बाल विवाह करने से रोका तो आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से की अभद्रता, तोड़ा मोबाईल

By: vikram ahirwar

Published: 24 Apr 2017, 11:34 AM IST


मंदसौर/रतलाम.
सीतामऊ के बसई ग्राम पंचायत के तखतपुरा गांव में 17 अप्रेल को अधिकारियों द्वारा रुकवाए गए बाल विवाह के बाद बालिका के परिजनों ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ अभद्रता की व उसका मोबाईल भी तोड़ दिया। परिजनों को शंका थी कि बाल विवाह की सूचना आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने ही अधिकारियों को दी होगी। परिजनों द्वारा अभद्रता किए जाने की सूचना आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने अधिकारियों को दी। इस पर अधिकारी पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे। उल्लेखनीय है कि गांव में बाल विवाह की सूचना प्राप्त होने पर विकासखंड महिला सशक्तिकरण अधिकारी विवेक पाटीदार ने 17 अप्रेल को मौके पर पहुंचकर जांच की थी तो बालिका उम्र 12 वर्ष पाई गई थी। इस पर अधिकारी ने परिजनों को बाल विवाह न करने की हिदायत दी थी। बालिका के पिता गोवर्धनसिंह परमार ने लिखित वचन-पत्र दिया कि वह अपनी बेटी का विवाह 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने के बाद ही करेगा। अवयस्क बालिका का विवाह 23 अप्रेल को होना था।
कार्यकर्ता से की अभद्रता
आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने ही विभागीय अधिकारियों को बाल विवाह की सूचना दी होगी इस शंका के चलते गत दिवस गोवर्धन सिंह एवं उसके परिजनों ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ता गुड्डी बाई विश्वकर्मा के साथ अभद्रता की एवं उसका मोबाईल भी तोड़ दिया। कार्यकर्ता ने घटनाक्रम से अधिकारी पाटीदार को अवगत कराया तो उन्होंने सुवासरा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कहा किंतु वह भय के कारण रिपोर्ट दर्ज नहीं कराना चाहती थी। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने भय के कारण जब रिपोर्ट करने से इंकार किया तो अधिकारी पाटीदार एवं बाल संरक्षण अधिकारी राघवेन्द्र शर्मा ने बसई चौकी प्रभारी मनोहरसिंह पुलिस बल के साथ गांव में पहुंचकर ग्रामीणों के सामने बालिका के परिजनों को बताया कि कार्यकर्ता अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रही है आप सभी के खिलाफ  बाल विवाह के साथ-साथ शासकीय कार्य में बाधा डालने का भी प्रकरण दर्ज कराया जाएगा तो सभी ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए सामूहिक रूप से आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से माफी मांगी एवं भविष्य में उसके साथ दुव्र्यवहार न करने का लिखित वचन-पत्र भी दिया तथा उसे उसी कंपनी का नया मोबाईल लाकर दिया।
----
विकासखंड महिला सशक्तिकरण अधिकारी विवेक पाटीदार ने बताया कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता रिपोर्ट नहीं कराना चाहती थी अत: पुलिस के सहयोग से ग्रामीणों को कड़ी हिदायत दी गई है कि यदि उन्होंने कोई भी गलती की तो विभागीय स्तर से उनके खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज कराया जाएगा। ग्रामीणों एवं परिजनों ने भविष्य में गलती नही करने का लिखित वचन दिया है एवं कार्यकर्ता से सामूहिक रूप से माफ़ी भी मांगी है।
सेवा प्रदाताओं को देंगे नोटिस
बाल संरक्षण अधिकारी राघवेन्द्र शर्मा ने बताया कि नाबालिग के विवाह की पत्रिका प्रिंट करने वाले श्री प्रिंटर्स सुवासरा एवं अन्नपूर्णा टैंट धामनिया एवं अन्य सेवा प्रदाताओं को कलेक्टर आदेश की अवहेलना एवं बाल विवाह का सहयोगी मानकर नोटिस जारी किए जाएंगे तथा उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।


Show More
vikram ahirwar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned