scriptbjp leader nanalal patidar passed away | भाजपा के दिग्गज नेता का निधन, प्रदेश में शोक की लहर | Patrika News

भाजपा के दिग्गज नेता का निधन, प्रदेश में शोक की लहर

जनसंघ से राजनीतिक जीवन की शुरुआत की, खतरे के कारण हमेशा 12 बोर की बंदूर साथ में रखते थे...।

मंदसौर

Updated: October 20, 2021 01:29:05 pm

मंदसौर। मध्यप्रदेश के भाजपा नेता एवं तीन बार विधायक रहे नानालाल पाटीदार का 88 वर्ष की आयु में निधन हो गया। मंदसौर जिले के ग्राम गुराड़िया प्रताप में उन्होंने अंतिम सांस ली। पाटीदार के निधन से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत अनेक दिग्गज नेताओं ने दुख व्यक्त किया है।

mandsaur.png
मंदसौर। भाजपा से तीन बार विधायक रहे हमेशा अपने साथ में बंदूक रखते थे।

मंदसौर जिले की सीतामऊ सीट से तीन बार विधायक रहे नानालाल पाटीदार का निधन हो गया। बुधवार सुबह उनका अंतिम संस्कार गृह ग्राम गुराड़िया प्रताप में किया गया। पाटीदार जनसंघ से राजनीतिक के शुरुआत कर भाजपा के तीन बार विधायक रह चुके हैं।

प्रदेश में शोक की लहर

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पाटीदार के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने अपने ट्वीट संदेश में कहा है कि जनसंघ से लेकर भाजपा तक जनसेवा के लिए सतत समर्पित हमारे वरिष्ठ नेता सुवासरा सीतामऊ मंदसौर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक श्री नानालाल पाटीदार जी के निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। पाटीदार जी के चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं।

चौहान ने कहा कि पाटीदार जी का जीवन गरीब कल्याण, कमजोर वर्ग के उत्थान का अभूतपूर्व अध्याय है। उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान कर अपने श्री चरणों में स्थान दें। शोकाकुल परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं।

nanalal-patidar.jpg

पाटीदार के जीवन पर एक नजर

  • नानालाल पाटीदार का जन्म 10 नवंबर 1933 को गुराड़िया प्रताप के किसान परिवार में हुआ था।
  • सुवासरा में शिक्षा पूरी करने के बाद शिक्षक बन गए।
  • राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़कर काम प्रारंभ किया।
  • 1956 में तहसील कार्यवाह बनाए गए थे।
  • जनसंघ की स्थापना के बाद पाटीदार राजनीति में आ गए थे।
  • सबसे पहले गुराडिया प्रताप ग्राम पंचायत में पंच रहे। सुवासरा से सरपंच बने।
  • जनसंघ के टिकट पर गरोठ विस से चुनाव भी लड़े पर पाटीदार पहली बार 1990 मे सीतामऊ विधानसभा से विधायक चुने गए। इसके बाद 1993 एवं 2003 में भी लगातार विधायक बने।
  • पाटीदार दो बार भाजपा के जिलाध्यक्ष भी रहे। भारतीय किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष बने। किसान संघ के संस्थापक सदस्यों में शामिल थे।

हमेशा बंदूक लेकर चलते थे पाटीदार

राजनीतिक जीवन में पाटीदार हमेशा संघर्षरत रहे। एक वक्त जब बीजेपी का झंडा उठाने में लोग डरते थे, तब पाटीदार ने हिम्मत दिखाते हुए संगठन के लिए काम किया। अपने क्षेत्र में खतरों को देखते हुए वे हमेशा अपनी सुरक्षा में 12 बोर की बंदूक रखा करते थे। बंदूक लेकर ही वे पार्टी के प्रचार-प्रसार में जुटे रहते थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूUP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'अलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.