scriptWater crisis: Electricity department cut the line of pump house | जल संकट: विद्युत विभाग ने काटी पंप हाउस की लाईन | Patrika News

जल संकट: विद्युत विभाग ने काटी पंप हाउस की लाईन

एक सप्ताह से जल संकट से गुजर रहे पिपरिया वासी, वित्तीय प्रभार ना होने से बनी स्थिति

मंडला

Updated: December 07, 2021 12:46:59 pm

जल संकट: विद्युत विभाग ने काटी पंप हाउस की लाईन
मंडला/निवास। विकासखंड निवास की जनपद निवास की ग्राम पंचायत पिपरिया में व्याप्त जल संकट कोई नई बात नहीं है, यहां कर्मियों की लापरवाही आए दिन देखने को मिलती है, जिसका खामियाजा यहां के लोगों को भुगतना पड़ता है। इसी लापरवाही का नतीजा है कि विगत एक सप्ताह से पिपरिया वासी पेयजल संकट से जूझ रहे है। यहां पंचायत द्वारा पेयजल योजना के तहत विद्युत कनेक्शन का बिजली बिल भुगतान नहीं किया गया है। जिसके कारण पेयजल योजना की विद्युत लाईन काट दी गई है।
जानकारी अनुसार पिपरिया पंचायत में करीब 150 नलजल योजना के तहत कनेक्शन है। जिससे यहां के लोगों को पेयजल उपलब्ध होता है। लेकिन पंचायत की लापरवाही के कारण यहां के वंशिदों को पानी नहीं मिल रहा है। लोगों को बूंद-बूंद पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। बताया गया कि यहां एक सप्ताह से ग्रामीण जल संकट से जूझ रहे हैं। पंचायत के द्वारा समय पर बिल जमा नहीं करने से ऐसे हालात बने है। बता दे कि पिपरिया में दो नलजल योजना संचालित है। जिससे पूरे गांव को पेयजल सप्लाई किया जा रहा है। सिंगपुर के पेयजल स्रोत से करीब 150 कनेक्शन को पानी सप्लाई की जाती है। लेकिन पेयजल योजना का बिजली बिल बकाया है। करीब 60 हजार रूपये पंचायत को बिल जमा करना है।
पंचायत में नहीं है सहायक सचिव :
बताया गया कि पिपरिया पंचायत में सहायक सचिव लक्ष्मी प्रसाद चक्रवर्ती का संविदा में नौकरी लगने के चलते वह स्कूल में शिक्षक के रूप में पदस्थ हो गए हैं ओर पंचायत में अभी किसी को वित्तीय प्रभार नहीं दिया गया। जिसके चलते पंचायत बिजली बिल जमा नहीं कर सकी। पिछले कुछ दिनों पूर्व बिजली विभाग के अधिकारी ग्राम पंचायत पिपरिया पहुंचे ओर सिंगपुर में ग्राम में स्थित पंप हाऊस पहुंचकर लाइन को काट दिया गया। करीब एक सप्ताह बीत चुके है। यहां आज तक बिजली बिल जमा नहीं हो सका। अब 150 कनेक्शन धारी बूंद बूंद पानी को तरस रहे हैं।

ग्रामीणों में है रोष:
ग्रामीणो को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। सोमवार को भी ग्रामीण बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान दिखे है। ग्रामीणो को हेण्डपंप व अन्य स्रोत से पानी लाना पड़ रहा है। जहां पानी के लिए लाइन लग रही है। पानी के लिए ग्रामीण को अब खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। कुछ दिन पहले ही बिजली विभाग ने नलजल योजना की लाइन काटी थी। यहां पेयजल सप्लाई बंद होने से ग्रामीणों में रोष देखा जा रहा है।
सहायक सचिव का नहीं दिए प्रभार :
बताया गया कि रोजगार सहायक के पास वित्तीय प्रभार था। पदस्थ रोजगार सहायक की शिक्षक के पद पर नियुक्ति हो गई है। जिसके बाद अब अन्य पंचायत के रोजगार सहायक को प्रभार दिया गया था पर वित्तीय प्रभार नहीं दिया गया। जिससे बिजली बिल पंचायत के द्वारा समय में जमा नहीं कराया गया है। करीब 60 हजार का बिल पंचायत को देना है लेकिन पंचायत समय पर बिजली बिल का भुगतान नहीं कर पाई। अब आदर्श आचार संहिता लग चुकी हैं जिससे अब बिल भुगतान करने में और समय लग सकता है। हालाकि पंचायत के वर्तमान सचिव द्वारा बताया गया कि हम लगातार जल संकट से निजात दिलाने के लिए उच्च आधिकारी से चर्चा की हैं की जल्द ही किसी कर्मी को वित्तीय प्रभार दे दिया जाएगा। जिससे समस्या का समाधान हो सके।
हैडपंप व कुंआ पर सुबह से लग रही भीड़:
पिछले एक सप्ताह से पिपरिया में भीषण जल संकट गहराया हुआ है यहां ग्राम में सार्वजनिक दो कुंआ व तीन हेड पंप है। जहां सुबह होते ही पानी के लिए लाईन लगना शुरू हो जाती है। लाईन लगाकर सब अपनी पारी का इंतजार करते हुए देखे जा सकते है। जिसके कारण ग्रामीणों के बीच आपस में तू-तू- मैं-मैं होने लगती है।
जल संकट: विद्युत विभाग ने काटी पंप हाउस की लाईन
जल संकट: विद्युत विभाग ने काटी पंप हाउस की लाईन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.