मानव तस्‍करी को लेकर लखनऊ के दो मेड‍िकल कॉलेजों की होगी जांच, सीएम योगी ने द‍िए आदेश

- साजिश के तहत युवक की तबीयत और बिगाड़ दी गई
- बहन को सुनाई भर्ती मरीजों के साथ गलत काम होने की दास्तां

By: Neeraj Patel

Published: 25 Nov 2020, 04:34 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने मानव तस्करी के मामले को लेकर राजधानी लखनऊ शहर के दो मेडिकल कॉलेजों की जांच के आदेश दिए हैं। शहर के दो मेडिकल कॉलेजों पर कोविड मरीज के अंग तस्करी करने के आरोप लगे हैं। इलाज में लापरवाही के साथ-साथ कोविड मरीजों के अंग तस्करी की शिकायत को देखते हुए दोनों कॉलेजों की जांच का फैसला लिया गया है।

दरअसल, चिनहट के पक्का तालाब निवासी शिव प्रकाश पांडेय का बेटा आदर्श कमल पांडेय (27) 11 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव हो गया था। 15 सितंबर को आदर्श कमल पांडेय को इंटीग्रल मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया। यहां भर्ती आदर्श ने बहन को वाट्सएप पर मैसेज किए। उसने भर्ती मरीजों के साथ गलत काम होने की दास्तां बयां की। साथ ही मरीजों के अंग निकालने की आशंका जताई। वह इन मरीजों का गवाह बनना चाहता था। आरोप है कि इसके बाद आदर्श कमल को सामान्य वार्ड से आइसीयू में पहुंचा दिया गया। घबराए आदर्श कमल ने 22 सितंबर को बहन से तत्काल अस्पताल से निकालने का हवाला दिया। देर होने पर उसने मार डालने की बात कही।

ऐसे में परिवारजनों ने आनन-फानन में अफसरों को फोन कर रात करीब 12 बजे आदर्श कमल को एरा मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कराया। आरोप है कि पहले मेडिकल कॉलेज से एरा के स्टाफ को फोन कर दिया गया। साजिश के तहत युवक की तबीयत और बिगाड़ दी गई। स्‍थ‍िति यह है कि‍ 26 सितंबर को घर वालों को पहले मरीज ठीक बताया गया। वहीं 15 मिनट बाद दोबारा फोन कर आदर्श की मौत की सूचना दी गई। परिवारजनों ने मेडिकल कॉलेज पर आदर्श कमल को मार डालने का आराेप लगाया।

मेडिकल कॉलेजों की जांच के लिए मंत्री-सांसद ने लिखा था पत्र

मोहनलाल सांसद कौशल किशोर से परिवारजन ने शिकायत की। ऐसे में सांसद ने मरीज के इलाज में लापरवाही के साथ-साथ मानवअंग तस्करी की आशंका का हवाला देकर एरा व इंटीग्रल मेडिकल कॉलेजों की जांच के लिए पत्र लिखा। इसके साथ ही कानून मंत्री बृजेश पाठक ने भी परिवारजनों की शिकायत को गंभीरता से लेते ही अफसरों को सीएम को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। ऐसे में अब सीएम ने टीम गठित कर मामले की जांच के आदेश दिए हैं। पीड़ित के चाचा जेपी पांडेय ने भी मानव अंग निकालने के आरोप लगाए। साथ ही जांच कमेटी को मरीज की घटना से संबंधित साक्ष्य मुहैया कराने का दावा किया।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned