HDFC ने जारी किए Q4 के नतीजे, कंपनी को हुए 27 फीसदी का मुनाफा, डिविडेंड का किया ऐलान

HDFC ने जारी किए Q4 के नतीजे, कंपनी को हुए 27 फीसदी का मुनाफा, डिविडेंड का किया ऐलान

Shivani Sharma | Publish: May, 13 2019 04:41:25 PM (IST) बाजार

  • आवास लोन मुहैया कराने वाली प्रमुख कंपनी एचडीएफसी ( HDFC ) ने जारी किए चौथी तिमाही के नतीजे
  • शुद्ध लाभ मार्च 2019 में समाप्त चौथी तिमाही में 26.8 फीसदी बढ़ा है
  • इससे पिछले वित्त वर्ष की जनवरी-मार्च तिमाही में उसने 2,257 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था

नई दिल्ली। आवास लोन मुहैया कराने वाली प्रमुख कंपनी एचडीएफसी ( HDFC ) का एकल शुद्ध लाभ मार्च 2019 में समाप्त चौथी तिमाही में 26.8 फीसदी बढ़कर 2,862 करोड़ रुपए रहा है। एचडीएफसी ने सोमवार को यह जानकारी दी है। इससे पिछले वित्त वर्ष की जनवरी-मार्च तिमाही में उसने 2,257 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था।


एचडीएफसी ने दिया बयान

एचडीएफसी ने बयान में कहा कि समीक्षाधीन अवधि के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 11,586.58 करोड़ रुपए रही जो कि इससे एक साल पहले मार्च तिमाही में 9,322.36 करोड़ रुपए थी। तिमाही के दौरान एचडीएफसी की ब्याज से शुद्ध आय सुधरकर 3,161 करोड़ रुपए रही है। इसकी तुलना में एक साल पहले इसी तिमाही में यह आंकड़ा 2,650 करोड़ रुपए था। इसमें 19 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है।


डिविडेंड देने का किया ऐलान

कंपनी के निदेशक मंडल ने 17.50 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से अंतिम लाभांश देने का प्रस्ताव किया है। यह साढे तीन रुपए प्रति शेयर के अंतरिम लाभांश से अलग है। इस तरह कंपनी ने 2018-19 के लिए कुल 21 रुपए का लाभांश दिया जबकि 2017-18 में उसे 20 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से लाभांश दिया था। इसके अलावा निदेशक मंडल ने कारोबार वृद्धि के वित्त पोषण के लिए निजी नियोजन के आधार पर 1.25 लाख करोड़ रुपए तक के भुनाने योग्य गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर या अन्य साधन जारी करने की भी अनुमति दी है। ये इक्विटी शेयर के रूप में नहीं होंगे।


ये भी पढ़ें : जानिए साल 2004 से लेकर 2018 तक चुनावी चंदे का हाल, कौन सी पार्टी हुई मालामाल और कौन हुआ कंगाल


HDFC का बढ़ा मुनाफा

कंपनी ने नसीर मुंजी और जेजे ईरानी को फिर से स्वतंत्र निदेशक के रूप में नियुक्त करने की भी मंजूरी दे दी है। पूरे वित्त वर्ष 2018-19 के लिए एचडीएफसी ( HDFC ) का शुद् लाभ 12 फीसदी गिरकर 9,632.46 करोड़ रुपए रह गया। 2017-18 में उसे 10,959.34 करोड़ रुपए का लाभ हुआ था। एकीकृत आधार पर, कंपनी का शुद्ध मुनाफा 2017-18 में 13,111.21 करोड़ रुपए से बढ़कर 2018-19 में 17,580.51 करोड़ रुपए रहा।


कंपनी ने जारी किए आंकड़ें

कंपनी ने कहा कि 31 मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष के शुद्ध लाभ के आंकड़ों की तुलना 2017-18 के आंकड़ों से नहीं की जा सकती है। इसकी वजह 2017-18 में कंपनी का एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस के आईपीओ में शेयरों की बिक्री करना रही। कंपनी की एकीकृत शुद्ध आय 2018-19 में सुधर कर 96,194.87 करोड़ रुपए रही, जो कि 2017-18 में 79,819.60 करोड़ रुपए थी। पूरे वित्त वर्ष के लिए उसकी ब्याज से शुद्ध आय बढ़कर 11,403 करोड़ रुपए रही।


ये भी पढ़ें : सरकार ने इंफोसिस फाउंडेशन का पंजीकरण समाप्त किया, नियमों के उल्लंघन का है मामला


कंपनी को हुआ मुनाफा

इसकी तुलना में 2017-18 में उसे 9,635 करोड़ रुपये की आय हुई थी। इस दौरान 18 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। एचडीएफसी ने परिसंपत्ति गुणवत्ता के संबंध में कहा, उसका सकल गैर-निष्पादित कर्ज 31 मार्च 2019 तक 4,777 करोड़ रुपए रहा, यह उसके ऋण पोर्टफोलियो के 1.18 फीसदी के बराबर है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned