scriptVaishakhi Buddha Purnima 2022 Pooja vidhi Muhoort Chandra Grahan Time | Buddha Purnima 2022: सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा, जानें शुभ मूहुर्त, होगा चंद्रग्रहण भूलकर भी न करें ये काम | Patrika News

Buddha Purnima 2022: सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा, जानें शुभ मूहुर्त, होगा चंद्रग्रहण भूलकर भी न करें ये काम

Vaishakhi Buddha Purnima 2022: इस साल बुद्ध पूर्णिमा सोमवार, 16 मई को मनाई जाएगी। वैशाख पूर्णिमा पर भगवान विष्णु और बुद्ध के साथ चंद्रदेव की पूजा का भी विधान है। साथ ही इस दिन चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) भी पड़ रहा है।

लखनऊ

Updated: May 12, 2022 11:01:37 am

पूरे देश में हर साल वैशाख पूर्णिमा के दिन बुद्ध जयंती भी मनाई जाती है। इस साल बुद्ध पूर्णिमा सोमवार, 16 मई को मनाई जाएगी। मान्यता है कि इस दिन बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध का जन्म नेपाल के लुंबिनी नामक जगह पर हुआ था। गौतम बुद्ध का बचपन का नाम सिद्धार्थ गौतम था। बुद्ध को भगवान विष्णु का नौवां अवतार बताया गया है। वैशाख पूर्णिमा पर भगवान विष्णु और बुद्ध के साथ चंद्रदेव की पूजा का भी विधान है। साथ ही इस दिन चंद्र ग्रहण भी पड़ रहा है। वैशाखी पूर्णि जानिए पूजा-विधि और शुभ मुहूर्त। बुद्ध पूर्णिमा का ये होता है महत्व।
Vaishakhi Buddha Purnima 2022 Pooja vidhi Muhoort Chandra Grahan Time
Vaishakhi Buddha Purnima 2022 Pooja vidhi Muhoort Chandra Grahan Time
जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त

डॉ सौऱभ शुक्ला के अनुसार वैशाख पूर्णिमा या बुद्ध पूर्णिमा सोमवार, 16 मई को है। बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त रविवार, 15 मई को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से लेकर सोमवार, 16 मई को 9 बजकर 45 मिनट तक रहेगा। बुद्ध पूर्णिमा के दिन बहुत से लोग व्रत रखते हैं। व्रत रखने वालों को इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लेना चाहिए। किसी पवित्र नदी, कुण्ड या फिर अपने घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल डालकर स्नान करें और वरुण देवता का ध्यान करें। स्नान करने के बाद सूर्य देवता को मंत्रों के उच्चारण के साथ अर्घ्य दें। फिर मधुसूदन भगवान की पूजा करें। पूजा के बाद दान पुण्य अवश्य करें। ऐसा माना जाता है इस दिन गंगा स्नान फलदायी होता है। साथ ही इस दिन दान करने से अक्षय पुण्य का फल प्राप्त होता है।
यह भी पढ़ें

इस योजना से जुड़िए, सरकार दे रही कम से कम 3000 हजार मंथली पेंशन की गारंटी, महिलाएं भी यहां करें Apply

बुद्ध पूर्णिमा का क्या है महत्व

गौतम बुद्ध के जन्म और मृत्यु के समय को लेकर मतभेद हैं। लेकिन कई इतिहासकारों ने इनका जीवनकाल 563-483 ई.पू. के मध्य माना है। पूरी दुनिया में महात्मा बुद्ध को सत्य की खोज के लिये जाना जाता है। कहा जाता है कि गौतम बुद्ध राजसी ठाठ छोड़कर वर्षों वन में भटकते रहे और उन्होंने कठोर तपस्या कर बोधगया में बोधिवृक्ष के नीचे सत्य का ज्ञान प्राप्त कर लिया। इसके बाद महात्मा बुद्ध ने अपने ज्ञान से पूरी दुनिया में एक नई रोशनी पैदा की। धार्मिक मान्यताओं अनुसार बुद्ध देवता को भगवान विष्णु का नौवां अवतार माना जाता है। इसलिए बुद्ध पूर्णिमा को बौद्ध धर्म के अनुयायियों के साथ हिंदू धर्म के लोग भी मनाते हैं। उत्तर भारत में भगवान विष्णु का 9वां अवतार बुद्ध को माना जाता है। सभी पूजा अर्चना भी करते हैं।
यह भी पढ़ें

दो रुपए में मिलेगा एक लीटर स्वच्छ व शुद्ध पानी, आईआईटी कानपुर ने बनायी डिवाइस

ग्रहण के समय न करें ये काम

ग्रहण लगने के बाद कभी भी तुलसी का स्पर्श नहीं करना चाहिए। इस दौरान तुलसी के पत्ते तोड़ लेना भी गलत माना जाता है। ग्रहण लगने के बाद भगवान की किसी भी मूर्ति को स्पर्श करने से जीवन में गलत प्रभाव पड़ सकता है। ग्रहण लगने के बाद काटने, सिलने या छिलने आदि का काम नहीं करना चाहिए। ग्रहण लगने के बाद ना तो सोना चाहिए और ना बाहर जाना चाहिएय़ ग्रहण लगने के बाद पानी पीना बाल बनाना, कपड़े धोना, ताला खोलना, तेल लगाने जैसे काम बिल्कुल नहीं करने चाहिए। ग्रहण खत्म होने के बाद पितरों के नाम से दान करना अच्छा माना जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Texas Shooting: अमरीकी राष्ट्रपति ने टेक्सास फायरिंग की घटना को बताया नरसंहार, बोले- दर्द को एक्शन में बदलने का वक्तजातीय जनगणना सहित कई मुद्दों को लेकर आज भारत बंद, जानिए कहां रहेगा इसका ज्यादा असरमहंगाई से जंग: रिकॉर्ड निर्यात से घबराई सरकार, गेहूं के बाद अब 1 जून से चीनी निर्यात भी प्रतिबंधितआंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलरिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगदिल्ली के नरेला में एनकाउंटर, बॉक्सर गैंग का शातिर शार्प शूटर अरेस्टESIC MTS Result 2022 : ESIC MTS फेज 1 का परिणाम जारी, ऐसे चेक करें स्कोरकार्डRajasthan : सिर्फ 5 दिन का कोयला शेष, छत्तीसगढ़ से जल्दी नहीं मिली मदद तो गंभीर बिजली संकट में डूबने की चेतावनी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.