुलेंगे बाजार लेकिन एक शर्त हैIND vs SA: मायूस विराट कोहली के चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.