योगी सरकार में कम हुई अपराध की घटनाएं, यूपी पुलिस ने जारी किए आंकड़े

सीएम योगी आदित्यनाथ के हांथ में प्रदेश की कमान आने के बाद अपराधों की संख्या में भारी कमी आई है।

लखनऊ. सीएम योगी आदित्यनाथ के हांथ में प्रदेश की कमान आने के बाद अपराधों की संख्या में भारी कमी आई है। यूपी पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक जनवरी से दिसंबर 2016 के बीच पूरे साल में 4679 हत्याओं के मामले सामने आए, जबकि योगी सरकार में यह संख्या घटकर 3294 रह गई हैं। साल-दर साल योगी सरकार में अपराधों की संख्या घटती चली गई।

यूपी पुलिस के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो योगी सरकार के आने के बाद यूपी में क्राइम लगातार कम हुए हैं। सपा सरकार के वक्त एक साल में (वर्ष 2016) हत्या, डकैती, लूट, बलात्कार और दहेज मृत्यु के 14,980 मामले दर्ज किए गए थे। जबकि योगी सरकार में जनवरी से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 10,064 मामले ही दर्ज हुए हैं। सपा सरकार की तुलना में भाजपा सरकार में करीब 5000 मामले कम हुए हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े

हत्या - वर्ष 2016 में 4679 हत्याएं हुईं। वर्ष 2017 में 4324 हत्याएं, वर्ष 2018 में 4018 हत्याएं और जनवरी 2019 से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 3294 हत्याएं हुईं।

डकैती - वर्ष 2016 में 263 डकैती हुई। वर्ष 2017 में 251 डकैती, वर्ष 2018 में 144 डकैती के मामले आए। जबकि जनवरी 2019 से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 91 डकैती के मामले दर्ज किए गए।

लूट - वर्ष 2016 में 4118 लूट की घटनाएं हुई। वर्ष 2017 में 4131 लूट, वर्ष 2018 में 3218 लूट के मामले हुए। जबकि जनवरी 2019 से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 1982 लूट के मामले दर्ज किए गए।

बलात्कार - वर्ष 2016 में 3481 मामले दर्ज हुए। वर्ष 2017 में 4272 मामले, वर्ष 2018 में 3946 मामले आए। जबकि जनवरी 2019 से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 2553 मामले दर्ज किए गए।

दहेज मृत्यु - वर्ष 2016 में 2439 मामले दर्ज हुए। वर्ष 2017 में 2543 मामले, वर्ष 2018 में 2444 मामले आए। जबकि जनवरी 2019 से लेकर 15 नवंबर 2019 तक 2144 मामले दर्ज किए गए।

Neeraj Patel
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned